वाहनों के नम्बरों की दीवानगी, RTO में लगी वीआईपी नंबरों की बोली, पांच लाख से अधिक में बिका '0001' विशेष नम्बर

वाहनों के नम्बरों की दीवानगी, RTO  में लगी वीआईपी नंबरों की बोली, पांच लाख से अधिक में बिका '0001' विशेष नम्बर

मीडियावाला.इन।

वरिष्ठ पत्रकार रमेश सोनी की रिपोर्ट

इन्दौर: आरटीओ कार्यालय में वीआईपी नंबरों को रखने वालों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है।ऐसे में हाल ही में आरटीओ की बोली में एक वीआईपी नंबर पांच लाख से अधिक रुपए में बिका है.

वाहनों के नम्बरों की दीवानगी 
शहर में वाहनों के नंबर की दीवानगी अभी भी बरकरार है. वीआईपी नंबर की पसंद रखने वाले लोग 15 हजार से लेकर पांच लाख तक की बोली लगा रहे हैं.  इंदौर आरटीओ में  हजार से अधिक वीआईपी नंबर खाली पड़े हैं, जिसमें से कुछ प्रमुख नंबर लोग बोली लगाकर खरीद लेते हैं.

आरटीओ कार्यालय में लगाई गई इस नीलामी में दर्जनों से अधिक नंबर बेचे गए हैं.इन वीआईपी नंबरों की बोली लगने के कारण सरकार को भी राजस्व मिलता है.

रात 1 बजे हुआ 0001 का फैसला, 5 लाख 31 हजार की लगी फायनल बोली 

आरटीओ कार्यालय में कार और बाइक के वीआईपी नंबरों को लेकर देर रात तक बोली लगती रही। 15 जुलाई से शुरु हुई बोली की प्रक्रिया बुधवार देर रात 1 बजे खत्म हुई तब तक कार के 0001 नंबर को 5 लाख 31 हजार रूपये में खरीदा जा चुका था। कुल मिला कर 75 से अधिक नंबर बिके है। लेकिन 9999 और 0009 ऐसे नंबर थे जो एक लाख रूपये से अधिक में बिके है। प्राप्त जानकारी के अनुसार 0001 नंबर के लिए चार दावेदार मैदान में थे जो देर रात तक बोली लगाते रहे। इसके अलावा कार का ही 9999 नंबर 1 लाख 10 हजार में बिका है।जबकि कार का 0009 नंबर 1 लाख 82 हजार में बिका है। इससे पहले बीते नवंबर में कार का डब्लू एच 0001 नंबर चार लाख 60 हजार में बिका था। कार के 0001, -0003, -0004, -0007, -0009, -7777, -5050, -5555, -9999 नंबरों के लिए आवेदकों ने बोली लगाई थी। इसके अलावा बाइक और स्कूटर के -1111, -9100, -5500 आदि नंबर भी बिक गए हैं। RB

0 comments      

Add Comment