निरंजन ने फ़्रांस की संसद में मध्य प्रदेश का नाम रोशन किया

1024

ग्वालियर: ग्वालियर के युवा वक्ता निरंजन देव भारद्वाज ने काउंसिल ऑफ़ यूरोप दवारा आयोजित वर्ल्ड फोरम ऑफ़ डेमोक्रेसी मे किया भारत का प्रतिनिधित्व कर मध्यप्रदेश का नाम रोशन किया है. वर्ल्ड फोरम ऑफ़ डेमोक्रेसी ,फ्राँस की लोकतंत्रिक राजधानी स्ट्रासबर्ग मे स्थित यूरोपियन संसद में 8 से 11 नवेंबर को आयोजित किया गया गया था .

क्या डेमोक्रेसी (लोकतंत्र) पर्यावरण को बचा सकता है?विषय पर केंद्रित इस तीन दिवसीय अंतरराष्ट्रीय फोरम मे निरंजन देव भारद्वाज ने बड़ी प्रखरता से अपना परिप्रेक्ष्य और भारतीय दृष्टिकोण रखा, जिसे काफी सराहा गया।

पहले दिन, निरंजन देव ने सार्वजनिक या निजी: पर्यावरण संरक्षण के लिए किस क्षेत्र की क्या भूमिका? इस विषय पर वर्ल्ड फोरम ऑफ़ डेमोक्रेसी को सार्वजनिक और निजी क्षेत्र में [आर्ट],ART का मंत्र दिया, जिसमे अकाउंटबिल्टी ,रिस्पॉन्सबिल्टी और ट्रांसपरेंसी से पर्यावरण संरक्षण में आगे बढ़ना की बात रखी.सब के लिए साफ़ स्वच्छ पर्यावरण का मानवाधिकार मे निरंजन देव ने मानवाधिकार के साथ साथ हर मानव को पर्यावरण के प्रति अपने कर्तव्य और दायित्व निभाने की बात को उल्लेखनीय रूप से रखा.

इस सत्र की अध्यक्षता फिनलैंड की राजदूत सुश्री निना नोरडसटोरम ने की.
फॉर्म के अंतिम सत्र में बहुपक्षीय संगठन: वैश्विक समस्याएं के लिए वैश्विक समाधान मे निरंजन देव ने यूरोपियन संसद् मे वसुधैव कुटुबंकम की पर्यावरणीय अवधारणा को सबके सामने प्रस्तुत किया. वर्ल्ड फोरम ऑफ़ डेमोक्रेसी का समापन काउंसिल ऑफ़ यूरोप की महासचिव सुश्री मारिया पेजक्सिनोविक्स बुरिक् ने किया.

ग्वालियर निवासी 28 वर्षीय निरंजन देव भारद्वाज एक युवा पर्यावरणविद और एक पर्यावरणीय अंतर्राष्ट्रीय फाउंडेशन के विशिष्ट सलाहकार के साथ साथ लेखक, एवं अंतर्राष्ट्रीय वक्ता हैं, जो ईरान, थाईलैंड, नेपाल, उज़्बेकिस्तान, फ्राँस आदि देशों मे पर्यावरण संरक्षण से संबंधित उदबोधन दे चुके हैं.निरंजन नेशनल बुक ट्रस्ट के चेयरमेन डॉ जीपी शर्मा के भतीजे हैं.