Monday, December 09, 2019
Tik Tok Video: मेकअप करते हुए इस लड़की ने ऐसा क्या कह दिया, चीन ने तुरंत किया बैन

Tik Tok Video: मेकअप करते हुए इस लड़की ने ऐसा क्या कह दिया, चीन ने तुरंत किया बैन

मीडियावाला.इन।

वाशिंगटन। आमतौर पर वीडियो मेकिंग ऐप टिक टॉक का इस्तेमाल लोग मनोरंजन के लिए ही करते हैं। लेकिन अमेरिका की रहने वाली एक लड़की ने इसमें कुछ ऐसा कहा कि उसे तुरंत टिक टॉक से बैन कर दिया गया। फिरोजा अजीज नाम की इस लड़की ने टिक टॉक को चीनी सरकार की निंदा का हथियार बनाया।

चीन में मुसलमानों को निगरानी कैंप में बंद करके रखा गया है। वहां सरकार इन लोगों का ब्रेनवॉश कर रही है। जहां इन्हें तरह-तरह की प्रताड़ना दी जाती है। फिरोजा का ये वीडियो अब खूब वायरल हो रहा है। खास बात ये है कि वीडियो की शुरुआत कुछ ऐसे की गई है, जिससे लग रहा है कि फिरोजा कुछ ब्यूटी टिप्स देने वाली हैं। दरअसल फिरोजा ने चीन के श‍िंजियांग प्रांत में स्‍थ‍ित निगरानी कैंप में मुसलमानों पर सरकार की कार्रवाई के ख‍िलाफ आवाज उठाने की अपील की है।

शुरुआत में ब्यूटी टिप्स जैसा लगता है वीडियो

इस चीनी ऐप पर वीडियो बनाते हुए फिरोजा पहले तो पलकों को खूबसूरत बनाने के तरीके बताती हैं। फिर वह लोगों से अचानक अपनी आंखें खोलने को कहती हैं और शिंजियांग के हालात को जानने के लिए अपील कर रही हैं। इस वीडियो के वायरल होते ही चीन ने तुरंत फिरोजा के अकाउंट को सस्पेंड कर दिया है।

 

टिक टॉक ने किया बैन

खुद को 17 साल की मुस्लिम लड़की बताने वाली फिरोजा के वीडियो को लाखों बार देखा जा चुका है। अब बैन होने के कारण वह एक महीने तक कोई वीडियो अपलोड नहीं कर सकती हैं। वह वीडियो में कहती हैं कि 'आपको सबसे पहले अपनी पलकों को खूबसूरत बनाने के लिए कलर लेना है, फिर चीन में क्या हो रहा है ये जानने के लिए फोन उठाते हैं। किस तरह वहां बेगुनाह मुस्लमानों को डिटेंशन कैंप में डाला जा रहा है, उन्हें जबरन सूअर का मांस खिलाया जा रहा है, मुस्लिम लड़कियों का बलात्कार हो रहा है।'

 

कहा बोलीं फिरोजा?

वह आगे कहती हैं, ' वहां मुस्लिम परिवारों का अपहरण कर उनकी हत्याएं हो रही हैं। मुस्लिमों को वहां धर्म परिवर्तन के लिए मजबूर किया जा रहा है, यहां एक ओर जनसंहार हो रहा है लेकिन कोई इसपर बात नहीं करना चाहता। मेहरबानी करिए, जानकारी रखिए और शिंजियांग के बारे में जागरुकता फैलाइए।'

 

क्या बोली कंपनी?

इसपर कंपनी का कहना है कि उसने ऐसी कोई कार्रवाई नहीं की है। कंपनी के यूएस हेड एरिक हैन का कहना है कि 'इस मामले में यूजर का पहला अकाउंट और उससे जुड़े डिवाइस पर रोग लगाई गई है। ऐसा इसलिए क्योंकि उसने ओसामा बिन लादेन का वीडियो शेयर किया था। टिक टॉक ऐसी विषयवस्तु पर रोक लगाता है जो आतंकवादी संगठनों से जुड़ी कल्पनाओं पर आधारित होती हैं।'

 

source: oneindia.com

RB

0 comments      

Add Comment