IMF Chief की चेतावनी: ‘बेहद मुश्किल’ स्थिति में Global Economy

673

IMF Chief की चेतावनी: ‘बेहद मुश्किल’ स्थिति में Global Economy

Global Economy : महंगाई, बढ़ती ब्याज दरें, बढ़ती फूड और एनर्जी प्राइस, साथ ही जलवायु परिवर्तन, धीमा विकास और मंदी, ये सभी आज कई देशों के लिए समस्याएं पैदा कर रहे हैं.

बढ़ती कीमतों की वजह से ग्लोबल सेंट्रल बैंकों ने अपनी मॉनेटरी पॉलिसी को काफी सख्त कर दिया है. हालांकि, अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) की प्रबंध निदेशक (MD) क्रिस्टालिना जॉर्जीवा का मानना है कि कई देशों में ग्लोबल इंफ्लेशन का असर कम देखने को मिला है. उसके बाद भी जॉर्जीवा का कहना है कि ग्लोबल इकोनॉमी अभी भी बहुत दबाव में है.

जॉर्जीवा ने कहा ने कहा कि ग्लोबल इकोनॉमी अभी भी बहुत कठिन स्थिति में है. 2023 में ग्लोबल ग्रोथ धीमा हो रहा है लेकिन यह एक महत्वपूर्ण मोड़ हो सकता है. आईएमएफ चीफ ने कहा कि झटकों को बेहतर ढंग से झेलने के लिए, अधिकारियों को सभी लेवल पर फ्लेक्सिबिलिटी को बढ़ावा देने पर अधिक ध्यान देना चाहिए.

आईएमएफ ने की थी कई भविष्यवाणी

2022 में 8.8 फीसदी की वृद्धि के बाद, आईएमएफ ने जनवरी में भविष्यवाणी की थी कि ग्लोबल कंज्यूमर प्राइस हाइक 2023 में घटकर 6.6 फीसदी हो जाएगी, जो अक्टूबर के पूर्वानुमान से 0.1 फीसदी अधिक है. 2024 में, इसने 4.3 फीसदी तक और मंदी की भविष्यवाणी की. लगभग 84 फीसदी देशों में, 2022 की तुलना में 2023 में महंगाई की दर कम होने का अनुमान है. IMF ने एक साल में पहली बार उसी रिपोर्ट में ग्लोबल इकोनॉमिक ग्रोथ के अपने पूर्वानुमान में वृद्धि की.

जॉर्जीवा ने 14 फरवरी को कहा कि कई देशों में महंगाई अंतत: कम हो रही है. 2023 में अनुमानित 2.9 फीसदी ग्लोबल जीडीपी की वृद्धि अक्टूबर में भविष्यवाणी की तुलना में 0.2 प्रतिशत अधिक है. इस फैक्ट के बावजूद कि यह 2022 में 3.4 फीसदी की तुलना में कम है.