उज्जैन नगर की सुख-समृद्धि एवं रक्षा के लिए महाअष्टमी पर 40 मंदिरों में मदिरा की धार के साथ पूजा हुई

499

उज्जैन नगर की सुख-समृद्धि एवं रक्षा के लिए महाअष्टमी पर 40 मंदिरों में मदिरा की धार के साथ पूजा हुई

उज्जैन से मुकेश भीष्म की रिपोर्ट

उज्जैन : शारदीय नवरात्रि की महाष्टमी पर आज रविवार 22 अक्टूबर को चौबीस खंबा मंदिर पर प्रातः महालया और महामाया देवी को उज्जैन के कलेक्टर कुमार पुरूषोत्तम ने मदिरा का भोग लगाकर नगर पूजा की शुरुआत की। शासकीय पूजन के बाद ढोल-ढमाकों व ध्वज के साथ अधिकारी, कर्मचारियों का दल पैदल नगर के अन्य माता मंदिर और भैरव मंदिरों में पूजा के लिए निकला।

कलेक्टर कुमार पुरूषोत्तम ने चौबीस खंबा माता मंदिर पर मदिरा की धार अर्पित की। इसके बाद नगरवासियों ने भी देवी माता को मदिरा का भोग लगाया। अधिकारियों, कर्मचारियों और कोटवारों का दल 27 किलोमीटर लंबी नगर पूजा की यात्रा पर निकला। ढोल और ध्वज के साथ एक कोटवार हांडी लेकर आगे चल रहा था जिसमें से मदिरा की धार नगर परिक्रमा के दौरान बहती रहती है। इस दौरान काल भैरव, भूखी माता, चामुंडा माता, गढ़कालिका सहित नगर के 40 मंदिरों में पूजा की गई।

बता दें कि नगर की सुख-समृद्धि, रक्षा और मंगल कामना की दृष्टि से प्रतिवर्ष शारदीय नवरात्रि की महाअष्टमी को नगर पूजा की जाती है।

सम्राट विक्रमादित्य की आराध्य देवी शक्तिपीठ हरसिद्धि मंदिर में भी महाअष्टमी पर दोपहर 12 बजे शासकीय पूजा हुई।