PFI Spy : PFI के लिए जासूसी करने वाली सोनू की रिमांड बढ़ी!

उसकी साझेदार महिला वकील फरार, जमानत के लिए कोई नहीं आया 

725

PFI Spy : PFI के लिए जासूसी करने वाली सोनू की रिमांड बढ़ी!

Indore : कोर्ट की कार्रवाई की रिकॉर्डिंग करने वाली लॉ स्टूडेंट सोनू मंसूरी की रिमांड अवधि चार दिन बढ़ा दी गई। अब सोनू को भी लग रहा है कि उसने गलती की। उसने महिला वकील नूरजहां खान के कहने पर प्रतिबंधित मुस्लिम संगठन PFI के लिए यह रिकॉर्डिंग की थी। अब सोनू थाने के बंद कमरे में रोती रहती है, वह कहती है कि मुझे फंसाया गया। वह लगातार परिवार से मिलने की इच्छा जता रही है। आरोपी लॉ स्टूडेंट ने पुलिस को जांच में पूरी मदद करने का कहा है।

पुलिस के मुताबिक सोनू से गैर कानूनी काम करवाने वाली वकील नूरजहां अभी पकड़ से दूर है। उसकी गिरफ्तारी के बाद सोनू के बयानों को लेकर क्रॉस चेक करके पूछताछ की जाना है। पुलिस इस मामले में एसआईटी गठित करने पर भी विचार कर रही है।

टीआई संतोष यादव के मुताबिक कोर्ट में प्रतिबंधित संगठन पीएफआई (PFI) के लिए जासूसी कर रही लॉ स्टूडेंट सोनू मंसूरी की रिमांड अवधि बुधवार को पूरी हुई, उसे फिर से कोर्ट में पेश किया गया। पुलिस ने कोर्ट से फिर 5 दिन का रिमांड मांगा। इस पर कोर्ट ने सोनू की 4 दिन की रिमांड और बढ़ा दी। पुलिस ने कोर्ट से सोनू की वॉइस रिकॉर्डिंग और उसके फ्लैट से जब्त डॉक्यूमेंट के बारे में और अधिक तफ्तीश करने की बात कही है।

कोई वकील जमानत कराने नहीं आया 

कोर्ट में पकड़े जाने पर सोनू मंसूरी को नूरजहां ने भरोसा दिलाया था कि वो उसकी जमानत करा लेगी। बुधवार को सोनू मंसूरी को भी यकीन था कि उसकी जमानत के लिए वकील कोर्ट में पहुंच जाएंगे। लेकिन, उसकी और से किसी भी वकील ने रिमांड का विरोध नहीं किया। सोनू से मिलने उसके परिवार के लोग भी नहीं पहुंचे।

ट्विटर, इंस्टाग्राम, फेसबुक पर नजर

पुलिस के मुताबिक आरोपी सोनू मंसूरी और नूरजहां के सोशल मीडिया अकाउंट के बारे में जानकारी निकाली। पुलिस को पता चला कि दिल्ली के प्रतिबंधात्मक संगठन PFI को दोनों फॉलो करते हैं। पुलिस के मुताबिक कुछ सूचनाएं हाथ लगी हैं, लेकिन नूरजहां के पकड़ाने के बाद ही इस मामले में आगे कुछ कहा जा सकेगा।

ये था सोनू का मामला

‘पठान’ फिल्म के विरोध के दौरान बजरंग दल कार्यकर्ताओं ने आपत्तिजनक नारे लगाए थे। उस पूरे मामले में पुलिस ने आरोपियों को कोर्ट के समक्ष पेश किया था। जब आरोपियों को कोर्ट के समक्ष पेश किया गया, उस दौरान लॉ स्टूडेंट सोनू मंसूरी पेशी के दौरान का वीडियो बनाकर PFI के कुछ लोगों को भेजने की कोशिश कर रही थी. जिसे वहां मौजूद वकीलों ने पकड़कर एमजी रोड पुलिस के हवाले कर दिया।