कोरोना वायरस के लिए वैक्सीन बनाने में भारत को मिली एक और सफलता, जल्द हो सकता है जानवरों पर ट्रायल शुरू

कोरोना वायरस के लिए वैक्सीन बनाने में भारत को मिली एक और सफलता, जल्द हो सकता है जानवरों पर ट्रायल शुरू

मीडियावाला.इन।

भारतीय वैज्ञानिकों का वैक्सीन को लेकर शोध अब जानवरों पर ट्रायल तक पहुंच चुका है, 15 दिनों में कहा जा रहा है कि ये परीक्षण किया जाएगा. अगर इस परीक्षण के दौरान सफलता मिल गई तो इसका इस्तेमाल इंसानों पर भी किया जाएगा. बता दें वैक्सीन शोद में देश के सात से आठ वैज्ञानिक आगे चल रहे हैं. इतना ही नहीं बल्कि वैक्सीन के अध्ययन में आधा दर्ज शैक्षणिक संस्थाओं के वैज्ञानिक भी लगे पड़े हैं.

पूर्ण रूप से सफलता के लिए भारतीय वैज्ञानिकों को 12 से 14 महीने का समय लग सकता है. वैज्ञानिकों का 75 दल जो दुनियाभर में वैक्सीन के परीक्षण में लगा हुआ है. एक विरष्ठ अधिकारी का ये कहना है कि किसी भी देश में वैक्सीन को क्यों ना बनाया जाए लेकिन भारत में ही इसका उत्पादन किया जाएगा. एक रिपोर्ट कि मानें तो भारत बायॉटेक, कैडिला, सीरम इंस्टीट्यूट समेत कुछ कंपनियों के वैज्ञानिकों के बारे में ऐसा कहा जा रहा है कि वो लोग ट्रायल तक पहुंच चुके हैं.

देश में शुरू हुए शोधों की निगरानी प्रधानमंत्री नपेंद्र मोदी के निर्देश पर डॉ रेणु स्वरूप जो जैव पौद्योगिकी विभाग की सचिव है वो कर रही हैं. इतना ही नहीं बल्कि वायरस के प्रजनन पर भी शोध किया जा रहा है. मंत्रालय की तरफ से ये जानकारी मिली है कि भारत में कोरोना पर अध्ययन शुरू किया जा चुका है. शरीर में अगर वायरस चला जाता है तो अन्य वारस को तेजी से पैदा कर दते है और जल्द ही कई गुना बढ़कर फैलने लगता है.

समूह दो साल पहले बना था..

दो साल पहले ही दुनियाभर के औद्योगिक और शैक्षणिक वैज्ञानिकों का एक समूह बन चुका था, इसकी जानकारी एक वरिष्ठ वैज्ञानिक ने दी, जिसमें भारत की भागीदारी भी जोरों-शोरों पर है. ऐसे ही कोरोना जैसी महामारी के लिए वैक्सीन तैयार करने के लिए भी काम किया जा रहा है.

Cric Hindi News via Dailyhunt

RB

0 comments      

Add Comment