यूजर ने TV के 'राम' अरुण गोविल से पूछा- कोरोना से कब छूटेगा पीछा, मिला ये जवाब

यूजर ने TV के 'राम' अरुण गोविल से पूछा- कोरोना से कब छूटेगा पीछा, मिला ये जवाब

मीडियावाला.इन।

मुंबई। कोरोना वायरस महामारी के चलते देशव्यापी लॉकडाउन लगा हुआ, जो 17 मई तक चलेगा। लॉकडाउन के बीच दर्शकरों के मनोरंजन को ध्यान में रखते हुए एक बार फिर दूरदर्शन पर 'रामायण' (Ramayan) को टेलीकास्ट किया गया। जैसे ही ये धार्मिक शो टीवी पर आया, इसे लेकर लोगों में क्रेज सोशल मीडिया पर नजर आने लगा है। वहीं, 'रामायण' में भगवान राम का किरदार निभाने वाले अभिनेता अरुण गोविल ने अपने एक फैंस से सीधे बात की और कोरोना वायरस के एक सवाल का जवाब भी दिया। आप भी जानिए अरुण गोविल ने इसका क्या जवाब दिया...

यूजर ने पूछा- प्रभु कोरोना से कब छूटेगा पीछा

दरअसल, हाल ही में अपने फैंस से सीधे संपर्क करने के लिए अभिनेता अरुण गोविल ने ट्विटर पर #AskArun के जरिए सभी को उनसे सवाल पूछने के लिए आमंत्रित किया। वहीं इस दौरान उनसे फैंस ने कई अजीबो-गरीब सवाल पूछे, अरुण ने सभी सवालों के जवाब भी दिए। इसी बीच उनसे एक फैन ने पूछ लिया- 'कोरोना वायरस से कब पीछा छूटेगा प्रभु?' इस सवाल का जवाब तो अभी तक कोई वैज्ञानिक भी अभी तक नहीं दे पाए हैं, उसका साधारण सा जवाब अरुण गोविल ने दे दिया है। उन्होंने यूजर के सवाल पर बोला- सभी के प्रयास से जल्दी छूटेगा। उन्होंने इस जवाब के जरिए फैंस को कोरोना वायरस से सुरक्षा के लिए प्रयासों को तेज करने की भी नसीहत दे दी।

 

शनिवार को शो का हुआ आखिरी प्रसारण

बात करें 'रामायण' की तो शनिवार को इस धार्मिक कार्यक्रम के आखिरी शो का प्रसारण हुआ है। शो समाप्त होते ही ट्व‌िटर पर #Ramayana, #UttarRamayanfinale समेत कई ट्रेंड शुरू हो गए। इस पर लोग कई तरह की बहस-मुबाहिसें भी करते दिखे। कोई आखिरी दृश्य में मां सीता के धरती मां की गोद में समा जाने को अपनी जिंदगी का सबसे ज्यादा दर्दभरा सीन बता रहा था तो कोई पूरे परिवार के साथ रामायण देखने की तस्वीरें पोस्ट कर रहा है। साथ ही धारावाहिक के निर्देशक रामानंद सागर को लेकर भी लोग चर्चाएं कर रहे हैं।

 

7.7 करोड़ लोगों ने देखा रामायण

16 अप्रैल को रामायण को दुनिया में सर्वाधिक लोगों द्वारा टीवी पर देखा गया। इस दिन कुल 7.7 करोड़ लोगों ने रामायण को टीवी पर देखा। बता दें कि रामायण धारावाहिक हिंदी ग्रंथ रामायण पर आधारित है, जिसमे भगवान राम के जीवन यात्रा को दिखाया गया है। इस धाराविक में भगवान राम के बचपन से लेकर, वनवास, रावण के वध तक की यात्रा को दिखाया गया है। किस तरह से भगवान रावण का वध करके सीता माता को लेकर वापस अयोध्या लौटते हैं, इस खूबसूरत यात्रा को इस टीवी सीरियल के माध्यम से दिखाया गया है।

 

लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज हुआ था नाम

बता दें कि रामायण टीवी सीरियल को पहली बार 25 जनवरी 1987 को टीवी पर प्रसारित किया गया था जोकि एक वर्ष से भी अधिक समय तक चला और इसका आखिरी एपिसोड 31 जुलाई 1988 को टीवी पर प्रसारित किया। इस सीरियल को हर रविवार को सुबह 9.30 बजे प्रसारित किया जाता था। जून 2003 तक रामायण सीरियल का नाम पौराणिक धारावाहिक के तौर पर दुनिया में सबसे ज्यादा देखे जाने वाले धारावाहिक के तौर रूप में लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में दर्ज था।

 

source: oneindia.com

RB

0 comments      

Add Comment