कोरोना पर जीत के बाद थकान मिटाने और पत्नी का जन्मदिन मनाने सीएम शिवराज सपरिवार पहुंचे पचमढ़ी

कोरोना पर जीत  के बाद थकान मिटाने और पत्नी का जन्मदिन मनाने सीएम शिवराज सपरिवार पहुंचे पचमढ़ी

मीडियावाला.इन।

Bhopal, MP:  बगैर कोई अवकाश लिए लगातार कोरोना से जूझने के बाद उसपर नियंत्रण पा लेने पर परिवार के साथ छुट्टी मनाने का तो हर किसी का हक बनता ही है। 10 जून से प्रदेश के अधिकांश इलाकों मे कोरोना कर्फ्यू से रियायत मिल गई है। इसी खुशी में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह अपने परिवार के साथ पचमढ़ी पहुंच गए। वह अपने बिजी शेड्यूल में से परिवार के लिए भी थोड़ा वक्त तो निकाल ही लेते हैं। 10 जून को सीएम शिवराज की पत्नी साधना सिंह का जन्मदिन भी है। 

सीएम शिवराज सिंह चौहान बुधवार देर शाम पचमढ़ी पहुंच गए थे। उनके साथ पत्नी साधना और बेटे कार्तिकेय भी हैं। वे परिवार के साथ रविशंकर भवन में ठहरे हैं। अधिकारियों के मुताबिक शुक्रवार सुबह मुख्यमंत्री भोपाल के लिए लौटेंगे। जरूरी प्रशासनिक अमला उनके साथ मौजदू है। 

सीएम ने पचमढ़ी पहुंचते ही सोशल मीडिया पर एक आम के पेड़ के साथ फोटो शेयर किया है। जिसमें उन्होंने लिखा-मेहनत का फल' शायद इसे ही कहते हैं। मेरे द्वारा 16 अगस्त 2016 को लगाये गए आम के पेड़ में फल आ गए हैं। आप भी जब पौधा लगाएंगे, उसकी देखभाल करेंगे और जब वह पेड़ बड़ा होकर आपको फल देगा, तो मैं विश्वास के साथ कह सकता हूँ कि उससे ज़्यादा आनंद की अनुभूति आपको नहीं होगी।

दिन की शुरूआत उन्होंने बरगद वृक्ष की पूजा से की। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि आज बरा बरसात की पूजा के शुभ दिन पर मुझे पचमढ़ी के बड़कछार के प्रसिद्ध वटवृक्ष के दर्शन और उसकी छाया में समय व्यतीत करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। उन्होंने कहा कि मान्यता है कि वटवृक्ष की विशाल जटाएँ दीवार बनकर नागरिकों की सुरक्षा कर रही हैं। यह शुभ और मंगलकारी दीवार सदैव ऐसे ही खड़ी रहे, यही शुभकामना है।

मुख्यमंत्री चौहान ने सबसे आग्रह किया कि बरा बरसात के पवित्र दिन पर पौधे अवश्य रोपें। किसी भी विशिष्ट अवसर पर पौधे लगाने से आपको असीम आनंद एवं सुख की अनुभूति होगी। पौध-रोपण से न केवल सुख मिलेगा, अपितु भावी पीढ़ियों को भी जीने के लिए एक बेहतर संसार मिलेगा।

सीएम शिवराज का यह पचमढ़ी दौरा व्यक्तिगत है। इस कारण उन्होंने मीडिया से दूरी बनाए रखी। उनके दौरे से दो दिन पहले ही होशंगाबाद जिले के कलेक्टर धनंजय सिंह, एसपी संतोष सिंह गौर, सतपुड़ा टाइगर रिजर्व के अधिकारियों ने इसकी तैयारी शुरू कर दी थीं। बताया जाता है कि उनके साथ ये अधिकारी साथ हैं।

सीएम शिवराज की पत्नी साधना सिंह का जन्म 10 जून, 1965 को महाराष्ट्र के गोंदिया जिले में हुआ था। उनकी 1992 में शिवराज सिंह से शादी हुई थी। सीएम चौहान की तरह वे भी जनता के बीच  लगातार काम करती रहती हैं। साधना सिंह राजनीतिक-सामाजिक कार्यों से भी जुड़ी हैं। वे किरार महासभा की राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं साथ सीएम के साथ आए दिन राजनीतिक आयोजनों में दिखाई देती हैं। वे मुख्यमंत्री के विधानसभा में प्रचार-प्रसार भी करती नजर आती हैं। RB

0 comments      

Add Comment