मोदी ने उद्योगपति दोस्तों की वजह से पायलटों को खतरे में डाला : राहुल

मोदी ने उद्योगपति दोस्तों की वजह से पायलटों को खतरे में डाला : राहुल

मीडियावाला.इन। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने गुरुवार को कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार का ध्यान संप्रग-काल के रक्षा सौदे को अंतिम रूप देने से ज्यादा इसे दोबारा तय करने पर था, जिस वजह से भारतीय वायुसेना (आईएएफ) के पायलटों की जिंदगी खतरे में पड़ गई, क्योंकि वे पुराने विमानों को उड़ाने के लिए बाध्य हैं। राहुल ने फेसबुक पोस्ट के जरिए कहा, "2014 के बाद से, कांग्रेस नीत संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन सरकार के सौदे को अंतिम रूप देने के स्थान पर मौजूदा सरकार ने सिर्फ अपने उद्योगपति दोस्तों को फायदा पहुंचाने के लिए सौदे को दोबारा तय करने पर ध्यान केंद्रित किया।"

राहुल ने आगे कहा, "और इसलिए हमारे पायलटों को प्रत्येक दिन अपनी जान को जोखिम में डालना पड़ता है- उन्हें पुराने जगुआर को उड़ाना पड़ता है, जिसे फ्रांस और विश्व के अन्य भागों के जंक यार्डो में इसके कुछ पार्ट्स के दोबारा प्रयोग के लिए रखा जाता है।"

उन्होंने कहा, "यह न केवल शर्मनाक है, बल्कि इससे भारत की प्रतिष्ठा पूरे विश्व में धूमिल होती है। इस वजह से हमारे पायलट की जान को खतरा उत्पन्न होता है।"

संप्रग कार्यकाल के समय राफेल सौदे की तरफदारी करते हुए राहुल ने कहा, "संप्रग कार्यकाल में 126 राफेल विमानों के लिए किए गए सौदे को आगे बढ़ाने से भारतीय वायुसेना का कायाकल्प हो जाता और हम जगुआर जैसे पुराने विमानों को बदलने में सक्षम होते।"

उन्होंने कहा, "उस सौदे में एचएएल को तकनीक हस्तांतरित किया जाना था, ताकि हम भविष्य में ज्यादा आत्मनिर्भर हो सकें।"

राहुल ने कहा, "इसके बदले अनिल अंबानी को फायदा पहुंचाने के लिए सौदे को दोबारा तय किया गया और इसे घटाकर केवल 36 विमानों तक सीमित कर दिया गया, जो सभी फ्रांस में बनेंगे! इन विमानों को भारत में आने में वर्षो का समय लगेगा।"
 

0 comments      

Add Comment