इटली में फंसी ये इंडियन एक्ट्रेस, वीडियो जारी कर कहा- 'यहां अकेली हूं, फैमिली की बहुत याद आती है...'

इटली में फंसी ये इंडियन एक्ट्रेस, वीडियो जारी कर कहा- 'यहां अकेली हूं, फैमिली की बहुत याद आती है...'

मीडियावाला.इन।

नई दिल्ली। पूरी दुनिया में तबाही मचा रहे कोरोना वायरस का कहर फिलहाल थमता हुआ नजर नहीं आ रहा है। दुनिया के 150 से भी ज्यादा देशों के करीब साढ़े चार लाख लोग इस वायरस की चपेट में हैं। कोरोना वायरस ने इस समय इटली से सबसे ज्यादा कोहराम मचाया हुआ है। यहां इस वायरस की वजह से अभी तक 6 हजार से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है। भारत की मशहूर सिंगर और एक्ट्रेस श्वेता पंडित भी इन दिनों इटली में हैं और अपने घर के अंदर ही सेल्फ आइसोलेशन में हैं। श्वेता पंडित ने अपने इंस्टाग्राम पर एक वीडियो शेयर करते हुए उन लोगों को एक चेतावनी दी है, जो कोरोना वायरस की महामारी को हलके में ले रहे हैं।                                 

'जो मैं आपको बताना चाहूंगी, जो मेरी आंखों देखी है'

अपने इंस्टाग्राम पर वीडियो शेयर करते हुए श्वेता पंडित ने कहा, 'आपने सुना होगा कि कोरोना वायरस ने पूरे विश्व में हंगामा मचा के रखा है। इतना कि आज पूरे भारत में लॉकडाउन भी अनाउंस हो गया है। एक चीज जो मैं आपको बताना चाहूंगी, जो मेरी आंखों देखी है। वो ये कि कोरोना वायरस ने सबसे ज्यादा तबाही जहां मचाई है, मैं उसी देश में हूं, इटली में। दोस्तों मैं खुद पिछले एक महीने से घर से बाहर नहीं निकली। क्योंकि, जब हमें पता चला कि एक ऐसी बीमारी जिसका हमें पता भी नहीं कि ये कब हुआ और किससे मिलने से हुआ और ये एक साधारण सा सर्दी जुकाम है या कुछ और है।                                        

'हजार दो हजार नहीं, आठ हजार जानें गई हैं'

श्वेता पंडित ने आगे कहा, 'जब तक आदमी डॉक्टर के पास जाता है, फिर अस्पताल जाता है, उसके बाद उसे पता चलता है कि उसे आईसीयू की जरूरत है, उसे ऑक्सीजन की जरूरत है और कुछ ही दिन बाद उसकी मृत्यु भी हो जाती है। ये इतना खतरनाक है दोस्तों। ये कोई मजाक की बात नहीं है। कोई पिकनिक मनाने और छुट्टी की बात नहीं है। बहुत दुख के साथ मैं ये कह रही हूं क्योंकि यहां इटली में मैंने देखा है। आपने भी न्यूज में देखा होगा, हजार दो हजार नहीं, आठ हजार जानें गई हैं।'

 

'रोज सुबह उठती हूं, तो मुझे सिर्फ एंबुलेंस की आवाज आती है'

अपने वीडियो में श्वेता पंडित ने कहा, 'मैं रोज सुबह उठती हूं, तो मुझे सिर्फ एंबुलेंस की आवाज आती है। ये मैं सच कह रही हूं आपको और बहुत दुख के साथ कह रही हूं। लोगों ने, भारत से कई फोन किए, खैरियत पूछी, उसके लिए मैं आप सभी की शुक्रगुजार हूं। आपकी दुआओं से अपने घर के अंदर हूं, सुरक्षित हूं। लेकिन, ये धीरे-धीरे दुनिया को पकड़ रहा है, दुनिया को। अमेरिका, लंदन कई ऐसे देशों में पहुंच चुका है और अब भारत में भी धीरे-धीरे घर करना चाहता है। भारत लकी है कि ये काफी देर से पहुंचा।'

'मैं यहां अकेली हूं, याद बहुत आती है'

श्वेता पंडित ने इटली के भयावह हालातों का जिक्र करते हुए बताया, 'मुझे कई लोगों ने पूछा है कि इटली में कैसे पहुंचा या कैसे इतना फैला। सच मायने में हमें भी नहीं पता। जब तक हम समझने की कोशिश करते, तब तक ये काफी फैल चुका था। मैं नहीं चाहती कि ऐसा भारत में हो। मैं खुद होली के दिन अपने घर वापस आने वाली थी। मेरे परिवार के पास, मेरे माता-पिता, मेरे भाई-बहन, सब वहीं हैं। मैं यहां अकेली हूं, याद बहुत आती है उनकी। मैं चाहती थी कि मैं फ्लाइट पकड़कर अपने फैमिली के पास चली जाऊं। लेकिन, मैंने नहीं किया, क्योंकि मैं नहीं चाहती कि ये वायरस मुझमें आए और गलती से भी मेरे से और लोगों तक पहुंचे।

'मैं चाहती हूं कि आप सब लड़ें, इसे पछाड़िए'

श्वेता पंडित ने आगे कहा, 'ये फैसला मैंने खुद लिया, ये मुझे किसी सरकारी अधिकारी ने नहीं समझाया। या कोई मुझे लैटर लिखकर नहीं दिया कि आपको ऐसा करना है। क्योंकि मैं अपनी सुरक्षा चाहती थी और साथ में दूसरों की भी। मैं नहीं चाहती थी, मैं ऐसे किसी आदमी से मिलूं, जिसको ये है, क्योंकि आपको पता नहीं चलता और जब पता चलता है, तब तक बहुत देर हो चुकी होती है। मैं चाहती हूं कि आप सब लड़ें, इसे पछाड़िए। घर पर रहिए, हाथ धोइए। परिवार वालों से भी दूर से बात करें। दोस्तों से वीडियो कॉल पर बात करें। म्यूजिक सुनिए, कुछ पढ़िए, आराम कीजिए। सेफ रहिए। जय हिंद।'

www.oneindia.com

RB

 

 
0 comments      

Add Comment