मिलिट्री एक्‍शन पर सिर्फ डिफेंस वाले बोलें, नेता नहीं: करगिल हीरो कैप्‍टन विक्रम बत्रा के पिता

मिलिट्री एक्‍शन पर सिर्फ डिफेंस वाले बोलें, नेता नहीं: करगिल हीरो कैप्‍टन विक्रम बत्रा के पिता

मीडियावाला.इन।

शहीद कैप्‍टन बत्रा के पिता ने कहा, "अगर इन चीजों के बारे में बोलना ही है तो सैन्‍य अधिकारियों या रक्षा मंत्री को ही बोलना चाहिए."

पुलवामा में 14 फरवरी को आत्‍मघाती हमले में शहीद हुए CRPF जवानों में हिमाचल प्रदेश के तिलक राज भी शामिल थे. कांगड़ा में तीन कमरों के घर में उनका परिवार रहता है. तीन महीने पहले यहां पर राजनेताओं का जमावड़ा लगा था, मगर अब चुनावी मौसम में नेता खोजने से भी दिखाई नहीं पड़ रहे. राज्‍य के कांगड़ा और हमीरपुर बेल्‍ट में कई रिटायर्ड और सर्विंग सैन्‍य कर्मचारियों के परिवार रहते हैं. हमीरपुर के सैनिक कल्‍याण विभाग के अनुसार, राज्‍य में 1,51,000 पूर्व सैनिक हैं, जिनमें पेंशनर विधवाएं और युद्ध विधवाएं शामिल हैं.

तिलक राज की पत्‍नी सावित्री (25) बालाकोट एयर स्‍ट्राइक को सराहती हैं, मगर चुनाव प्रचार के दौरान बार-बार पुलवामा हमले के जिक्र से नाखुश नजर आती हैं. द इंडियन एक्‍सप्रेस से बातचीत में उन्‍होंने कहा, "वोट के लिए ही तो है ये सब हल्‍ला, और क्‍या है. ये कोई समाधान थोड़े ही है. ये 10 लोग मारेंगे तो वहां से वो लोग 10 और मारेंगे." सावित्री यह भी बताती हैं चुनाव प्रचार के दौरान कोई नेता उनके घर नहीं आया.

कांगड़ा लोकसभा सीट के तहत आने वाले पालमपुर में ही करगिल युद्ध के हीरो विक्रम बत्रा का परिवार रहता है. उनके पिता जीएल बत्रा ने अखबार से कहा, "सर्जिकल स्‍ट्राइक्‍स और बालाकोट एयर स्‍ट्राइक्‍स सही कदम थे, लेकिन मैं सैन्‍य कार्रवाइयों के राजनीतिकरण के पक्ष में नहीं हूं. अगर ऐसी चीजों के बारे में बोलना ही है तो सेना प्रमुख जैसे सैन्‍य अधिकारियों या रक्षा मंत्री को ही बोलना चाहिए. रक्षा विषय के विशेषज्ञों को ही सैन्‍य कार्रवाइयों पर बोलना चाहिए, नेताओं को नहीं.".

हमीरपुर संसदीय सीट में रहने वाले रिटायर्ड कर्नल एसकेएस चंबियाल ने कहा, "छाती पीटने से वे (बीजेपी) आतंकियों को उकसा रहे हैं. पार्टी द्वारा दिए जाने वाले ऐसे भाषण राष्‍ट्रीय सुरक्षा के लिए गंभीर खतरा पैदा कर सकते हैं मगर ऐसा लगता है कि वे (बीजेपी) केवल चुनाव जीतने की ओर देख रहे हैं."

हिमाचल प्रदेश में दिए गए अपने चुनावी भाषण में, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्‍यक्ष अमित शाह लगातार सर्जिकल स्‍ट्राइक्‍स और बालाकोट एयर स्‍ट्राइक्‍स का जिक्र करते रहे हैं. मंडी लोकसभा सीट से आने वाले करगिल युद्ध के नायकों में से एक, रिटायर्ड ब्रिगेडियर कुशल ठाकुर कहते हैं, "2014 में जब से बीजेपी सत्‍ता में आई है तब से हम राष्‍ट्रीय सुरक्षा के मामलों को किस तरह संभालते हैं, उसमें आमूल-चूल बदलाव आया है." ठाकुर 2014 से ही भाजपा से जुड़े हुए हैं.

 

 

Dailyhunt

 

0 comments      

Add Comment