MP News: विदिशा, गुना में हवाई सर्वे के जरिये CM ने देखी बाढ़ से तबाही

मंत्रियों को राहत में तेजी लाने के दिए निर्देश

842

भोपाल. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को विदिशा के बाढ़ प्रभावित इलाकों का एरियल दौरा किया। हवाई सर्वे के दौरान उन्होंने बाढ़ से हुए नुकसान का जायजा लिया। इसके बाद वे गंजबासौदा के गांवों में उन लोगों के बीच पहुंचे जो बाढ़ के चलते पानी में फंसे थे।

कलेक्टर और होमगार्ड टीम के साथ सीएम चौहान ने गांवों में पहुंचकर बाढ़ में फंसे हुए लोगों को रेस्क्यू कराने में मदद की और उन्हें हर तरह से सहयोग के लिए आश्वस्त किया। सीएम चौहान ने इसके बाद गुना जिले के बाढ़ प्रभावित ग्रामीण क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण किया।

शाम के पहले फंसे लोगों को करें रेस्क्यू

सीएम ने रेस्क्यू आपरेशन तेज करने के निर्देश देते हुए कहा कि अतिवृष्टि और प्रभावित क्षेत्रों में फंसे लोगो को शाम से पहले रेस्क्यू करें।

अफसरों ने सीएम को बताया कि ऐसे क्षेत्रों में एसडीआरएफ, एनडीआरएफ की टीम मौजूद है। जिला प्रशासन और होमगार्ड के जवान भी बोट के द्वारा रेस्क्यू में लगे हुए है। हेलीकाप्टर से भी लोगों को निकाला जा रहा है।

अधिकारियों ने बताया कि नर्मदा नदी में अब जल स्तर स्थिर हो रहा है, बेतवा नदी में भी तेजी से जल स्तर सामान्य हो रहा है। भोपाल, नर्मदापुरम संभाग में आज सामान्य बारिश और बूंदा-बांदी की स्थिति रहेगी।

सीएम को बताया गया कि पिछले 24 घण्टे में एनडीआरएफ और एसडीआरएफ ने विदिशा में 190, राजगढ़ में 103, अशोकनगर में 94, रायसेन में 7, जबलपुर में 5, मंडला व गुना में 3-3, सीधी में 2 लोगों को रेस्क्यू किया है।

भिंड, मुरैना, श्योपुर में एलर्ट रहने कहा, नुकसान की जानकारी मांगी

अतिवृष्टि की समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री चौहान ने चंबल, पार्वती और सिंध नदी में पानी के बढ़ रहे संभावित स्तर को लेकर भिंड, मुरैना, श्योपुर को सतर्क रहने के निर्देश दिए गए हैं।

अतिवृष्टि से हुए फसल नुकसान, सड़क, पुलिया सहित अन्य नुकसान की जानकारी शीघ्र मुख्यमंत्री कार्यालय को देने के निर्देश दिए गए हैं।

बैठक में मंत्री विश्वास सारंग, सीएस इकबाल सिंह बैंस, डीजीपी सुधीर सक्सेना, एसीएस राजेश राजौरा, एसएन मिश्रा, पीएस मुख्यमंत्री मनीष रस्तोगी सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे ।

मंत्रियों को निर्देश, जनता के हित का रखें ध्यान, रेस्क्यू में देरी न हो- सीएम

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को कैबिनेट की बैठक  स्थगित करने के बाद मंत्रियों से वर्चुअली संवाद किया। सीएम चौहान ने मंत्रियों से कहा कि प्रभार के जिलों और गृह जिलों में बाढ़ और बारिश की स्थिति का खुद आंकलन करें।

अफसरों से रिपोर्ट लें कि कहां रेस्क्यू और जल भराव की स्थिति है? लोगों को तुरंत राहत पहुंचाने, राहत शिविरों में शिफ्ट करने की तैयारी रखें। एयरलिफ्ट करने का काम भी चल रहा है।

चंबल में पानी बढ़ेगा क्योंकि गांधी सागर का पानी निकल रहा है, वहां से प्रभावित होने वाले जिलों में निगरानी जरूरी है। जब बाढ़ की स्थिति सामान्य हो जाए तो मंत्री खुद दौरा कर लोगों से सीधे मिलें और राहत दिलाने के लिए नुकसान का सर्वे कराएं।