Ganesh Chaturthi : खजराना गणेश का दो करोड़ के आभूषणों से श्रृंगार

देर रात से खजराना मंदिर में भक्तों की भीड़, शहर में कई जगह ट्रैफिक जाम

1180

ndore : कोरोना काल के बाद इस बार गणेश चतुर्थी पर शहर में लोगों की उत्साह भरी धूम रही। छुट्टी होने से सुबह से ही लोग मंदिरों में दर्शन करने और गणपति की प्रतिमा लेने निकल पड़े। शहर के हर इलाके में गणेश प्रतिमाओं की दुकानें लगने से ट्रैफिक भी जाम हुआ। सबसे ज्यादा रौनक खजराना मंदिर में रही। देर रात से ही लोग खजराना पहुंचना शुरू हो गए थे। कलेक्टर ने भी विधि विधान से खजराना गणेश का पूजन किया। गणेश चतुर्थी पर गणेश जी का श्रृंगार दो करोड़ के आभूषणों से किया गया। भगवन को सवा लाख मोदक का भोग लगाया गया।

खजराना गणेश मंदिर रातभर भक्तों के दर्शन के लिए खुला रहा। रात साढ़े 8 बजे से भगवान का श्रृंगार शुरू हुआ, जिसमें पांच घंटे लगे। दो साल से कोरोना प्रतिबंध झेल रहे खजराना गणेश मंदिर में इस साल गणेश चतुर्थी का पर्व धूमधाम से मना। भक्तों को दर्शन करने में कोई परेशानी न हो इसका भी ध्यान रखा गया। मंदिर में पुलिस व प्रशासन का अमला मुस्तैद है। अगले दस दिनों तक मंदिर में गणेशोत्सव के तहत भजन संध्या के साथ ही लड्‌डुओं का भोग भी रोजाना अर्पित किया जाएगा। रोज भगवान को 11-11 हजार अलग-अलग लड्‌डूओं के भोग अर्पित होंगे।

WhatsApp Image 2022 08 31 at 5.54.55 PM

बुधवार को कलेक्टर मनीष सिंह व निगम आयुक्त प्रतिभा पाल ने सपरिवार खजराना गणेश के दर्शन किए। भगवान गणेश का पूजन के साथ ध्वज पूजन भी किया गया। उन्होंने भगवान गणेश को सवा लाख मोदक का भोग अर्पित किया। कलेक्टर ने भक्तों की मौजूदगी में खजराना गणेश की आरती की। बुधवार पूरा दिन मंदिर में भक्तों की संख्या बढ़ती रही। कलेक्टर मनीष सिंह ने कहा कि आने वाले समय में शहर में सुख समृद्धि रहे। जिस प्रकार से शहर ग्रोथ कर रहा है इस प्रकार ग्रोथ होती रहे। बच्चों की एजुकेशन अच्छी हो। सबको रोजगार मिले। यहीं कामना भगवान गणेश से की है। शहर के नागरिकों ने जो इस शहर को स्वरूप दिया है, पूरे देश-विश्व में शहर प्रसिद्ध हुआ है। उम्मीद है कि गणेश जी का आशीर्वाद निरंतर बना रहेगा। शहर के राजा खजराना गणेश जी माने जाते है, हमेशा आशीर्वाद रहा है उनका। शहर फास्टेस्ट ग्रोइंग सिटीज में आ चुका है।

WhatsApp Image 2022 08 31 at 5.54.59 PM
रोज अलग-अलग भोग लगेगा
गणेश चतुर्थी पर सवा लाख मोदक का भोग लगने के बाद अगले 9 दिनों तक भगवान को अलग-अलग लड्‌डूओं का भोग लगेगा। इनमें गोंद के लड्‌डू, अजवाइन-सोंठ के लड्‌डू, बेसन के लड्‌डू, मोतीचूर के लड्‌डू, उड़द के लड्‌डू, मूंग के लड्‌डू, चावल के लड्‌डू, बड़ी बूंदी के लड्‌डू, तिल्ली के लड्‌डू और ग्यारस के दिन फरियाली लड्‌डूओं का भोग लगाया जाएगा। सभी दिन 11-11 हजार लड्‌डूओं का भोग लगेगा।

ट्रैजरी से आभूषण लाए 

मंदिर के पुजारी पं. अशोक भट्ट के मुताबिक। ट्रैजरी में रखे भगवान के आभूषण मंगलवार को ही मंदिर में लाए गए। रात करीब साढ़े 8 बजे से भगवान का दो करोड़ के स्वर्ण आभूषण से श्रृंगार किया गया। इसमें करीब पांच घंटे का समय लगा। तिल चतुर्थी और गणेश चतुर्थी पर इन आभूषणों से भगवान का श्रृंगार किया जाता है। गणेश चतुर्थी पर भगवान को सवा लाख मोदक का भोग अर्पित करने से पहले मध्य रात्रि को ही यह मोदक गर्भगृह में सजा दिए गए।

11 रसों से अभिषेक
समाजवादी इंदिरा नगर के श्री सिद्धि विनायक गणेश मंदिर में गणेशजी का 11 रस और पंचामृत से अभिषेककर श्रृंगार किया गया। गणेश मंदिर के महेश राठौर ने बताया मंदिर में जो मूर्ति विराजित है, यह भक्तों की हर मनोकामनाएं पूर्ण करती है। इस मुर्ती की विशेषता यहां है कि भगवान गणेश का स्वरुप काला है एंव रिद्धि सिद्धि भी काले स्वरूप में काले गणेश भक्तों की जल्द मनोकामनाएं पूर्ण करते हैं। मंदिर पर 10 दिनों आयोजन होंगे। 6 वर्ष पूर्ण होने पर 5 सितंबर को गणेश जी का प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव मनाया जाएगा|