Farmers Movement : संयुक्त किसान मोर्चा ने किसानों के प्रदर्शन में कड़ा रुख अपनाया!

26 फरवरी को पूरे देश में 'ट्रैक्टर प्रदर्शन' किया जाएगा!

161

Farmers Movement : संयुक्त किसान मोर्चा ने किसानों के प्रदर्शन में कड़ा रुख अपनाया!

New Delhi : फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) पर कानूनी गारंटी और कृषि कर्ज माफी समेत अपनी मांगों को लेकर केंद्र सरकार पर दबाव बनाने के लिए किसान प्रदर्शन कर रहे हैं। संयुक्त किसान मोर्चा (गैर-राजनीतिक) और किसान मजदूर मोर्चा ‘दिल्ली चलो’ मार्च का नेतृत्व कर रहे हैं। वहीं, अब किसानों के प्रदर्शन में संयुक्त किसान मोर्चा ने भी कड़ा रुख अपना लिया।

MSP पर गारंटी कानून की मांग कर रहे किसानों के चल रहे विरोध प्रदर्शन के बीच किसान नेता राकेश टिकैत ने गुरुवार को घोषणा की है कि 23 मार्च को आक्रोश दिवस मनाया जाएगा। इसके साथ ही शुक्रवार को दिल्ली मार्च पर फैसला लिया जाएगा। इसके अलावा 26 फरवरी को देश के राजमार्गों पर संयुक्त किसान मोर्चा की तरफ से ट्रैक्टर मार्च आयोजित करेगा। वहीं, 14 मार्च को दिल्ली के रामलीला मैदान में महापंचायत बुलाई गई है। देश भर के किसान नेताओं से बात के बाद टिकैत ने कहा कि लोगों को सभी हाईवे के एक तरफ के उपयोग की अनुमति दी जाएगी।

‘ब्लैक फ्राइडे मनाएंगे’

टिकैत ने कहा खनौरी बॉर्डर पर विरोध प्रदर्शन में किसान की मौत पर संयुक्त किसान मोर्चा ‘ब्लैक फ्राइडे’ मनाएगा। इसे आक्रोश दिवस का नाम दिया गया है। टिकैत ने कहा कि हम केवल एक तरफ ही ट्रैक्टर चलाएंगे। उन्होंने कहा कि ‘कल (शुक्रवार) से हम अखिल भारतीय मेगा कार्यक्रम शुरू कर रहे हैं। पहला कार्यक्रम 23 फरवरी को काला दिवस या आक्रोश दिवस है।

26 फरवरी को पूरे देश में ‘ट्रैक्टर प्रदर्शन’ किया जाएगा। इसमें हम सरकार से डब्ल्यूटीओ छोड़ने के लिए कहेंगे। टिकैत ने कहा कि 14 मार्च को दिल्ली के रामलीला मैदान में अखिल भारतीय किसान मजदूर महापंचायत का आयोजन किया जाएगा। टिकैत ने कहा कि इस महापंचायत में हमें एक लाख से अधिक लोगों के शामिल होने की उम्मीद है।

दिल्ली का चारों तरफ से घेराव  

संयुक्त किसान मोर्चा की तरफ से राकेश टिकैत ने कहा कि ये लंबी लड़ाइयां हैं। हमें एक ‘मोर्चे’ से नहीं, दिल्ली को चारों दिशाओं से घेरना होगा, जैसा हमने पहले किया था। सभी किसानों को एक साथ रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि हम हरियाणा के मुख्यमंत्री और गृह मंत्री के खिलाफ (आईपीसी की) धारा 320 के तहत प्रदर्शनकारी किसान की हत्या का मामला दर्ज करने की मांग करते हैं। इस मौत की न्यायिक जांच की जाएगी। इस बीच, खाद्य सचिव ने एक ब्रीफिंग में उम्मीद जताई कि मार्च से गेहूं खरीद सीजन शुरू होने से पहले समाधान संभव था।

IMG 20240222 WA0094

दो दिन ‘दिल्ली चलो’ को रोका

पंजाब-हरियाणा सीमा पर दो प्रदर्शन स्थलों में से एक खनौरी सीमा पर झड़प में एक प्रदर्शनकारी की मौत हो गई। वहीं, लगभग 12 पुलिसकर्मियों के घायल होने के बाद किसान नेताओं ने बुधवार को ‘दिल्ली चलो’ मार्च दो दिन के लिए स्थगित कर दिया। किसान नेता सरवन सिंह पंधेर ने शंभू सीमा पर कहा कि वे शुक्रवार शाम को आगे की रणनीति तय करेंगे। हरियाणा सरकार ने किसानों के ‘दिल्ली चलो’ मार्च के मद्देनजर बुधवार को सात जिलों में मोबाइल इंटरनेट और एक साथ कई संदेश (SMS) भेजने की सेवाओं पर प्रतिबंध 23 फरवरी तक बढ़ा दिया। सरकार ने एक आदेश में कहा कि अंबाला, कुरुक्षेत्र, कैथल, जिंद, हिसार, फतेहाबाद और सिरसा जिलों में मोबाइल इंटरनेट सेवाओं पर प्रतिबंध रहेगा।