Omicron’s Sub Variant : बढ़ते संक्रमण के पीछे ओमिक्रॉन के 4 सब-वेरिएंट, इन लक्षणों से रहें सावधान!

महाराष्ट्र और केरल में सबसे ज्यादा मामले सामने आए

416
Omicron Variant

Omicron’s Sub Variant : बढ़ते संक्रमण के पीछे ओमिक्रॉन के 4 सब-वेरिएंट, इन लक्षणों से रहें सावधान!

New Delhi : देश में कोरोना वायरस के मामले फिर बढ़ते नजर आ रहे हैं। नए मामले एक बार फिर डराने लगे! कोरोना मामलों की बढ़ती रफ्तार को देखते हुए देश में कोविड-19 की चौथी लहर (Covid-19 4th Wave) की आशंका जताई जाने लगी है। बीते एक सप्ताह में महाराष्ट्र और केरल के अलावा दिल्ली और हरियाणा समेत कई राज्यों में कोरोना संक्रमण के नए मामलों में तेजी आई है।
कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच देश में ओमिक्रॉन वेरिएंट (Omicron Variant) के नए सब-वेरिएंट की पुष्टि हुई है। बृहन्मुंबई नगर निगम (BMC) के अधिकारियों ने बीए.4 सब-वेरिएंट (BA.4 Sub-Variant) के तीन और बीए.5 सब-वेरिएंट (BA.5 Sub-Variant) के एक मामले की पुष्टि की। नए सब-वेरिएंट ओमिक्रॉन वेरिएंट (Omicron Varinat) के ही रूप हैं, जो इस साल जनवरी में पहली बार साउथ अफ्रीका में पाए गए थे। बीए.5 अब तक 47 देशों में और BA.4 अब तक 42 देशों में पाया गया। एक्सपर्ट्स का कहना है कि ये दोनों सब-वेरिएंट काफी ज्यादा संक्रामक हैं और भारत में भी तेजी से लोगों को अपनी चपेट में ले सकता हैं। इसके बाद संक्रमित लोगों की जीनोम सीक्वेंसिंग की जा रही है, ताकि वेरिएंट का पता लगाया जा सके।
रिपोर्ट के अनुसार, देश में कोरोना वायरस (Coronavirus in India) के बढ़ते मामलों के पीछे ओमिक्रॉन के सब-वेरिएंट बीए.2 और बीए.2.38 (Omicron BA.2 an BA.2.38) है। देशभर में आ रहे नए मामलों में करीब 60% प्रतिशत मामले बीए.2 के और करीब 30% मामले बीए.2.38 के सामने आ रहे हैं। वहीं, बीए.4 और बीए.5 के मामले 10 प्रतिशत से कम हैं।

लक्षणों से सावधान रहें
कोरोना वायरस के ओमिक्रॉन वेरिएंट (Coronavirus Omicron Variant) और उसके सब-वेरिएंट ज्यादा संक्रामक है। लेकिन, इसके लक्षण सामान्य हैं। मेडिकल एक्सपर्ट्स का कहना है कि यह नया वेरिएंट नहीं है, इसलिए ओमिक्रॉन संक्रमण के दौरान देखे गए लक्षण ही इसमें नजर आ रहे हैं। इसमें सामान्य लक्षण गले में खराश, बुखार, नाक बहना, मांसपेशियों में दर्द और थकान हैं। गंध और स्वाद का नुकसान जो आमतौर पर कोविड-19 संक्रमण की पिछली लहरों के दौरान देखा गया था, जो ओमिक्रॉन के नए सब-वेरिएंट में नहीं देखा गया।

ज्यादा मामले महाराष्ट्र में
कोरोना वायरस के सबसे ज्यादा मामले महाराष्ट्र में सामने आ रहे हैं। केरल में भी संक्रमण दर लगातार बढ़ती जा रही है। महाराष्ट्र स्वास्थ्य विभाग द्वारा मंगलवार शाम को जारी आंकड़ों के अनुसार 24 घंटे में 3659 नए मामले सामने आए थे। जबकि, पॉजिटिविटी रेट 9.36% दर्ज किया गया। वहीं, केरल में मंगलवार को पॉजिटिविटी रेट 17.76% दर्ज किया गया और कोविड-19 के 2609 नए केस दर्ज किए गए। इससे पहले सोमवार (20 जून) को केरल में 2786 नए मामले सामने आए थे और पॉजिटिविटी रेट 16.08 प्रतिशत पाया गया था।