Flag March: विधानसभा चुनाव शांति से कराने भोपाल पुलिस ने 20 KM तक निकाला फ्लैग मार्च, पुलिस कमिश्नर, कलेक्टर हुए शामिल

35 फोर व्हीलर वाहनों में 300 पुलिस अधिकारी/कर्मचारियों द्वारा डेढ़ घंटे तक निकाला गया फ्लैग मार्च

496

Flag March: विधानसभा चुनाव शांति से कराने भोपाल पुलिस ने 20 KM तक निकाला फ्लैग मार्च, पुलिस कमिश्नर, कलेक्टर हुए शामिल

भोपाल: आगामी विधानसभा चुनाव शांतिपूर्ण रुप से संपन्न कराने एवं सुरक्षा व्यवस्था के मद्देनजर वरिष्ठ अधिकारियों के मार्गदर्शन में भोपाल पुलिस द्वारा आज शाम 5 बजे पुराने पुलिस कंट्रोल रूम से फोर व्हीलर वाहनों से व्यापक स्तर पर फ्लैग मार्च निकाला गया, जो कि नए व पुराने शहर के विभिन्न संवेदनशील इलाक़ों/क्षेत्रों में करीब डेढ़ घंटे में लगभग 20 किलोमीटर लंबे फ्लैग मार्च का समापन समानांतर रोड पर हुआ

 

*फ्लैग मार्च में उक्त अधिकारीगण रहे सम्मिलित-*

 

फ्लैग मार्च का नेतृत्व पुलिस आयुक्त श्री हरिनारायण चारी मिश्र द्वारा किया गया, जिसमें भोपाल कलेक्टर श्री आशीष सिंह, अतिरिक्त पुलिस आयुक्त श्री अवधेश गोस्वामी, अतिरिक्त पुलिस आयुक्त श्री अनुराग शर्मा तथा समस्त DCP, एडिशनल DCP, ACP, थाना प्रभारी सम्मिलित रहे।

 

*इन संवेदनशील क्षेत्रों व मार्ग में निकाला गया फ्लैग मार्च-*

 

फ्लैग मार्च का शुभारंभ पुराने पुलिस कंट्रोल रूम से 5 बजे होकर पीएचक्यु तिराहे के सामने से होते हुए शब्बन चौराहा, जिनसी तिराहा, चिकलोद रोड, लिली टॉकीज होते हुए काली मंदिर तिराहा, बुधवारा चौराहा, इतवारा, भारत टॉकीज चौराहा होते हुए पुल बोगदा, प्रभात, चौराहा, 80 फिट रोड होते हुए स्टेशन बजरिया तिराहा, भारत टॉकीज ओव्हर ब्रिज होते हुए संगम तिराहा, नादरा बस स्टेंड चौराहा, भोपाल टॉकीज चौराहा, सिंधी कॉलोनी, DIG बंगला, गणेश मंदिर होते हुए अग्रवाल धर्मशाला, पुट्ठों मिल होते हुए हनुमानगंज थाना के पीछे समानांतर रोड शाम 6:30 बजे पर समाप्त हुआ।

IMG 20231009 WA0130

*35 फोर व्हीलर वाहनों में निकाला गया फ्लैग मार्च-*

फ्लैग मार्च में जिप्सी, थाना मोबाइल, रुद्र, वज्र, बस इत्यादि वाहन समेत करीब 35 फोर व्हीलर वाहनों में भोपाल पुलिस कमिश्नरेट, रैपिड एक्शन फोर्स तथा विशेष सशस्त्र बल के अधिकारी/कर्मचारी समेत लगभग 300 पुलिस बल सम्मिलित रहा।

IMG 20231009 WA0131

उक्त फ्लैग मार्च से निश्चित ही आमजनों के मध्य सुरक्षा का वातावरण निर्मित होगा, पुलिस के प्रति विश्वास बढ़ेगा, साथ ही गुंडे, बदमाशों तथा असामाजिक तत्वों में पुलिस तथा कानून का खौफ पैदा होगा I