Expressway Starts From 20th September : मुंबई-दिल्ली एक्सप्रेस-वे का MP हिस्सा 20 सितंबर से शुरू 

पहले दिन से ही वाहनों से टोल वसूली होगी, निर्धारित गति 120 किमी तय! 

1440

Expressway Starts From 20th September : मुंबई-दिल्ली एक्सप्रेस-वे का MP हिस्सा 20 सितंबर से शुरू 

Indore : बहुप्रतीक्षित मुंबई-दिल्ली एक्सप्रेस-वे पर वाहनों की आवा-जाही 20 सितंबर से शुरू हो रही है। इसका सबसे ख़ास पक्ष यह है कि 8 लेन वाले इस एक्सप्रेस-वे पर पहले दिन से ही वाहनों से टोल-टैक्स लगने लगेगा। प्रदेश के तीन जिलों रतलाम, मंदसौर और झाबुआ जिले से गुजरने वाले एक्सप्रेस-वे पर टोल-टैक्स वसूलने की पूरी तैयारी कर ली गई।

नेशनल हाईवे अथारिटी आफ इंडिया के इस 1380 किमी लंबे एक्सप्रेस-वे का 244.5 किलोमीटर में से 90 किमी रतलाम जिले में,51 किमी झाबुआ जिले में और सबसे ज्यादा 102 किमी हिस्सा मंदसौर में आता है। एक्सप्रेस-वे के मध्यप्रदेश वाले हिस्से का लोकार्पण पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करने वाले थे। लेकिन, अब इसे बिना किसी तामझाम के शुरू किया जा रहा है।

इस एक्सप्रेस-वे पर टोल की दर लागत पर आधारित होगी। जिस खंड में पुल-पुलियाए व इंटरचेंज ज्यादा होंगे वहां पर टोल-टैक्स ज्यादा लगेगा। राजस्थान के दौसा वाले हिस्से के मान से कार व हल्के वाहनों के लिए टोल की दर 2.20 रुपए से 2.25 रुपए प्रति किलोमीटर तक हो सकती है। लेकिन, बड़े यात्री वाहनों और ट्रकों के लिए यह दर 7 से 7.35 रुपए तक हो सकती है। अभी टोल-टैक्स की दरों की जानकारी सार्वजनिक नहीं की गई, पर जल्द ही यह घोषित कर दी जाएगी।

 

मुंबई-दिल्ली के केंद्र में रतलाम 

मुंबई से दिल्ली तक के 1380 किमी के सफर में 12 से 13 घंटे लगेंगे। जबकि, अभी करीब 22 घंटे लगते हैं। गौर करने खास बात यह है कि रतलाम इस एक्सप्रेस-वे का केंद्र है और मुंबई और दिल्ली के लिए समान रूप से 6 से 7 घंटे का समय लगेगा। रतलाम के केंद्र में होने से इसका सबसे ज्यादा फ़ायदा भी रतलाम को होगा। रतलाम से धामनोद के समीप होकर व जावरा के भूतेड़ा के समीप इंटरचेंज होने से दो स्थानों से वाहनों की एक्सप्रेस-वे पर आवाजाही हो सकेगी। इससे बांंसवाड़ा, उज्जैन, आगर, इंदौर से आने वाले वाहन भी रतलाम या जावरा होकर ही निकलेंगे। रतलाम में बनने वाले मेगा इंडस्ट्रियल पार्क को भी एक्सप्रेस-वे से जोड़ा जाएगा। इससे यहां व्यापारिक व आर्थिक गतिविधियां बढ़ेंगी।

IMG 20230918 WA0023

स्पीड नियंत्रण के लिए सीसीटीवी 

इस एक्सप्रेस-वे पर वाहनों की निर्धारित गति 120 किमी की होगी। दो और तीन पहिया वाहनों को इस रास्ते पर आने की सख्त मनाही होगी। प्रवेश नहीं दिया जाएगा। 120 किमी प्रति से ज्यादा की स्पीड पर इस एक्सप्रेस-वे पर चालान कटेगा। स्पीड पर नियंत्रण के लिए सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। एक्सप्रेस-वे के प्रोजेक्ट मैनेजर मुताबिक, एक्सप्रेस वे पर वाहनों की आवाजाही 20 सितंबर से शुरू होगी। इस पर निर्धारित दरों से ही टोल वसूली होगी। हर सेक्शन में इसकी दर भी अलग-अलग है।

 

मध्यप्रदेश में कहां-कहां से गुजरेगा 

दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस-वे से उज्जैन, देवास, इंदौर को भी जोड़ा जाएगा। रतलाम केंद्र की सीमा के पास बने रेस्ट पाइंट पर ट्रामा सेंटर, होटल, रेस्टोरेंट,‎ फूड कोर्ट तैयार हो चुके हैं। खास बात है कि यहां एक‎ हेलिपैड भी बनाया गया है। दुर्घटना की इमरजेंसी‎ होने पर मरीजों को एयर लिफ्ट किया जा सकेगा। झाबुआ में तलावड़ा से महूड़ी का माल से यह एक्सप्रेस-वे रतलाम पहुंचेगा। फिर रावटी, सैलाना, पिपलौदा, व जावरा के कुम्हारी से गुजरकर लसूड़िया से मंदसौर जिले में पहुंचेगा। रतलाम जिले के 87 गांव दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस-वे पर आएंगे। इस एक्सप्रेस-वे पर गरोठ में शामगढ़ रोड और भानपुरा में नीमथुर से प्रवेश कर सकेंगे। . मंदसौर जिले में एक एंट्री सीतामऊ से भी मिलेगी. गरोठ और जावरा में लॉजिस्टिक हब बनाया जाएगा। मुंबई-दिल्ली एक्सप्रेस-वे जयपुर, किशनगढ़, अजमेर, कोटा, चित्तौड़गढ़, उदयपुर, भोपाल, उज्जैन, इंदौर, अहमदाबाद, वडोदरा और सूरत जैसे व्यापारिक केंद्र के बीच कनेक्टिविटी बढ़ेगी।