Ghosi By-Election : INDIA की एकजुटता से घोसी उपचुनाव SP ने जीता!

अखिलेश यादव ने कहा 'जीता तो एक विधायक है, पर हारे कई दलों के भावी मंत्री!

304

Ghosi By-Election : INDIA की एकजुटता से घोसी उपचुनाव SP ने जीता!

Ghosi (UP) : उत्तर प्रदेश में हुए घोसी विधानसभा सीट के उपचुनाव में समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार सुधाकर सिंह चुनाव जीत गए। उन्होंने भाजपा के उम्मीदवार दारासिंह चौहान को बड़े अंतर से हराया। समाजवादी पार्टी ने घोसी विधानसभा सीट पर अपना कब्जा बरकरार रखा। यह सीट दारासिंह चौहान के इस्तीफे के कारण खाली हुई थी।

सपा के सुधाकर सिंह ने 42672 वोटों से यह जीत दर्ज की। इस जीत को लेकर अखिलेश यादव ने कहा कि ये झूठे प्रचार और जुमला जीवियों की पराजय है। ये दलबदल-घरबदल की सियासत करने वालों की हार है। उन्होंने कहा कि ये नतीजा भाजपा का अहंकार और घमंड चकनाचूर करने वाला है। ये एक ऐसा चुनाव है, जिसमें जीते तो एक विधायक हैं। पर. हारे कई दलों के भावी मंत्री हैं। यह ‘इंडिया’ टीम है और PDA रणनीति। जीत का हमारा ये नया फॉर्मूला सफल साबित हुआ है। घोसी की जनता को धन्यवाद। सुधाकर सिंह को जीत की बधाई।

पोस्टल बैलेट में भाजपा के दारासिंह चौहान ने बढ़त जरूर बनाई, ईवीएम खुलते ही समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार सुधाकर सिंह आगे निकलते गए। पहले राउंड में सुधाकर सिंह ने 178 वोटों की लीड ली। इसके बाद हर राउंड में लगातार जीत का अंतर बढ़ता गया। कांग्रेस समेत विपक्षी गठबंधन इंडिया (INDIA) के सभी दलों ने सपा उम्मीदवार सुधाकर सिंह को समर्थन दिया। जबकि, दारासिंह के समर्थन में एनडीए के घटक दलों ने प्रचार किया था। सुभासपा के नेता ओम प्रकाश राजभर ने घोसी में ही डेरा डाल दिया था। मुकाबला तगड़ा था और दारासिंह चौहान एक बार फिर घोसी के पहलवान साबित नहीं हो पाए। घोसी में बसपा ने भी अपना उम्मीदवार नहीं उतारा।

2012 में घोसी से जीते थे सुधाकर सिंह

घोसी उपचुनाव के दोनों दावेदार पहले भी इस सीट से जीत चुके हैं। 2012 में सुधाकर सिंह ने 73,688 वोटों के साथ जीत दर्ज की थी। दारासिंह चौहान 2022 में समाजवादी पार्टी के टिकट पर घोसी से चुने गए थे। 2022 में दारा सिंह चौहान को 1,08,430 वोट मिले थे। घोसी उपचुनाव 2023 के दौरान वोटरों का उत्साह कम ही नजर आया। 5 सितंबर को हुई वोटिंग के दौरान 50.30 लोगों ने ही वोट डाला था। जबकि, 2022 के विधानसभा चुनाव में 58.53 फीसदी लोगों ने वोटिंग की थी।

2019 में भाजपा ने जीत दर्ज की

2017 में घोसी सीट से फागू चौहान ने जीत दर्ज की थी। उन्हें 88,298 वोट मिले थे। फागू चौहान ने 1996 और 2002 में भी घोसी सीट से जीत दर्ज की थी। 2019 में फागू चौहान बिहार के राज्यपाल बनाए गए तब घोसी में उपचुनाव हुए। भाजपा ने विजय राजभर को मैदान में उतारा और वह चुनाव जीत गए। 1952 में हुए पहले चुनाव में सीपीआई के झारखंडेय पांडेय घोसी से विजेता बने। उन्हें तब सिर्फ 15525 वोट ही मिले मगर पांच हजार के अंतर से जीत भी गए। पांडेय ने लगातार तीन चुनावों में जीत हासिल की और 1967 तक घोसी का यूपी विधानसभा में प्रतिनिधित्व करते रहे।