Delhi Expressway: आगरा नेशनल हाईवे से जुड़ा दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस वे लिंक रोड!

जानिए क्या है सड़कों को जोड़ने वाला इंटरचेंज रूट!

557
जानिए क्या है सड़कों को जोड़ने वाला इंटरचेंज रूट!

Delhi Expressway: आगरा नेशनल हाईवे से जुड़ा दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस वे लिंक रोड!

Faridabad : सफर करने वाले यात्रियों के लिए दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस वे लिंक रोड को दिल्ली-आगरा नेशनल हाईवे के साथ जोड़ दिया गया। इसके लिए कैल गांव के पास इंटरचेंज तैयार हो गया। नेशनल हाईवे से एक्सप्रेस वे पर आना-जाना अब आसान हो गया। दिल्ली से आने वाले वाहनों को लंबा चक्कर लगाकर एक्सप्रेस वे पर आने-जाने से छुटकारा मिलने से सफर में राहत मिली है।

सभी तरफ उतार-चढ़ाव के लिए यूटर्न व स्लिप रोड आदि का निर्माण भी हो गया है। इससे पहले दिल्ली व बल्लभगढ़ की तरफ से आने वाले वाहनों को सीकरी से यूटर्न लेकर चढ़ना पड़ता था। अब ऐसा नहीं करना पड़ेगा। लिंक रोड का कैल गांव से सोहना तक का हिस्सा फरवरी में शुरू कर दिया गया था। उस समय तक बल्लभगढ़ की तरफ से दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे पर जाने वाले लोगों को सीकरी अंडरपास से यूटर्न लेना पड़ता था या फिर नेशनल हाइवे की सर्विस रोड पर रॉन्ग साइड चलकर एक्सप्रेसवे पर चढ़ना पड़ता था। अब NHAI ने कैल के पास इंटरचेंज पूरी तरह तैयार कर लिया है। एक्सप्रेसवे लिंक रोड को नैशनल हाइवे पार कराने के लिए फ्लाईओवर तैयार है।

नेशनल हाईवे के ऊपरी हिस्से में काम पूरा होने के बाद अब साहुपुरा के पास सोहना तक के हिस्से को एक्टिव कर दिया गया है। इस हिस्से में वाहनों की आवाजाही भी शुरू हो गई है। वहीं, कैल के बाद नेशनल हाईवे को एक्सप्रेसवे से जोड़ने के लिए इंटरचेंज भी तैयार है। यहां उतार-चढ़ाव, स्लिप रोड व यूटर्न के लिए अंडरपास बनाने का काम पूरा कर लिया गया है।

वहां साइन बोर्ड का ही काम बाकी
NHAI के आधिकारिक सूत्रों के अनुसार इंटरचेंज पर काम पूरा किया जा चुका है। बस यहां साइन बोर्ड आदि लगाने का काम बचा है, जिसे जल्द पूरा किया जाएगा। हालांकि वाहन चालकों ने अपनी सहूलियत के हिसाब से इसका इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है। अब साहुपुरा से लेकर सोहना तक के हिस्से का काम पूरा हो गया है। इसमें कैल गांव में नैशनल हाइवे को एक्सप्रेसवे से जोड़ने वाला इंटरचेंज भी शामिल है।

चढ़ने और उतरने के लिए अलग कट
दिल्ली, बल्लभगढ़ व NIT की तरफ से सोहना व जयपुर की तरफ जाने वाले लोगों को लंबा चक्कर लगाकर आने की जरूरत नहीं हैं। कैल के पास इंटरचेंज में उतार-चढ़ाव के लिए अलग-अलग कट हैं। एक्सप्रेसवे पर सोहना की तरफ से आने वाले जो लोग कैल के पास उतरना-चढ़ना चाहते हैं, उनके लिए अलग कट है।

लेकिन जयपुर जाने वाले ध्यान दें
बल्लभगढ़ व NIT फरीदाबाद की तरफ से जो लोग सोहना व जयपुर की तरफ जाना चाहते हैं, उन्हें अब सिकरी से घूमकर आने की जरूरत नहीं हैं। नैशनल हाइवे पर जाजरू के लिए बने रास्ते का इस्तेमाल कर एक्सप्रेसवे की सर्विस रोड तक पहुंच सकते हैं और सर्विस रोड से मुख्य सड़क पर चढ़ सकते हैं। यह लोग कैल पहुंचकर अंडरपास से भी सोहना की तरफ जाने वाले रास्ते पर जा सकते हैं। इसके लिए सर्विस रोड पर लगभग 10 से 15 मीटर रॉन्ग साइड चलना होगा।

जिन्हें नोएडा की तरफ जाना
बल्लभगढ़ व NIT की तरफ आने वाले जो लोग नोएडा व फरीदाबाद की तरफ जाना चाहते हैं, उनके एक्सप्रेसवे पर चढ़ने के लिए कट बनाया गया है। फरीदाबाद की तरफ से एक्सप्रेसवे आ रहे लोगों को नेशनल हाईवे पर उतरने के लिए कट दिया गया है। फरीदाबाद व नोएडा की तरफ से सर्विस रोड पर आ रहे लोगों को एक्सप्रेस पर चढ़ने के लिए भी कट बनाया गया है।

अभी कुछ काम बाकी
दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे लिंक रोड नोएडा में डीएनडी एक्सप्रेसवे से होते हुए सोहना में केएमपी एक्सप्रेसवे तक बनाया जा रहा है। यहां यह दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे के लिए बनाए जा रहे इंटरचेंज से कनेक्ट हो रहा है। यह 59 किलोमीटर लंबा एक्सप्रेसवे लगभग 3580 करोड़ रुपये की लागत से बनाया जा रहा है। तीन हिस्से में इसका निर्माण किया जा रहा है। पहले हिस्से में डीएनडी एक्सप्रेसवे से फरीदाबाद सेक्टर-37 तक सड़क बनाई जा रही है। इसमें सड़क का कुछ हिस्सा एलिवेटेड बनाया जा रहा है।
दूसरे हिस्से में सेक्टर-37 से कैल तक फरीदाबाद के बाईपास रोड को 12 लेन किया जा रहा है। वहीं, तीसरे हिस्से में कैल से सोहना में केएमपी एक्सप्रेसवे तक नई सिक्स लेन सड़क बनाई गई है। तीसरे हिस्से के तहत साहुपुरा से सोहना तक की सड़क का काम पूरा हो चुका है, जिस पर ट्रैफिक चलने लगा है। इस एक्सप्रेसवे को 2024 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है।