कोरोना के बढ़ते केस से टेंशन में कई राज्य, दिल्ली-महाराष्ट्र समेत इन राज्यों में नए नियम लागू

कोरोना के बढ़ते केस से टेंशन में कई राज्य, दिल्ली-महाराष्ट्र समेत इन राज्यों में नए नियम लागू

मीडियावाला.इन।

भारत में पिछले चार दिनों में कोरोना वायरस के ताजा मामलों में लगातार बढ़ोतरी हुई है. पिछले 24 घंटों में 46,232 नए मामले सामने आए हैं जिससे कुल मामलों की संख्या बढ़कर 90,50,597 तक हो गई है. हालांकि, यह लगातार 14वां दिन है जब भारत ने एक दिन में 50,000 से कम मामले दर्ज किए. पिछली बार हर दिन नए मामले 7 नवंबर को 50,000 को पार कर गए थे. देश में कोरोना के कारण 564 नई मौतें हुई है, अब तक कुल 1,32,726 लोग जान गंवा चुके हैं.

आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, भारत में शुक्रवार को 45,882, गुरुवार को 45,567, जबकि बुधवार को 38,616 मामले दर्ज किए. इस बीच, सक्रिय मामलों की संख्या 4,39,747 है. इस बीमारी से अब तक 84,78,124 लोग ठीक हो चुके हैं. महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश और कर्नाटक में सबसे ज्यादा मामले सामने आए हैं. हालांकि, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल जैसे राज्यों में भी संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है. इसे देखते हुए कई राज्यों ने अपने यहां नियमों में बदलाव किए हैं ताकि कोरोना संक्रमण पर रोक लगाई जा सके.

मध्यप्रदेश
मध्य प्रदेश के पांच जिलों में कोरोना के मरीजों की बढ़ती संख्या के मद्देनजर रात का कर्फ्यू लागू करने का सरकार ने फैसला लिया है. यह रात्रिकालीन कर्फ्यू शनिवार की रात से लागू होगा. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को कोराना की स्थिति की समीक्षा की. चौहान ने बताया कि राज्य के पांच जिलों भोपाल, इंदौर, विदिशा, रतलाम और ग्वालियर में शनिवार को रात 10 बजे से सुबह छह बजे तक रात्रिकालीन कर्फ्यू लगेगा. रात के समय कर्फ्यू लागू होने के बावजूद माल ढुलाई करने वाले वाहनों की आवाजाही पर कोई असर नहीं पड़ेगा. साथ ही कल-कारखानों में काम करने वाले कर्मचारी ड्यूटी पर आ जा सकेंगे.

गुजरात
गुजरात सरकार ने राज्य में कोरोना के मामले बढ़ते देख स्कूल, कॉलेज और विश्वविद्यालयों को फिर से खोलने के निर्णय पर यू-टर्न ले लिया है. साथ ही सरकार ने राज्य की वित्तीय राजधानी अहमदाबाद में रात 9 बजे से सुबह 6 बजे तक रात का कर्फ्यू लगाने का भी फैसला किया है. राज्य सरकार ने गुरुवार की रात को कहा कि स्कूल और कॉलेजों को फिर से खोलने के फैसले को ‘स्थगित’ कर दिया गया है. बता दें कि दिवाली के त्योहार के बाद विशेषकर अहमदाबाद में कोरोना वायरस के मामलों की संख्या तेजी से बढ़ी है. लिहाजा सरकार ने 11 नवंबर को विचार-विमर्श करके 23 नवंबर से स्कूलों, कॉलेजों और विश्वविद्यालयों को फिर से खोलने का फैसला करते हुए इस संबंध में निर्देश भी दे दिए थे. सरकार के इस कदम की जनता ने खासी आलोचना हुई थी और अब सरकार को अपना फैसला रद्द करना पड़ा है.

दिल्ली
दिल्ली में कोरोना के मामलों में फिर तेजी देखी जा रही है. इसके मद्देनजर कुछ नए नियम बनाए गए हैं जिसके तहत अब कोरोना के मानदंडों और सामाजिक दूरी के नियम तोड़ने पर 2000 हजार रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा. इसके साथ ही मास्क न पहनने और सार्वजनिक स्थानों पर पान, गुटखा आदि खाने पर भी 2000 रुपये जुर्माना देना होगा. अभी तक जुर्माने के तौर पर 500 रुपये वसूले जा रहे थे. दिल्ली सरकार के नोटिफिकेशन में स्पष्ट किया गया है कि क्वारनटीन नियमों का पालन नहीं करने, सामाजिक दूरी (सोशल डिस्टेंसिंग) को नहीं अपनाने और सार्वजनिक स्थानों पर फेस मास्क नहीं पहनने पर 2 हजार जुर्माना वसूला जाएगा. इसके साथ ही दिल्ली सरकार ने शादी समारोह में 200 से अधिक लोगों के जुटने की संख्या को घटा कर 50 व्यक्तियों के शामिल होने की अनुमति कर दी है.

महाराष्ट्र/मुंबई
बृहन्मुंबई नगर निगम ने कोविड-19 को फैलने से रोकने के लिए एहतियात के तौर पर शुक्रवार को सभी स्कूलों को 31 दिसंबर तक बंद रखने का आदेश दिया. राज्य सरकार ने पहले कक्षा 9वीं से 12वीं तक के स्कूलों को 23 नवंबर से और बाद में छोटी कक्षाओं को खोलने की अनुमति दी थी. लेकिन कोरोना के नए मामलों और दिवाली के बाद होने वाली मौतों को देखते हुए बीएमसी ने 31 दिसंबर तक उस आदेश को लागू न करने के खिलाफ फैसला किया है. साथ ही राज्य सरकार ने स्थानीय जिला प्रशासनों को कोविड-19 को लेकर जमीनी स्तर के आधार पर उनके अधिकार क्षेत्र में आने वाले स्कूल-कॉलेजों को फिर से खोलने का निर्णय लेने की जिम्मेदारी दी है. तब तक सभी स्कूल वीडियो-कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कक्षाएं लेते रहेंगे. कोरोना प्रकोप शुरू होने के बाद से ही देश में मुंबई सबसे ज्यादा प्रभावित हुई है. यहां 10,627 मौतें हुईं और 2,72,455 मामले सामने आए. अब यहां कोरोना की दूसरी लहर की आशंका जताई जा रही है.

TV9 भारतवर्ष

0 comments      

Add Comment