Mandsaur News – अ.भा.साहित्य परिषद द्वारा हिन्दी दिवस काव्य गोष्ठी सैनिक साहित्यकार श्री भदोरिया की पुस्तक ‘‘जिंदगी नामा’’ की समीक्षा की 

भारत विकास परिषद ने उत्कृष्ट कार्य हेतु तीन संस्थाओं का किया सम्मान

859

Mandsaur News – अ.भा.साहित्य परिषद द्वारा हिन्दी दिवस काव्य गोष्ठी सैनिक साहित्यकार श्री भदोरिया की पुस्तक ‘‘जिंदगी नामा’’ की समीक्षा की 

 

मंदसौर से ललित बटवाल की रिपोर्ट

 

मन्दसौर। अखिल भारतीय साहित्य परिषद मंदसौर इकाई द्वारा 14 सितम्बर की शाम हिन्दी दिवस के उपलक्ष्य में पुस्तक समीक्षा एवं काव्य गोष्ठी का आयोजन साहित्यकार रविशंकर वर्मा ( सूरत ) नीमच के मुख्य आतिथ्य व अध्यात्म वेत्ता पं. देवेश्वर जोशी, जन परिषद मंदसौर चैप्टर के जिला संयोजक व वरिष्ठ पत्रकार डॉ घनश्याम बटवाल, प्रेस क्लब अध्यक्ष ब्रजेश जोशी के विशेष आतिथ्य, पर्यावरण प्रेमी एवं संरक्षक डॉ. उर्मिला तोेमर की अध्यक्षता तथा महंत गोपाल बैरागी, नरेन्द्रसिंह राणावत, हरिओम बरसोलिया, चंदा अजय डांगी, नंदकिशोर राठौर, नरेन्द्र भावसार, नरेन्द्र त्रिवेदी, अनुष्का मांदलिया, अजीजुल्लाह खान, सिने स्क्रीप्ट रायटर एवं डायरेक्टर संजय भारती, पूर्व बैंक प्रबंधक श्री लक्ष्मीनारायण देवड़ा के सानिध्य में सम्पन्न हुआ। जिसमें कवियों ने हिन्दी के सम्मान में कविता पाठकर हिन्दी दिवस मनाया।

 

इस अवसर पर मुख्य अतिथि सूरत गुजरात के स्ट्रेस मैनेजमेंट काउंसलर एवं साहित्यकार श्री रविशंकर वर्मा ने कहा कि साहित्य परिषद इकाई द्वारा काव्य गोष्ठी, पुस्तक समीक्षा, लाइब्रेरी संचालन जैसे साहित्यिक सरोकार के कार्य कर नगर में साहित्यिक माहौल बनाए हुए है। इसी का परिणाम आज भारत विकास परिषद ने इन्हें सम्मानित किया है। परिषद ने साहित्य के प्रति एक सकारात्मक वातावरण नगर व जिले में बनाया है।

आपने स्वरचित कविता ‘‘तम को मिटाने रवि बने हम, काव्य को सजाने कवि बने हम’’ व अन्य रचनाओं का पाठ किया ।

 

इस अवसर पर परिषद के प्रांतीय अध्यक्ष त्रिपुरारीलाल शर्मा ने भी विडियोकाल से संबोधित किया। आपने कहा कि हिन्दी दिवस पर आयोजित इस काव्य गोष्ठी में हिन्दी के हस्ताक्षर एवं लिखने बोलने पर प्रयास करने रहने की आवश्यकता है।

 

इस अवसर पर हरेन्दसिंह भदोरिया की पुस्तक ‘‘जिंदगी नामा’’ की समीक्षा पर बोलते हुए जनपरिषद मंदसौर चैप्टर जिला संयोजक एवं वरिष्ठ पत्रकार डॉ. घनश्याम बटवाल ने कहा कि कानपुर के श्री भदोरिया की पुस्तक आपके जीवन का सचित्र आलेख हैं । कॉफी टेबल बुक में श्री भदोरिया ने एयरफोर्स के कार्य से सेवानिवृत्त होने के पश्चात सामाजिक एवं पत्रकारिता के जीवन की झलकियां है। एअर चीफ़ मार्शल अर्जनसिह एवं पूर्व राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद के साथ की चित्रमय उपलब्धियां आपके व्यवहार कुशल होने का प्रमाण देती है।

