Friday, December 13, 2019
बलूचिस्तान में ऐलान- 'पाकिस्तान से आजाद होते ही पहली मूर्ति मोदी की लगेगी'

बलूचिस्तान में ऐलान- 'पाकिस्तान से आजाद होते ही पहली मूर्ति मोदी की लगेगी'

मीडियावाला.इन।

पेशावरः जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने के बाद भारत के लोग ही नहीं बल्कि पाकिस्तान के गुलाम बलूचिस्तान के लोग भी जश्न मना रहे हैं। बलूच लोगों के जश्न का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि महिला बलूच नेता नायला कादरी ने बलूचिस्तान में भारत के प्रधानमंत्रीमोदी की मूर्ति लगाने का ऐलान कर दिया है। नायला कादरी ने भारत के पीएम नरेन्द्र मोदी को हीरो बताते हुए कहा है पाकिस्तान चीन के साथ मिलकर बलूच नस्ल को ही खत्म करना चाहती है । पाकिस्तान बलोचों का संहार कर रहा है। नायला कादरी ने कहा अगर बलूचिस्तान आजाद होता है, तो वहां भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की हम प्रतिमा लगाएंगे।

 



नायला कादरी ने कहा कि बलूचिस्तान अपनी आजादी के लिए लड़ रहा है। मोदी जी ने जिस साहस के साथ फैसला लिया है विश्व के किसी नेता ने उनकी तरहआवाज नहीं उठाई। पाकिस्तान पिछले 70 सालों से हम पर जुल्म कर रहा है।मोदी जी हमारे हीरो हैं, मोदी जी हमारे भाई हैं। बलूच नेता ने कहा कि हम बलोच एक कटोरे पानी के बदले सौ साल की वफा करते हैं।हमने जान देकर अब तक माता हिंगलाज के मंदिर को सहेजा है। नायला ने स्पष्ट कहा बलूचिस्तान को आजाद कराने में अगर भारत साथ देता है तो उसके दूरगामी फायदे होंगे।

 

 


उन्होंने कहा किएक तो भारत अपनी संस्कृति के मुताबिक मददगार की परंपरा का निर्वाह करेगा, दूसरा आने वाले समय में बलूचिस्तान भारत को ऊर्जा के क्षेत्र में मदद करेगा। मध्य एशिया का सीधा रास्ता भारत को आजाद बलूचिस्तान से मिलेगा। हिंगलाज माता के दर्शन के लिए किसी भी भारतीय को वीजा लेने की जरुरत नहीं पड़ेगी.। नायला कादरी ने कहा कि इस्लाम के नाम पर दहशतगर्दी करते हुए अब तक 30 लाख बंगाली मुसलमानों, 40 लाख अफगानी मुसलमानों और दो ज्यादा से ज्यादा बलूचों की हत्या कर चुका है।

 

 

 

मालूम हो कि पीएम मोदी ने 15 अगस्त के भाषण में बलूचिस्तान का जिक्र किया था, इसके बाद से बलूच आजादी की मांग तेज हो गई है। बलोच नेताओं तथा वहां की जनता का कहना है कि मोदी ने हमें संबल दिया है तथा वो दिन जरूर आएगा जब बलूचिस्तान पाकिस्तान के कब्जे से आजाद होगा। जब बलूचिस्तान आजाद होगा, उस समय भारत के पीएम मोदी की प्रतिमा बलूचिस्तान में लगाई जाएगी।

Dailyhunt

 

0 comments      

Add Comment