27 तक मांगे नहीं मानी तो फिर आंदोलन करेंगे सरपंच, प्रभावित होगा 2 अक्टूबर से शुरू होने वाला ‘प्रशासन गांव के संग अभियान’

75

Jaipur: राजस्थान सरपंच संघ के प्रतिनिधिमंडल ने प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर गढ़वाल व कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष रोशन अली ने घोषणा की है कि अगर सरकार राजस्थान सरपंच संघ की मांगों का 27 सितंबर तक समाधान कर आदेश प्रसारित नहीं करती है तो 28 सितंबर से सरपंच संघ का पूर्ण बहिष्कार आंदोलन शुरू हो जाएगा। उपरोक्त नेताद्वय की अगुआई में सचिवालय में ग्रामीण विकास पंचायती राज व नरेगा के अधिकारियों से आज भेंट की। यह भेंट सरपंच संघ की मांगों को लेकर 15 सितंबर को दिए गए 20 सूत्री मांग पत्र की प्रगति रिपोर्ट जानने हेतु की गई थी।
राजस्थान सरपंच संघ के प्रदेश प्रवक्ता रफीक पठान ने बताया कि अधिकारियों द्वारा प्रतिनिधिमंडल को अवगत कराया गया कि सरपंच संघ द्वारा दिए गए ज्ञापन की मांगों पर सरकार ने अधिकारियों को आदेशित किया है कि सरपंच संघ के प्रतिनिधिमंडल के साथ बैठक आयोजित की जाए एवं सभी मांगों पर विचार विमर्श कर आदेश जारी किए जाए ।
उपस्थित प्रतिनिधिमंडल ने निर्णय लिया है कि अगर सरकार सरपंच संघ की मांगों का दिनांक 27 सितंबर तक समाधान कर आदेश प्रसारित नहीं करती है तो 28 तारीख से सरपंच संघ का पूर्ण बहिष्कार आंदोलन शुरू हो जाएगा और 2 अक्टूबर से शुरू होने वाले प्रशासन गांव के संग अभियान का बहिष्कार किया जाएगा। ग्राम पंचायतों पर पूर्णतया असहयोग आन्दोलन चलाया जाएगा ।
14 तारीख से चल रहा जल जीवन मिशन से संबंधित सभी कार्यों का संपूर्ण विरोध एवं ऑनलाइन कार्यों का बहिष्कार जारी रहेगा।
मीटिंग में अधिकारियों ने सरपंच संघ को 27 तारीख तक समाधान का आश्वासन दिया है ।
मीटिंग में राजस्थान सरपंच संघ के प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर गढ़वाल संरक्षक भंवरलाल जानू , कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष रोशन अली, मुख्य महामंत्री शक्ति सिंह रावत, संयोजक महेंद्र सिंह मंझेवला , प्रदेश उपाध्यक्ष रामगोपाल बेरवा, प्रदेश प्रवक्ता रफीक पठान, जयराम पलसानिया, जयपुर जिला अध्यक्ष मेहरसिंह धनकड़, हनुमान प्रसाद झाझडा सरपंच संघ जिला अध्यक्ष सीकर एवम मदन लाल यादव सरपंच उपस्थित रहे ।
देखिए, क्या कह रहे हैं राजस्थान सरपंच संघ के प्रदेश प्रवक्ता रफीक पठान