 

डॉ बटवाल ने कहा कि वायु सेना में रहे श्री भदौरिया के पिता आज़ादी के पूर्व नेताजी सुभाषचंद्र बोस की आज़ाद हिंद फ़ौज में रहे उसका प्रभाव पूरे परिवार पर पड़ा । श्री भदौरिया ने देश सेवा के बाद साहित्य सेवा भी की । हरिवंशराय बच्चन मदर टेरेसा महादेवी वर्मा सुमित्रा नंदन पंत मेजर ध्यानचंद अमृत राय बालकवि बैरागी सहित विशिष्ट जनों से साक्षात्कार किये और प्रसारित किये ।

आपने 1986 से सेना के जवानों परिवारों महिलाओं के कल्याण और पुनर्वास के लिये बिगुल संस्था गठित की जो आज भी महत्वपूर्ण सेवा प्रदान कर रही है ।

 

हिंदी साहित्य सम्मेलन प्रदेश प्रतिनिधि श्री ब्रजेश जोशी ने कहा कि श्री भदोरिया का जिंदगीनामा उनके बहुआयामी व्यक्तित्व का परिचय देता है। जो साहित्य एवं सक्रियता से पत्रकारिता करने का प्रमाण है।

श्रीमती तोमर ने कहा कि भदोरियाजी का जिंदगीनामा पठनीय कम चित्र एवं पेपर करतन समाचार के कारण यह पुस्तक कम एलबम ज्यादा प्रतीत होता है।

IMG 20230915 WA0029

अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में श्रीमती उर्मिला तोमर ने साहित्य परिषद के आयोजन को सफलतम बताया जिसमें उपस्थिति, पुस्तक समीक्षा, संस्था सम्मान, लायब्रेरी का शुभारंभ एवं नवकवियों की कविताओं ने काव्य गोष्ठी को भव्य स्वरूप प्रदान कर दिया।

इस अवसर पर भारत विकास परिषद मध्यभारत पश्चिम प्रांत जिला मंदसौर ने अ.भा. साहित्य परिषद, जन परिषद मंदसौर चैप्टर, हिन्दी साहित्य सम्मेलन तीन संस्थाओं के सम्पर्क, सहयोग, संस्कार, सेवा एवं समर्पण के क्षेत्र में साहित्य के माध्यम से उत्कृष्ट कार्य करने के लिये संस्थाओं को प्रशस्ति पत्र प्रदान कर सम्मानित किया।

IMG 20230915 WA0031

कार्यक्रम में जन परिषद मंदसौर चैप्टर के जिला संयोजक डॉ घनश्याम बटवाल ने संस्था में साहित्य पुस्तकालय के शुभारंभ पर कई लेखकों की पुस्तके , साहित्य संग्रह भेंट किये ।

संचालन नरेन्द्र भावसार ने और आभार नन्दकिशोर राठौर ने माना।

अंत में अनंतनाग में शहीद हुए सेना में मेजर कर्नल एवं डीएसपी को मौन रखकर श्रद्धांजलि दी गई।

इस अवसर पर गणमान्य जनों के साथ कवियों साहित्यकारों की उपस्थिति रही ।

भारत विकास परिषद प्रांतीय पदाधिकारी श्री घनश्याम पोरवाल , जिलाध्यक्ष अजय शर्मा , प्रोजेक्ट प्रभारी गौरव रत्नावत , संगीत महाविद्यालय जनभागीदारी समिति अध्यक्ष नरेंद्र कुमार त्रिवेदी , धार्मिक उत्सव समिति अध्यक्ष सुभाष गुप्ता वरिष्ठ समाजसेवी दिलीप सेठिया , विवेक मरच्या आदि ने हिंदी दिवस पर तीन संस्थाओं को सम्मानित किया ।