Death Feast of Living Daughter : बेटी ने भागकर शादी की, पिता ने उसके मृत्युभोज का फैसला किया!

बेटी ने पिता को पहचानने से इंकार कर दिया तो पिता ने बेटी को मृत घोषित कर शोक पत्र छपवा दिए!

5678
Death Feast of Living Daughter

Death Feast of Living Daughter : बेटी ने भागकर शादी की, पिता ने उसके मृत्युभोज का फैसला किया!

Bhilwara : जिले के रतनपुरा गांव की एक लड़की प्रिया ने घर वालों की मर्जी के खिलाफ भागकर शादी कर ली। 19 साल की इस लड़की के घर पर दांतल गांव के एक लड़के का आना-जाना था। दोनों की आंखें लड़ी और वे प्यार करने लगे। एक दिन दोनों घर से भाग गए और चुपचाप शादी कर ली।

परिवार ने दोनों को ढूंढा, जब नहीं मिले तो इस मामले की रिपोर्ट थाने में की गई। इसके बाद जब दबाव बढ़ा तो लड़की अपने पति के साथ थाने पहुंच गई। बताया जा रहा है कि जब वह नाबालिग थी तो परिवार ने उसी युवक से उसकी शादी तय की थी। कुछ महीने पहले दोनों परिवारों के बीच विवाद के कारण यह रिश्ता टूट गया। लेकिन, लड़की नहीं मानी और लड़के के साथ भाग गई। लड़की 17 मई से घर से लापता थी। उसकी मां ने हमीरगढ़ थाने में गुमशुदगी दर्ज कराई थी।

Also Read: Death of Bride & Groom : सुहागरात की सुबह दूल्हा-दुल्हन की मौत, कोई नहीं जान सका कि क्या हुआ!

रिपोर्ट के बाद लड़की अपने पति के साथ 1 जून को थाने पास पहुंची। उसने पुलिस को बताया कि वह 27 मई को 18 साल की हो गई है। एक जून को उसने आर्य समाज रीति से शादी कर ली और वह अपने पति के साथ रहना चाहती है। पिता अपनी बेटी को इस मामले में समझा रहे थे, तभी पुलिस वालों के सामने बेटी बोल पड़ी कि मैं नहीं जानती यह कौन हैं!

बेटी की इस हरकत पर पिता बेहद नाराज हुए। उन्होंने उसी समय बेटी से सारे रिश्ते तोड़ लिए। उसे अपने परिवार के लिए मृत घोषित कर दिया। 1 जून से 12 जून तक बारह दिन का शोक मनाया जा रहा है। बेटी को मृत समझकर ही उन्होंने 13 जून का मृत्यु भोज करने की ठान लिया। पिता ने बकायदा शोक संदेश छपवाकर रिश्तेदारों को भेजा जो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया।

Also Read: MP में नहीं थम रहा छात्रों को हिजाब में दिखाने का मामला 

यह मामला मंगरोप थाना क्षेत्र का है। बताया गया कि माता-पिता उसे समझाने भी गए थे, लेकिन वह मानने को राजी नहीं हुई। इसके बाद गुस्साए मां-बाप ने भी बेटी को मृत मान लिया और मृत्यु भोज पियर गोरणी (मृत्यु के बाद दिया जाने वाला भोज) का कार्यक्रम रखा।