ED Seized 1.4 करोड़, कोयला तस्करी की ब्लैक मनी हो रही थी व्हाइट

756
ED Seized

 ED seize 1.4 करोड़, कोयला तस्करी की ब्लैक मनी हो रही थी व्हाइट

प्रवर्तन निदेशालय ने एक कंपनी परिसर में छापेमारी कर 1.4 करोड़ रुपये नकद जब्त किए हैं.साथ ही एक ऐसे व्यक्ति की पहचान की है जो कथित रूप से एक मंत्री के कोयला तस्करी से अर्जित अवैध धन का प्रबंधन कर रहा था.

ये जानकारी आज ईडी की तरफ से दी गई है.ईडी ने एक बयान जारी कर कहा कि उसने बुधवार को पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में अर्ल स्ट्रीट स्थित गजराज समूह के परिसरों पर छापेमारी की.

ईडी ने कहा कि यह कार्रवाई उस खास खुफिया जानकारी के आधार पर की गई, जिससे पता चला था कि एक बहुत ही प्रभावशाली राजनीतिक नेता अपने करीबी विश्वासपात्र मनजीत सिंह ग्रेवाल के जरिए कोयला तस्करी से होने वाली अवैध कमाई को व्हाइट करने का प्रयास कर रहा है.बयान में कहा गया कि जब्त की गई 1.4 करोड़ रुपये की नकदी बेहिसाबी थी. यह नकदी सालासर गेस्ट हाउस नाम की एक प्रॉपर्टी की कीमत के रूप में दी जानी थी. इस प्रॉपर्टी के लिए करीब नौ करोड़ रुपये का भुगतान किया जाना था. जब्त की गई रकम भी उसी में इस्तेमाल होनी थी.

ED ने जब्त किए 1.5 करोड़

ईडी ने कहा कि इस संपत्ति की मार्केट कीमत 12 करोड़ रुपये से ज्यादा है. जब कि प्रॉपर्टी की खरीद करीब तीन करोड़ रुपये दिखाई गई है. इस प्रॉपर्टी को कम कीमत पर खरीदा जा रहा था.जानकारी ते मुताबिक जांच एजेंसी ने कोलकाता की कई जगहों पर छापेमारी की थी.एक बिजनेसमैन के घयर पर रेड मारकर ईडी ने उससे काफी समय तक पूछताछ की. जिसके बाद उसे हिरासत में ले लिया गया.मंजीत सिंह कोलकाता का बहुत ही नामी व्यापारी है. उसके पास से बड़ी संख्या में कैश बरामद किया गया.

कोयला तस्करी से जुड़े मामले के तार

मामले के तार कोयला तस्करी से जुड़े बताए जा रहे हैं. जानकारी के मुताबिर कोयला तस्करी का पैसा व्हाइट होने के लिए बिजनेसमैन के पास आता था. इस बात की जानकारी जैसे ही जांच एजेंसी को लगी. उन्होंने तुरंत छापेमारी शुरू कर दी. काफी लंबी पूछताछ के बाद ईडी ने उसे हिरासत में ले लिया. साथ ही उसके ठिकाने से डेढ़ करोड़ के करीब कैश भी जब्त किया गया. इस कैश का इस्तेमाल किसी प्रॉपर्टी खरीद के लिए किया जाना था.