अगले एक सप्ताह में हो सकता है शिवराज कैबिनेट का विस्तार

अगले एक सप्ताह में हो सकता है शिवराज कैबिनेट का विस्तार

मीडियावाला.इन।

 भोपाल: अगर सब कुछ ठीक रहा तो मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अपनी कैबिनेट का अगले एक सप्ताह में विस्तार और फेरबदल का काम पूरा कर लेंगे।अभी तक जो मंत्रिमंडल है वह मुख्यमंत्री शिवराज के होते हुए भी,उनका नहीं माना जा रहा था। 
दोपहर मेट्रो की रिपोर्ट के अनुसार शिवराज कैबिनेट का नया स्वरूप 2023 के विधानसभा चुनाव को ध्यान में रखते हुए बनाया जाएगा। भाजपा संगठन के भरोसेमंद सूत्रों की मानें तो शिवराज सिंह चौहान करीब हफ्ते भर में नई टीम को बनाने और उसे हाईकमान की हरी झंडी पाने का काम कर लेंगे यानी अगले 7  दिनों के भीतर शिवराज मंत्रिमंडल का पुनर्गठन हो सकता है। सबसे पहले तो गोविंद राजपूत और तुलसी सिलावट को कैबिनेट में शरीक किया जाना तय है। जैसा कि सब जानते हैं मंत्री बनने के बाद बिना विधायक बने 6 महीने का वक्त बीत जाने के चलते उपचुनाव के बीच में दोनों को इस्तीफा देना पड़ा था। अब दोनों ही  भारी मतों से चुनाव जीतकर पुनः विधायक बन चुके हैं।
सिंधिया खेमे के तीन मंत्री चुनाव हार चुके हैं । माना जा रहा है कि उनकी जगह मंत्रिमंडल में अब भाजपा के वरिष्ठ नेताओं को शामिल किया जाएगा, जो पूर्व में भी मंत्री रह चुके हैं। इनमें सबसे ऊपर रामपाल सिंह का नाम बताया जा रहा है। सियासी गलियारों के चर्चा के अनुसार रामपाल सिंह ने सांची विधानसभा क्षेत्र में बहुत मेहनत कर चौधरी को सर्वाधिक मतों से विजय बनवाने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की है। माना जा रहा है कि रामपाल सिंह के नाम को लेकर शिवराज ने हाईकमान से अनुमति भी प्राप्त कर ली है। इसके साथ ही वरिष्ठ विधायक राजेंद्र शुक्ला, संजय पाठक, केदार शुक्ला जैसे नाम भी सामने हैं।
जबलपुर से अजय विश्नोई तो नरसिंहपुर से जालम सिंह पटेल की भी दावेदारी है। इसी प्रकार मालवा क्षेत्र से रमेश मेंदोला का नाम सामने आया है । जैन समाज के विधायकों ने भी अपना दावा किया है। देखना है क्या सीएम किसी जैन को मंत्रिमंडल में स्थान देंगे। मंदसौर से यशपाल सिंह सिसोदिया की भी दावेदारी सामने है।
यह भी माना जा रहा है कि मंत्रिमंडल विस्तार के साथ निगम मंडलों में भी नेताओं को एडजस्ट किया जाएगा। सिंधिया समर्थक 3 हारे हुए मंत्रियों को निगम मंडल में स्थान देकर नवाजा जा सकता है।
उपचुनाव के दौरान कई नेताओं को पद का आश्वासन दिया गया था। ऐसे नेताओं में दीपक जोशी, भंवर सिंह शेखावत आदि शामिल हैं। माना जा रहा है कि इन्हें भी निगम मंडल में एडजस्ट किया जा सकता है।

0 comments      

Add Comment