Gold, Namkeen And Drugs : सोना, सेव के साथ अब ड्रग्स में भी रतलाम का नाम!

1372

Gold, Namkeen And Drugs : सोना, सेव के साथ अब ड्रग्स में भी रतलाम का नाम!

 

Ratlam : सोना, सेव के लिए प्रसिद्ध मध्य प्रदेश में मालवा का रतलाम क्षेत्र अब धीरे-धीरे अपनी पहचान ड्रग्स के क्षेत्र में भी बनाता जा रहा है।

 

रतलाम और उसके आस पास के क्षेत्र नशे के गढ़ बनते जा रहे हैं। इसके मकड़जाल में कई युवा उलझ गए हैं, इतना ही नहीं इस मकड़जाल में महिलाएं भी अछूती नहीं रही हैं। मौत का सामान बेचने वाले इन सौदागरों से अफीम और डोडाचूरा तो दूर हो गया हैं, अब स्मेक के बाद उससे भी महंगा नशा MD लगातार जिले में पंहुच रहा हैं। पहले यह MD महाराष्ट्र के मुंबई और गुजरात के रास्ते रतलाम तक पंहुचती थी, अब नशे के सौदागरों ने अपने स्मगलिंग का क्षेत्र डायवर्ट कर दिया हैं, अब यह राजस्थान के प्रतापगढ़ से दलौदा और मंदसौर तक पंहुचा रहें हैं। मंदसौर के तस्कर रतलाम तक यह नशीले पदार्थ डिलेवर कर रहें हैं, इतना ही नहीं यह तस्कर अपने गुनाहों के रास्ते में महिलाओं का सहारा भी ले रहें हैं। इन तस्करों को इस क्षेत्र में ड्रग्स सप्लाई करने में आसानी रहती हैं जिसका कारण अफीम, डोडाचूरा का क्षेत्र होना।

 

देशभर में रतलाम का नाम यहां के सोना और सेव के नाम से मशहूर हैं और अब नशे के सौदागरों के कारण रतलाम के नाम अब ड्रग्स के लिए भी लिया जाने लगा है।

 

बता दें कि इसी चक्कर में रतलाम के उच्च परिवार के 2 युवक भी सलाखों के पीछे हैं और उनके परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल हैं। मां बाप अपने बेटों को बाहर आने की बांट जोह रहें हैं। शहर का एक नामी गुंडा सुनील सूर्या भी सलाखों के पीछे हैं। वह भी गुंडागर्दी करते करते MD के फेर में पड़ गया और सलाखों के पीछे बाहर निकलने के लिए छटपटा रहा हैं।

 

पुलिस ने हाल ही में कई बदमाशों को MD ड्रग्स के साथ पकड़ा हैं। पुलिस को पड़ताल में पता चला हैं कि यह बदमाश अधिक फायदे और इजि मनी के लालच में आकर इस गुनाह के दलदल में धंसते चले जा रहें हैं।

अफिम और MD का आंकलन करें तो अफिम को ज्यादा मात्रा में बेचने में इन्हें फायदा होता हैं उतना ही फायदा MD की कम मात्रा को बेचने में फायदा मिल जाता हैं। इसकी मात्रा कम होने की वजह से छुपाने में भी आसानी रहती हैं। मालवा क्षेत्र में आसानी से मिल जाने पर इसको लेने दुसरे प्रदेश नहीं जाना होता हैं। इसलिए बदमाश MD की तस्करी में ज्यादा रुचि ले रहें हैं।

IMG 20240403 WA0048

अभी तक पुलिस के हत्थे चढ़े बदमाशों से पुलिस को पुछताछ में इन बदमाशों ने कुछ उगला है जिसमें बताया गया हैं कि इस नशे के सामान को बेचने वाले 32 बदमाशों ने फ्रेंचाइजी लें रखी हैं। जो शहर के विभिन्न क्षेत्रों में ड्रग्स सप्लाई कर रहे हैं। यह बदमाश पहले युवाओं को ड्रग्स की लत लगवाते हैं फिर इजिमनी का लालच देकर ड्रग्स को बेचने के फेर में उलझा देते हैं।

 

यह लोग धनाढ्य घराने के युवकों, कॉलेज में पढ़ने वाले छात्रों को निशाना बनाते हैं। नशे की लत लग जाने के बाद युवा अपराध की दहलीज पर कदम रखने को मजबूर हो जाते हैं। इन बदमाशों की गेंग में महिलाएं भी शामिल हैं।

IMG 20240403 WA0047

पुलिस की सक्रियता से बीते 48 घंटे में पुलिस ने 2 अलग-अलग मामलों में 13 लाख रुपए से अधिक की एमडी स्मगलिंग करते हुए 9 लोगों को पकड़ा हैं जिनमें 1 महिला भी हैं, यह महिला पकड़ाए उन 9 लोगों में से 1 आरोपी की पत्नी हैं। एमडी सप्लायर इसे रतलाम के साथ भोपाल, इंदौर, उज्जैन, देवास तक सप्लाई करते हैं।

 

राजस्थान का प्रतापगढ, मध्यप्रदेश का नीमच, मंदसौर, गरोठ में इस नशे के सौदागरों की बहुतायत हैं इसका मुख्य कारण इन क्षेत्रों में पहले से ही अफीम और डोडाचूरा की स्मगलिंग की लिंक!

 

बीते 2 दिनों में पुलिस ने 9 लोगों को पकड़कर उनसे 13 लाख रुपए की MD पकड़ी है। पकड़ाए आरोपियों के ग्रुप में MD ड्रग्स परिवहन हेतु महिला रहती थी, उसकी वजह पुलिस को शक न हो । इस पकड़ाई महिला के परिवार के लोग भी NDPS के मामलों में मंदसौर जैल में बंद हैं। इन सप्लायर्स का महिला को तस्करी में शामिल करने के लिए कोडवर्ड रहता था “भाभी” जिसको उपयोग कर महिला से सप्लाई करवाते थे!

 

एसपी राहुल कुमार लोढ़ा ने बताया कि ड्रग्स सप्लाई करने वाले 19 आरोपी गिरफ्तार किए जा चुके हैं, इस अभियान के अंतर्गत जिले में अवैध मादक पदार्थ के विरुद्ध कार्यवाहीं करते हुए अभी तक 28 आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका हैं।