50 करोड़ रुपये में बिकी दस सेकेंड की वीडियो क्लिप, जानें क्या है खास

50 करोड़ रुपये में बिकी दस सेकेंड की वीडियो क्लिप, जानें क्या है खास

मीडियावाला.इन।

अक्टूबर 2020 में अमेरिका के मियामी निवासी कला संग्रहकर्ता पाब्लो रॉड्रिग्ज-फ्रेल ने दस सेकेंड की एक वीडियो क्लिप खरीदने के लिए 67 हजार डॉलर (लगभग 50.25 लाख रुपये) खर्च किए। वह चाहते तो इस वीडियो को ऑनलाइन मुफ्त में भी देख सकते थे। फरवरी के अंत में उन्होंने इस वीडियो को 66 लाख डॉलर (करीब 50 करोड़ रुपये) में बेचा।

वीडियो का निर्माण डिजिटल आर्टिस्ट बीपल ने किया है। उनका असली नाम माइक विंकलमेन है। इसे 'ब्लॉकचेन' ने प्रमाणित किया था। 'ब्लॉकचेन' डिजिटल सामग्री की मौलिकता और उसके मूल स्रोत के प्रमाणन की जिम्मेदारी संभालता है। यह एक तरह की नई डिजिटल संपदा है, जिसे नॉन-फंजाइबर टोकन (एनएफटी) के नाम से जाना जाता है।

कोरोना महामारी के दौरान इसकी लोकप्रियता में दिन दोगुना-रात चौगुना इजाफा हुआ, क्योंकि बड़ी संख्या में निवेशकों ने उन सामग्री में पूंजी लगाई, जो सिर्फ डिजिटल जगत में ही अस्तित्व में हैं। इन्हें बार-बार अलग-अलग रूप में नहीं पेश किया जा सकता।

वीडियो में क्या है खास
कंप्यूटर से तैयार दस सेकेंड की वीडियो क्लिप में अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से मिलते-जुलते एक विशाल पुतले को जमीन पर धराशायी होते दिखाया गया है। पूरा पुतला नारों से ढंका हुआ है।

 Live हिन्दुस्तान 

 

0 comments      

Add Comment