27 जनवरी से मध्यप्रदेश सरपंच संघ रहेगा अनिश्चितकालीन कलमबंद हड़ताल पर

206

उज्जैन से सुदर्शन सोनी की रिपोर्ट

उज्जैन। मध्यप्रदेश सरपंच संघ की अनिश्चितकालीन सामूहिक कलमबंद हड़ताल 27 जनवरी से प्रारंभ होगी। मंगलवार को संयुक्त मोर्चा की ओर से जिलाधीश के नाम हड़ताल से संबंधित सूचना पत्र मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत को सौंपा।

सरपंच संघ अध्यक्ष सतीश शर्मा, महासचिव प्रदेश महामंत्री सत्यनारायण शर्मा, सहायक सचिव संगठन अध्यक्ष जसपाल सिंह ने मुख्य कार्यपालन अधिकारी को सूचना पत्र सौंपा।

सरपंच संघ जिला अध्यक्ष सतीश शर्मा ने बताया कि राष्ट्रीय सरपंच संघ के आव्हान पर मध्यप्रदेश सरपंच एकता कल्याण संघ द्वारा संघ के प्रांतीय अध्यक्ष के नेतृत्व में मध्यप्रदेश के सभी सरपंचों द्वारा मनरेगा की विसंगतियों के विरोध में 11 जनवरी 2023 को सरपंच संघ के सभी जिला एवं जनपद अध्यक्षों ने अपने संबंधित क्षेत्र की जनपद एवं जिला मुख्यालय पर मुख्यमंत्री तथा केंद्रीय पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री भारत सरकार गिरिराज सिंह के नाम संबंधित जनपद एवं जिलाधिकारियों के माध्यम से ज्ञापन सौंपा था। जिस पर अभी तक कोई कार्यवाही नहीं की गई है, जिस कारण मध्यप्रदेश सरपंच एकता कल्याण संघ ने फैसला किया है कि 27 जनवरी 2023 से मध्यप्रदेश में मनरेगा योजना के सभी कार्य बंद किए जा रहे हैं।

उक्त दिनांक से मध्यप्रदेश के सभी 23000 पंचायतों के सरपंच अनिश्चितकालीन कलम बंद हड़ताल प्रारम्भ करने जा रहे हैं, मध्यप्रदेश त्रिस्तरीय पंचायतीराज अधिनियम 1993 के अनुसार पंचायत के सभी कार्यों में सरपंच सचिव ही संयुक्त हस्ताक्षर से भुगतान एवं अन्य गतिविधियां संचालित करते आ रहे हैं। सूचना पत्र के माध्यम से संयुक्त मोर्चा ने अनुरोध किया कि शासन द्वारा जारी मनरेगा योजना के लिए नवीन गाइडलाइन को जबतक वापस नहीं लिया जाता है तब तक कलमबंद हड़ताल 27 जनवरी 2023 से प्रारंभ करने का निर्णय प्रदेश के सभी सरपंचों एवं सरपंच संगठनों ने लिया है।