कोरोना जैसी एक महामारी के मुहाने पर खड़े हैं हम, नहीं संभले तो बर्बाद हो जाएगी एक सदी की मेहनत- WHO

कोरोना जैसी एक महामारी के मुहाने पर खड़े हैं हम, नहीं संभले तो बर्बाद हो जाएगी एक सदी की मेहनत- WHO

मीडियावाला.इन।

जेनेवा. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि कोरोनावायरस जैसी खतरनाक तो नहीं लेकिन उस जैसी एक विकट समस्या के मुहाने पर खड़े हैं. WHO ने चेताया है कि अगर नहीं हम संभले तो मेडिकल दुनिया में की गई 1 सदी की मेहनत बर्बाद हो जाएगी. WHO ने बढ़ते एंटीमाइक्रोबियल रेजिस्टेंस (Antimicrobial Resistance) पर चिंता जताई है. एंटीमाइक्रोबियल रेजिस्टेंस वह परिस्थिति है जब किसी संक्रमण या घाव के लिए बनी दवा अपना असर काम कर दें. इसका सीधा मतलब है कि संक्रमण या घाव के लिए जिम्मेदार कीड़े उस दवा के प्रति अपनी इम्यूनिटी मजबूत कर लें.

WHO ने कहा कि एंटीमाइक्रोबियल रेजिस्टेंस (Antimicrobial Resistance) बढ़ना कोरोनोवायरस महामारी की तरह ही खतरनाक है. उन्होंने कहा कि इससे एक सदी का मे़डिकल विकास खत्म हो सकता है.

WHO के महानिदेशक ट्रेडोस अधानोम घेब्रेसस ने इस मुद्दे को 'हमारे समय के सबसे बड़े स्वास्थ्य खतरों में से एक' बताया. एंटीमाइक्रोबियल रेजिस्टेंस तब होता है जब कीड़े मौजूदा दवाओं के लिए इम्यून हो जाते हैं जिसमें एंटीबायोटिक, एंटीवायरल या एंटिफंगल इलाज शामिल है जो मामूली चोटों और आम संक्रमणों के घातक साबित हो सकता है.

रोगों से लड़ने की क्षमता को खतरे में डाल रहा है एंटीमाइक्रोबियल रेजिस्टेंसटेड्रोस ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, 'मनुष्यों और कृषि के काम से जुड़े पशुओं में भी ऐसी दवाओं के अत्यधिक उपयोग के कारण हाल के वर्षों में इम्यूनिटी बढ़ी है. 'एंटीमाइक्रोबियल रेजिस्टेंस भले एक महामारी ना लगे लेकिन यह उतना ही खतरनाक. यह मेडिकल प्रोग्रेस की एक सदी को खत्म कर देगा.कई संक्रमणों का इलाज नहीं हो सकेगा जो आज आसानी से संभव है.'

डब्ल्यूएचओ ने कहा कि एंटीमाइक्रोबियल रेजिस्टेंस् खाद्य सुरक्षा, आर्थिक विकास और रोगों से लड़ने की क्षमता को खतरे में डाल रहा है. संयुक्त राष्ट्र की स्वास्थ्य एजेंसी ने कहा कि रेजिस्टेंट के कारण स्वास्थ्य देखभाल की लागत में वृद्धि, अस्पतालों में लोगों की ज्यादा आमद, इलाज में कमी, गंभीर बीमारियां और मौतें हुई हैं.

news18

0 comments      

Add Comment