सपा के तत्कालीन विधायक और वर्तमान भाजपा सांसद कमलेश पासवान समेत दो को रेल रोकने पर जेल की सजा और अर्थदंड

सपा के तत्कालीन विधायक और वर्तमान भाजपा सांसद कमलेश पासवान समेत दो को रेल रोकने पर जेल की सजा और अर्थदंड

मीडियावाला.इन।

लखनऊ से रामेंद्र सिन्हा की विशेष रिपोर्ट

लखनऊ। रेलवे की संपत्ति को क्षति पहुंचाने के मामले में सत्र न्यायालय ने बांसगांव, गोरखपुर के भाजपा सांसद कमलेश पासवान और पूर्व पार्षद राजेश कुमार यादव को एक-एक साल कारावास की सजा सुनाई है। फैसले के बाद पासवान ने कहा कि वह सपा का राजनीतिक आंदोलन था। रेल रोको आंदोलन में हजारों लोग थे। इसमें से दो लोगों को सजा हुई है। हाईकोर्ट में अपील करेंगे।
अपर सत्र न्यायाधीश नम्रता अग्रवाल ने मामले में जुर्म सिद्ध पाए जाने पर यह फैसला सुनाया। दोनों अभियुक्तों पर दो-दो हजार रुपये अर्थदंड भी लगाया गया है। अर्थदंड न चुकाने पर अभियुक्तों को सात दिन का कारावास अलग से भुगतना होगा। घटना वर्ष 2004 की है। तब कमलेश पासवान तत्कालीन मानीराम विधानसभा क्षेत्र से सपा विधायक थे।
अभियोजन पक्ष की ओर से विशेष लोक अभियोजक शैलेश कुमार त्रिपाठी ने बताया कि घटना 18 दिसंबर 2004 की है। ट्रेन संख्या 222 डाउन नकहा जंगल स्टेशन से दिन में 9:33 बजे के बाद जैसे ही किमी संख्या 04/01 पर पहुंची तो अभियुक्त कमलेश पासवान और राजेश कुमार यादव ने अपने 50-60 समर्थकों के साथ लाइन पर जाम लगा दिया।
आंदोलनकारियों ने लाइन पर लेटकर ट्रेन रोक दी। ट्रेन 11: 35 बजे तक घटनास्थल पर रुकी रही। पुलिस, रेलवे सुरक्षा बल और अधिकारियों के पहुंचने के बाद भी आंदोलनकारी रेलवे लाइन से नहीं हटे। तब क्षेत्रीय प्रबंधक गोरखपुर मौके पर पहुंचे तो उनसे वार्ता कर अभियुक्तों ने उन्हें ज्ञापन सौंपा और आंदोलनकारियों को लाइन से हटने का निर्देश दिया। तब जाकर ट्रेन का संचलन शुरू हुआ।
ट्रेन के गार्ड एवं चालक ने संयुक्त रूप से प्रार्थना पत्र देकर अभियुक्तों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया। न्यायाधीश ने पत्रावली पर उपलब्ध साक्ष्यों के आधार पर सजा सुनाई। सपा विधायक कमलेश पासवान ने बाद में भाजपा का दामन थाम लिया। इसके बाद भाजपा ने बांसगांव से सांसद प्रत्याशी बना दिया। कमलेश पासवान इस सीट से तीसरी बार चुनाव जीते हैं।

0 comments      

Add Comment