Disturbances in Education Committee : भाजपा के पूर्व मंत्री कमल पटेल के घर EOW की टीम पहुंची!

हाईकोर्ट की फटकार के बाद जांच, पत्नी और बेटे के नाम रजिस्टर्ड शिक्षा समिति में गड़बड़ी का मामला

881

Disturbances in Education Committee : भाजपा के पूर्व मंत्री कमल पटेल के घर EOW की टीम पहुंची!

Harda : फ्रेंड्स वेलफेयर एजुकेशन सोसायटी में गड़बड़ी की जांच के मामले ने हाईकोर्ट की टिप्पणी के बाद गति पकड़ ली। इस मामले की शिकायत समिति के ही सदस्य विपिन अग्रवाल ने 2017 में ईओडब्ल्यू (आर्थिक अपराध अनुसंधान) से की थी, लेकिन राजनीतिक दबाव में शिकायत दर्ज नहीं की गई। तब से ही शिकायत ठंडे बस्ते में पड़ी थी। संस्कार विद्यापीठ स्कूल की जमीन और उसकी संपत्तियों को बेचने के मामले में ईओडब्ल्यू की चार सदस्यीय टीम शनिवार को हरदा पहुंची।

यह सोसायटी भाजपा के पूर्व मंत्री कमल पटेल की पत्नी और बेटे के नाम से रजिस्टर्ड है। विपिन अग्रवाल ने हाईकोर्ट में याचिका दायर करके शिकायत पर संज्ञान लेने की थी। हाईकोर्ट ने शुक्रवार को एसपी ईओडब्ल्यू को 3 दिन में जांच रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए। शनिवार को ही ईओडब्ल्यू ने एफआईआर दर्ज कर ली।

हाईकोर्ट में याचिका की सुनवाई चीफ जस्टिस रवि मलिमठ और जस्टिस विशाल मिश्रा की डिवीजन बेंच में हुई। कोर्ट ने इस मामले में की गई कार्रवाई की रिपोर्ट मांगी है। मामले की अगली सुनवाई 28 फरवरी को तय की गई है। हाईकोर्ट की नाराजगी के बाद ईओडब्ल्यू ने इस प्रकरण में पीई दर्ज करते हुए जांच शुरू कर दी। शनिवार को इसी क्रम में जांच करने ईओडब्ल्यू की टीम शिकायतकर्ता के घर पहुंची थी। टीम चार घंटे तक वहां मौजूद रही। टीम हरदा में रुकी है। शिकायतकर्ता विपिन अग्रवाल ने कहा कि दो दिन बाद वह इस मामले में पूरे तथ्य मीडिया के सामने रखेंगे।

शिकायत के मुताबिक, सोसायटी की जमीन को आपस में बांट लिया गया। हरदा में 6 एकड़ भूमि के मालिकों ने डायवर्सन की मंजूरी लेकर सोसायटी के पक्ष में भूमि का पट्टा निष्पादित कर दिया। सोसायटी ने स्कूल भवन और उसके बाद स्कूल के निर्माण के लिए मप्र वित्त निगम से 2 करोड़ और 1.50 करोड़ रुपए लोन भी ले लिया। स्कूल बिल्डिंग का निर्माण कर सोसायटी के सदस्यों ने सोसायटी की जमीन की बंदरबांट की। सोसायटी के सदस्यों ने पंजीकृत विक्रय द्वारा भूमि को लोकेश पटेल और अन्य व्यक्तियों के पक्ष में बेच दिया। इस संबंध में गड़बड़ी की शिकायत हुई, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई।

ईओडब्ल्यू की टीम शिकायतकर्ता से मिली
टीम ने सबसे पहले शिकायकर्ता से मिलकर गड़बड़ी से संबंधी जानकारी और कुछ महत्वपूर्ण दस्तावेज लिए। स्कूल संचालन में पूर्व कृषि मंत्री कमल पटेल के परिवार के लोग जुड़े हैं। विपिन अग्रवाल ने 2015-16 में संस्कार विद्यापीठ स्कूल की जमीन और अन्य संपत्तियों की गलत तरीके से की गई बिक्री की शिकायत ईओडब्ल्यू, लोकायुक्त, हरदा कलेक्टर से की थी। लेकिन, किसी ने भी इस मामले में 9 साल तक कोई कार्रवाई नहीं की। इसके बाद शिकायतकर्ता ने मामले को लेकर जबलपुर हाईकोर्ट में याचिका लगाई।

याचिका में 14 लोगों को पक्षकार बनाया गया
इस मामले में 14 लोगों गृह सचिव, लोकायुक्त एसपी भोपाल, कलेक्टर हरदा, रजिस्ट्रार हरदा, मप्र फाइनेंस कारपोरेशन के रीजनल मैनेजर, अध्यक्ष नवीन पटेल फ्रेंड वेलफेयर एजुकेशन सोसायटी लाल बहादुर शास्त्री वार्ड हरदा, सुरेंद्र जैन, पूर्व अध्यक्ष फ्रेंड वेलफेयर शिक्षा समिति हरदा, साधना जैन हरदा, संग्राम जैन हरदा, राजीव जैन हरदा, राकेश पटेल राता तलाई हरदा, संदीप पटेल राता तलाई हरदा, लोकेश पटेल हरदा, नवीन पटेल हरदा को पक्षकार बनाया गया है।