हैदराबाद के चिड़ियाघर में रह रहे सार्स-कोव-2 से संक्रमित एशियाई शेर अच्छी तरह से स्वस्थ हो रहे हैं

हैदराबाद के चिड़ियाघर में रह रहे सार्स-कोव-2 से संक्रमित एशियाई शेर अच्छी तरह से स्वस्थ हो रहे हैं

मीडियावाला.इन।

नमूनों के विश्लेषण से पता चला है कि किसी भी प्रकार के चिंतिति करने वाले वायरस के स्वरूप से संक्रमण नहीं हुआ है
इस बात का कोई तथ्यात्मक प्रमाण नहीं है कि जानवर किसी भी तरह से मनुष्यों तक बीमारी का संचार कर सकते हैं

हैदराबाद के नेहरू जूलॉजिकल पार्क (एनज़ेडपी) में रखे गए ऐसे आठ एशियाई शेरों के नमूनों (नाक, गले और श्वसन तंत्र से एकत्र किए गए) को चिड़ियाघर प्रशासन ने 24 अप्रैल 2021 को सावधानी के रूप में, सीसीएमबी-एलएसीलोएनईएस के साथ साझा किया था, जिनमें सांस की परेशानी के लक्षण दिखाई दिए थे। सीसीएमबी-एलएसीलोएनईएस द्वारा 4 मई 2021 को साझा किए गए विस्तृत नैदानिक ​​परीक्षणों और रिपोर्ट के आधार पर, अब यह पुष्टि हो गई है कि हैदराबाद के नेहरू जूलॉजिकल पार्क (एनज़ेडपी) में रखे गए आठ एशियाई शेर सार्स-कोव 2 वायरस से संक्रमित हैं।

नमूनों के आगे के विश्लेषण से पता चला है कि किसी भी प्रकार के चिंतित करने वाले वायरस के स्वरूप से संक्रमण नहीं हुआ था। आठ शेरों को आइसोलेशन में रख दिया गया है और उनकी उचित देखभाल और आवश्यक उपचार शुरू कर दिया गया है। इलाज के बाद सभी आठ शेरों के स्वास्थ्य में सुधार दिखाई दे रहा है और वे अच्छी तरह से ठीक हो रहे हैं। वे सामान्य रूप से व्यवहार कर रहे हैं और अच्छी तरह से खाना खा रहे हैं। सभी चिड़ियाघर कर्मचारियों की सुरक्षा के उपाय पहले से ही शुरू कर दिए गए हैं और बाहरी संपर्क से बचाने के लिए चिड़ियाघर को दर्शकों के लिए बंद कर दिया गया है।

केंद्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण ने सार्स-कोव-2 के मामलों की बढ़ती संख्या के मद्देनज़र चिड़ियाघरों के लिए चिड़ियाघरों द्वारा सुरक्षा के दिशा-निर्देश और सलाह जारी करने सहित कई उपाय पहले से ही किए हैं। वैज्ञानिक एजेंसियों और भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान (आईवीआरआई) उत्तर प्रदेश और सेलुलर और आणविक जीवविज्ञान केंद्र और लुप्तप्राय प्रजातियों के संरक्षण के लिए प्रयोगशाला (सीसीएमबी-एलएसीलोएनईएस) हैदराबाद के विशेषज्ञों के साथ परामर्श से चिड़ियाघरों को रोकथाम, नमूना संग्रह, संदिग्ध मामलों में पता लगाने और जानवरों की देखभाल करने वालों के लिए सुरक्षा प्रोटोकॉल आदि के दिशा निर्देश दिए गए हैं। इस तरह के परामर्श सार्वजनिक डोमेन http://cza.nic.in/news/en पर आसानी से उपलब्ध हैं।

विशेषज्ञों के परामर्श से अगले चरणों के भाग के रूप में, कोविड सावधानियों के लिए नए दिशानिर्देशों को और विकसित किया जा रहा है। आवश्यकता होने पर अतिरिक्त सूचना जारी की जाएगी।

दुनिया में अन्य जगहों पर पिछले वर्ष सार्स-कोव 2 से संक्रमित होने वाले चिड़ियाघर के जानवरों के साथ अनुभव के आधार पर, इस बात के कोई तथ्यात्मक प्रमाण नहीं है कि जानवर, मनुष्यों को किसी भी तरह से बीमारी पहुंचा सकते हैं। इसलिए मीडिया से अनुरोध है कि रिपोर्टिंग के दौरान अत्यधिक सावधानी बरतें और इस बारे में एक जिम्मेदार कवरेज प्रदान करें।

RB

0 comments      

Add Comment