Happy Life of Two IAS : दुर्गा को बांदा का डीएम बनाया, पति एक्टिंग में भी व्यस्त!

अखिलेश सरकार में खनन मामले में सस्पेंड भी हुई थी दुर्गा नागपाल!

2872
Happy Life of Two IAS

Happy Life of Two IAS : दुर्गा को बांदा का डीएम बनाया, पति एक्टिंग में भी व्यस्त!

New Delhi : ये कपल कुछ अलग है। पति-पत्नी दोनों पेशे से आईएएस ऑफिसर हैं। लेकिन, ये अपनी ग्लैमरस लाइफ को लेकर चर्चा में रहते हैं। दुर्गा शक्ति नागपाल और अभिषेक सिंह दोनों ही प्रशासनिक नौकरी में हैं। आईएएस दुर्गा शक्ति नागपाल को यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की सरकार के दौरान सस्पेंड कर दिया गया था। लेकिन, हाल ही में योगी सरकार के उन्हें बांदा जिले का डीएम बना दिया।

IMG 20230522 WA0088

उनके पति आईएएस अभिषेक सिंह को कुछ समय पहले बिना बताए गायब होने के कारण आचरण नियमावली के उल्लंघन के आरोप में सस्पेंड कर दिए गए है। अभिषेक सिंह 2011 बैच के आईएएस है। अभिषेक सिंह कई फिल्मों में भी काम कर चुके हैं। उन्हें सबसे ज्यादा लोकप्रियता नेटफ्लिक्स की वेब सीरीज ‘दिल्ली क्राइम’ में मिली।

पहले हुईं सस्पेंड फिर बनीं DM
आईएएस अफसर दुर्गा शक्ति नागपाल 2010 बैच की IAS ऑफिसर हैं। दुर्गा जब नोएडा में तैनात थी, तब उन्हें अवैध खनन से जुड़े एक मामले में सस्पेंड कर दिया गया था। लेकिन उन्हें हाल ही में योगी सरकार द्वारा एक अहम जिम्मेदारी सौंपी है। उन्हें यूपी सरकार ने बांदा जिले का डीएम नियुक्त किया है।

इस फील्ड में की ग्रेजुएशन
दुर्गा शक्ति नागपाल का जन्म 1985 में छत्तीसगढ़ में हुआ था। उनके पिता भारतीय सांख्यिकी सेवा (Indian Statistical Service) में अधिकारी थे। वहीं, दुर्गा के दादाजी भी एक पुलिस अधिकारी रह चुके हैं। दुर्गा ने इंदिरा गांधी दिल्‍ली टेक्निकल यूनिवर्सिटी से B.Tech की पढ़ाई की।

BJP महिला नेत्री श्रीमती सीमा टाक बनी टाक महासभा की केंद्रीय महिला अध्यक्ष 

20वीं रैंक हासिल कर IAS बनी
दुर्गा ने बीटेक खत्म होते ही यूपीएससी की सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी शुरू कर दी थी। 2008 में उन्होंने अपना पहला अटेंप्ट दिया था। इस बार उनका चयन IRS ऑफिसर के तौर पर हुआ। ऐसे में दुर्गा ने एक बार फिर परीक्षा देना का मन बनाया और साल 2010 में अपना दूसरा अटेंप्ट दिया और इस बार उन्होंने ऑल इंडिया 20वीं रैंक हासिल कर IAS का पद हासिल कर लिया।

Lokayukta issued Warrant Against ACS: लोकायुक्त ने 1991 बैच के IAS अधिकारी के खिलाफ जमानती वारंट जारी किया