पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत के नेतृत्व में बने पैनल द्वारा केंद्र के विज्ञापनों की मॉनिटरिंग

पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत के नेतृत्व में बने पैनल द्वारा केंद्र के विज्ञापनों की मॉनिटरिंग

मीडियावाला.इन।

नई दिल्ली: देश के पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त ओ पी रावत के नेतृत्व में एक पैनल, जिसमें विज्ञापन क्षेत्र के जाने माने हस्ती रमेश नारायण और प्रसार भारती के पूर्व सदस्य ए के टंडन सदस्य होंगे, केंद्र सरकार द्वारा जारी विज्ञापनों के तथ्य तथा इस बात का परीक्षण करेंगे की उक्त विज्ञापन उच्चतम न्यायालय द्वारा निर्धारित दिशा निर्देशों के अनुसार है या नहीं।

पैनल के प्रमुख ओपी रावत 1977 बैच के मध्य प्रदेश कैडर के आईएएस अधिकारी हैं। वे मध्यप्रदेश में जनसंपर्क आयुक्त ,प्रमुख सचिव, अपर मुख्य सचिव से लेकर कई महत्वपूर्ण पदों पर कार्य कर चुके हैं। सेवानिवृत्ति के बाद वह देश के मुख्य चुनाव आयुक्त बनाए गए थे। समिति के नए सदस्यों में  रमेश नारायण इंटरनेशनल एडवरटाइजिंग एसोसिएशन के एशिया - प्रशान्त क्षेत्र के एरिया डायरेक्टर है वहीं ए के टंडन भूतपूर्व प्रधान मंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेई के मीडिया सलाहकार रह चुके हैं।

उक्त समिति ना सिर्फ प्रिंट मीडिया के विज्ञापन को मॉनिटर करेगी बल्कि सूचना और प्रसारण मंत्रालय, इंडियन ब्रॉडकास्टिंग फाउंडेशन और नेशनल ब्रॉडकास्टर एसोसिएशन से इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में विज्ञापन सम्बन्धित दिशानिर्देशों के उल्लंघन के बारे में रिपोर्ट  भी प्राप्त करेगी । समिति से मंत्रालय को मासिक रिपोर्ट भेजने को कहा गया है।

ज्ञातव्य है कि अप्रैल, वर्ष 2016 में सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने एक कमेटी गठित की थी, यह सुनिश्चित करने के लिए कि उच्चतम न्यायालय के द्वारा विज्ञापन के संबंध में निश्चित किए गए दिशा निर्देशों का पालन पूर्णतः किया जाए। उक्त समिति में पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त बी बी टंडन, इंडिया टीवी के मुख्य संपादक रजत शर्मा तथा विज्ञापन क्षेत्र प्रसिद्ध व्यक्तित्व पीयूष पांडेय सदस्य थे। 
वर्ष 2015 में उच्चतम न्यायालय ने केंद्र सरकार को निर्देश दिया कि सरकार के विज्ञापनों के नियमन के लिए एक तीन सदस्यीय समिति गठित की जाए जिसमें सदस्य ऐसे व्यक्ति हों जिनकी निष्पक्षता संदेह से परे हो । पिछले सप्ताह जारी एक अधिसूचना के द्वारा सूचना और प्रसारण मंत्रालय ये कहा कि नई समिति सरकार के विज्ञापनों के संबंध में उच्चतम न्यायालय के दिशनिर्देशों को लागू कराना सुनिश्चित करेगी। 
नई समिति के पैनल के सदस्यों का नाम एक तीन सदस्यीय पैनल ने तय किया जिसमें सदस्य प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया के चेयरमैन सी के प्रसाद, प्रमुख गीतकार प्रसून जोशी तथा सूचना और प्रसारण मंत्रालय के सचिव अमित खरे हैं।
वर्ष 2016 में बी बी टंडन के नेतृत्व में समिति ने कांग्रेस नेता अजय माकन द्वारा शिकायत किए जाने पर  आम आदमी पार्टी द्वारा सरकारी विज्ञापनों में किए गए खर्च का संज्ञान लिया था तथा आम आदमी पार्टी को निर्देश दिया था कि वो उक्त विज्ञापनों पर हुए खर्च किए गए धन को वापस करे और ये भी कहा कि दिल्ली सरकार द्वारा किए गए उक्त खर्च का निर्धारण करे।

0 comments      

Add Comment