Daughter’s Boon: आदिवासी बाहुल्य धार जिले में बालिकाओं की जन्म दर में काफी सुधार

521
Daughter's Boon: आदिवासी बाहुल्य धार जिले में बालिकाओं की जन्म दर में काफी सुधार

Daughter’s Boon: आदिवासी बाहुल्य धार जिले में बालिकाओं की जन्म दर में काफी सुधार

Dhar MP: मध्यप्रदेश के आदिवासी बाहुल्य धार जिले में बालिकाओं की जन्म दर में काफी सुधार हुआ है। यही कारण है कि हर दूसरे आंगन में बेटी की किलकारियां गूंज रही है। जिले में लिंगानुपात में भी सुधार होने के कारण अब 1000 बालक पर 1056 बालिका जन्म ले रही है।

जिले में बालिका लिंगानुपात तेजी से बढ़ा है। 5 साल में 1000 लड़कों पर लड़कियों की संख्या 992 से बढ़कर 1056 हो गई जबकि प्रति हजार पुरुष 3 महिलाएं बड़ी ग्रामीण आबादी का हिस्सा जिले में ज्यादा छोटी-छोटी बसाहट और के कारण आबादी के मान से यह काफी बड़ी संख्या है। इसके बाद भी लिंगानुपात में सुधार होगा समान अंतर होना व्यवस्था में बदलाव का संकेत दे रहा है।

Daughter's Boon: आदिवासी बाहुल्य धार जिले में बालिकाओं की जन्म दर में काफी सुधार

इतना ही नहीं बेटियों के प्रति लोगों की सोच में भी अंतर देखने को मिला है पहले के दौर में बेटों की चाह के चलते बेटियों को कोख में ही मार दिया जाता था परंतु अब ऐसा नहीं है जिसके कारण अब यह आंकड़े तसल्ली देने वाले हैं।

Also Read:सांसद की अभद्र टिप्पणी पर देश भर के जैन समाज में आक्रोश, रतलाम में भी हुआ विरोध 

महिला बाल विकास के जिला कार्यक्रम अधिकारी सुभाष जैन ने बताया कि जिले में अब प्रति हजार बालक पर 1056 बालिका है जिसका कारण उन्होंने शासन के द्वारा चलाई जा रही विभिन्न योजनाओं को बताया। साथ ही बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ भी एक महत्वपूर्ण योगदान वाली योजना रही।

देखिये वीडियो: क्या कह रहे हैं, सुभाष जैन (जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास विभाग धार)