Minor Groom Adamant on Marriage : शादी की जिद पर अड़ा नाबालिग दूल्हा, फटकार के बाद माना!

वधू पक्ष के मना करने पर भी जाने को तैयार नहीं था, फिर उसे पुलिस का भय बताया!  

390

Minor Groom Adamant on Marriage : शादी की जिद पर अड़ा नाबालिग दूल्हा, फटकार के बाद माना!

Indore : नाबालिग लड़के और लड़की के विवाह की सूचना पर जब महिला एवं बाल विकास विभाग की टीम मौके पर पहुंची तो दस्तावेजों के मुताबिक दूल्हे और दुल्हन की उम्र कम पायी गई। दोनों के परिजनों को समझाइश दी गई। दुल्हन 17 साल 3 माह की और दूल्हा 18 साल का था। दोनों परिवार शादी न करने पर राजी हो गए। किंतु, अचानक दूल्हा अड़ गया कि वह तो हर हाल में दुल्हन लेकर ही जाएगा। समझाइश के बाद भी न मानने पर टीम ने पुलिस को बुलाया। जब पुलिस ने दुल्हे को जमकर फटकार लगाई, तब वह माना और शादी रोक दी गई।

जिले में बाल विवाह न हों, इसके लिए कलेक्टर आशीष सिंह के निर्देश पर जिले में महिला एवं बाल विकास विभाग के जिला कार्यक्रम अधिकारी रामनिवास बुधौलिया ने अलग-अलग दल गठित किए हैं। बसंत पंचमी पर होने वाले सामूहिक विवाह समारोहों में टीम ने जाकर वर वधु की आयु का परीक्षण किया। सामूहिक विवाह में एक भी जोड़ा कम उम्र का नहीं पाया गया।

दल में शामिल महेंद्र पाठक, संदेश रघुवंशी, आशीष गोस्वामी, देवेंद्र कुमार पाठक और राजकुमार खंडेलवाल ने आयोजन समिति से चर्चा करते हुए उन्हें समझाइए तथा आयोजन स्थल पर प्रत्येक वर-वधु के जन्म संबंधी दस्तावेज रखने और आमंत्रण पुस्तिका में जन्मतिथि अंकित करने की सलाह दी।

बसंत पंचमी के दिन शाम को कंट्रोल रूम में गोंदवाले धाम के पास बाल विवाह होने की शिकायत मिली। सूचना के बाद महेंद्र पाठक, किशोर पुलिस कल्याण इकाई के रोहित मुजाल्दा और देवेंद्र कुमार पाठक द्वारकापुरी थाने के आरक्षक धर्मेंद्र सिंह और मोहन के साथ मौके पर पहुंचे। वहां पता चला कि बालिका के माता-पिता नहीं है। दादा-दादी उसका मजबूरी में विवाह करवा रहे हैं। बारात महू से आई थी।

बालिका का जन्म प्रमाण पत्र परिवार पक्ष द्वारा प्रस्तुत किया गया जिसके अनुसार उसकी उम्र 17 वर्ष 3 माह प्रमाणित हुई। दूल्हे के भाई पवन ने बताया कि दूल्हे की आयु भी फ़िलहाल 18 साल है। मौके पर मौजूद पंडित, रसोई बनाने वाले तथा परिजनों को बुलाकर समझाइश दी गई। बाल विवाह प्रतिषेध अधिनियम की जानकारी देने के बाद दोनों परिवार विवाह निरस्त करने को तैयार हो गए।

IMG 20240215 WA0059 1

उन्होंने कहा कि बच्चों के बालिग होने पर ही वह विवाह करेंगे। कानून की जानकारी पाकर पंडित भी तुरंत वापस लौट गया। रसोईया ने भी शपथ ली कि वह आगे से किसी भी विवाह संपन्न करने से पहले वर-वधु की आयु का परीक्षण अवश्य करेगा।

विवाह निरस्त होने पर जब अमला लौटा तो अचानक ही सूचना मिली कि दुल्हा हर हाल में दुल्हन को लेकर जाने पर अड़ गया है। महेंद्र पाठक ने मामले की गंभीरता को देखते हुए यह जानकारी एसडीएम राऊ राकेश परमार और विभाग के भगवानदास साहू को दी। उन्होंने थाना द्वारकापुरी क्षेत्र के एसीपी और थाना प्रभारी को जानकारी देकर तुरंत कार्रवाई की बात कही। थाने का अमला मौके पर पहुंचा और नाबालिग दूल्हे को फटकार लगाई। पुलिस की फटकार और कार्रवाई से डरकर दूल्हा बगैर दुल्हन के ही वापस लौटने को तैयार हुआ।