चार मृतात्माओं की आंखों से अब आठ लोगों के जीवन में होगा उजियारा!

भागीरथ सोलंकी, श्रीमती मंजू बाई, सीए विजय सोमानी तथा शंकर लाल नीमा की आंखों से अब रोशन होगी 8 लोगों की जिंदगी!

1352

चार मृतात्माओं की आंखों से अब आठ लोगों के जीवन में होगा उजियारा!

Ratlam : मृतात्माओं के नेत्रदान करने वाले परिवारों की संख्या में शहर में निरंतर वृद्धि हो रही हैं, इसका श्रेय जाता हैं नेत्रम संस्था के सक्रिय कार्यकर्ता और सदस्यों को जो इस भीषण गर्मी, सर्दी या बारिश की परवाह नहीं करते हुए दिन हो या रात 24 घंटे जुटे रहते हैं नेत्रदान करने वाले परिवारों से संपर्क करने के लिए।

इस संदर्भ में नेत्रम संस्था के सक्रिय सदस्य हेमन्त मूणत से चर्चा की तो उन्होंने बताया कि रतलाम में दो दिन में चार नेत्रदान सम्पन्न हुए, जिसमें एक ही समय में 3 स्थानों पर नेत्रदान होना था समय की बचत को लेकर साथियों ने अलग-अलग स्थानों पर पहुंचकर अलग-अलग टीम द्वारा एक साथ नेत्रदान करवाया।

उन्होंने बताया कि प्रथम नेत्रदान 25-मई-24 शनिवार को स्वर्गीय बद्रीलाल पिता स्वर्गीय भागीरथ सोलंकी का स्वर्गवास होने पर डॉ कीर्ति शाह, डॉ. तरूण गर्ग द्वारा उनके सुपुत्र आशीष सोलंकी व परिजनों को नेत्रदान हेतु प्रेरित करते हुए ओमप्रकाश अग्रवाल नेत्रम संस्था को सुचित किया। सूचना पर बडनगर गीता भवन के डॉ ददरवाल द्वारा कार्निया लिया।

इसी तरह दुसरा नेत्रदान 26-मई-24 को जिले के ग्राम बिरमावल में श्रीमती मंजुबाई पति सोहनलाल पाटीदार का स्वर्गवास होने पर नेत्रम संस्था के सुरेश पाटीदार (सिमलावदा) द्वारा उनके सुपुत्र प्रदीप पाटीदार व परिजनों को प्रेरित करते हुए नेत्रम संस्था के शलभ अग्रवाल को सुचित किया गया और डॉ ददरवाल द्वारा कार्निया लिया गया।

तृतीय नेत्रदान विजय कुमार सोमानी (चार्टर्ड अकाउंटेंट) का असामयिक निधन होने पर काकानी सोशल वेलफेयर फाउंडेशन के सचिव गोविन्द काकानी, माहेश्वरी समाज के गोविंद मालपानी, नरेंद्र बाहेती, पप्पू माहेश्वरी, चार्टर्ड अकाउंटेंट केदार अग्रवाल ने उनके सुपुत्र सौरभ, अभिषेक सोमानी को नेत्रदान की प्रेरणा दी, सहमति पश्चात मेडिकल कालेज के राजवंत सिंह, विनोद कुशवाह द्वारा कार्निया लिया।

चौथा नेत्रदान कैलाश पिता स्वर्गीय शंकरलाल नीमा का स्वर्गवास होने पर उनके भाई अवन्तीलाल नीमा व परिजनों की सहमती लेकर नेत्रम संस्था के ओमप्रकाश अग्रवाल को सुचित किया जिनका कार्निया भी डॉ. जीएल ददरवाल ने लिया।

इन नेत्रदान में नेत्रम संस्था के सक्रिय सदस्य भगवान ढलवानी, गोविन्द काकानी, मीनु माथुर, गोपाल राठौर पतरावाला, प्रशान्त व्यास, ललित राठौर, शलभ अग्रवाल, नवनीत मेहता, सुरेश पाटीदार

की विशेष भूमिका रहीं।

सामाजिक संस्था नेत्रम, काकानी सोशल वेलफेयर फाउण्डेशन द्वारा नेत्रदान करने वाले परिवारों के प्रति कृतज्ञता प्रकट करते हुए उन्हें धन्यवाद व्यक्त करते हुए आभार व्यक्त किया।