कहाँ गई CM शिवराज की मृत Deputy Ranger को शहीद का दर्जा और परिजनों को एक करोड़ रुपए देने की घोषणा, परिजनों ने मीडिया के सामने CM के ट्वीट के साथ रखी अपनी बात

कहाँ गई CM शिवराज की मृत Deputy Ranger को शहीद का दर्जा और परिजनों को एक करोड़ रुपए देने की घोषणा, परिजनों ने मीडिया के सामने CM के ट्वीट के साथ रखी अपनी बात

मीडियावाला.इन।

भिंड से परानिधेश भारद्वाज की रिपोर्ट

भिण्ड:  जिले के डूंगरपुरा गांव के रहने वाले डिप्टी रेंजर सूबेदार सिंह कुशवाह का 7 सितंबर 2018 को मुरैना जिले में ड्यूटी के दौरान रेत से भरे ट्रैक्टर को रोकने के दौरान ट्रैक्टर से कुचलकर मौत हो गई थी। जिसके बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मृतक को शहीद का दर्जा देने और परिजनों को एक करोड़ रुपए देने की घोषणा की थी। लेकिन अभी तक 15 लाख रुपए की विभागीय सहायता के अलावा परिजनों को कुछ नहीं मिला है। जिसके बाद परिजनों ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर मीडिया के सामने अपनी बात रखी।

यह भी पढ़ें: पूर्व मंत्री राजेन्द्र शुक्ला के प्रयासों से सोलर एनर्जी के क्षेत्र में रीवा ने रचा इतिहास, अब दिल्ली मेट्रो चल रही है रीवा की बिजली से

सरकार की कथनी और करनी में अंतर बताया जाता रहा है। कहते हैं कि सरकार बोलती कुछ और है और करती कुछ और है। इसका जीता जाता उदाहरण चंबल अंचल में देखने को मिल रहा है। यहां पर मुरैना जिले में रेत माफिया के ट्रैक्टर से कुचलकर डिप्टी रेंजर की 7 सितंबर 2018 को मौत हो गई थी। इसी साल अक्टूबर-नवंबर में विधानसभा चुनाव भी होना थे। ऐसे में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने देर ना करते हुए हादसे पर दुख जताया और मृतक डिप्टी रेंजर को शहीद का दर्जा एवं परिजनों को एक करोड़ की सहायता राशि देने की घोषणा टि्वटर पर की। सूबेदार सिंह की मौत हुए लगभग 3 साल होने को आ गए हैं लेकिन शहीद के परिजन सरकारी मदद की आस लगाए बैठे हुए ही हैं। डिप्टी रेंजर स्वर्गीय सूबेदार सिंह कुशवाह के परिजन भिण्ड, मुरैना से लेकर भोपाल तक गुहार लगा चुके हैं।

यह भी पढ़ें: कांग्रेस के मोर्चा संगठन जिलों में कमजोर, बदली जाएगी टीम,PCC चीफ के पास पहुंची रिपोर्ट, नहीं है जमीन पर सक्रिय

शहीद के परिजनों ने बताया है कि उनके पिता की मौत के बाद स्वयं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर मृतक डिप्टी रेंजर को शहीद का दर्जा देने और परिजनों को एक करोड़ रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान करने की घोषणा की थी। लेकिन परिजनों के अनुसार उनको विभाग की ओर से 15 लाख रुपये की आर्थिक सहायता के अलावा कुछ नहीं मिला। यहां तक कि उनकी माँ को पेंशन भी अभी तक नहीं मिली है। उसमें भी अधिकारियों द्वारा शहीद का तमगा लाने के लिए बोल दिया जाता है। लड़के को अनुकंपा नियुक्ति और एक करोड़ की सहायता राशि तो दूर की बात है। ऐसे में परिजन मीडिया के माध्यम से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मदद की गुहार लगा रहे हैं।

देखिये वीडियो: क्या कह रहे हैं, शहीद के पुत्र-

देखिये 8 सितम्बर, 2018 को CM शिवराज द्वारा किया गया ट्वीट-

RB

0 comments      

Add Comment