Political Murder : विधानसभा का टिकट पाने के लिए फिरोज पप्पू की हत्या हुई!

पुलिस ने पूर्व सांसद समेत 6 को गिरफ्तार किया 

530

Balrampur (UP)  : चुनाव से पहले उत्तर प्रदेश पुलिस में राजनीतिक हत्याओं का दौर शुरू हो गया। बलरामपुर जिले में तुलसीपुर नगर पंचायत के पूर्व चेयरमैन और समाजवादी पार्टी के नेता फिरोज पप्पू (Firoz Pappu) की हत्या कर दी गई। पुलिस ने इस हत्याकांड का खुलासा कर दिया। पुलिस ने इस मामले में पूर्व सांसद रिजवान जहीर को बेटी, दामाद सहित 6 लोगों को गिरफ्तार कर लिया।    पुलिस के मुताबिक, घटना में पूर्व सांसद और समाजवादी पार्टी के नेता रिजवान जहीर ने बेटी को सपा से टिकट मिलने की राह में रोड़ा बने फिरोज पप्पू की भाड़े के हत्यारों से निर्मम हत्या करवाई थी।सोमवार को मामले का खुलासा करते हुए बलरामपुर के पुलिस अधीक्षक हेमंत कुटियाल ने बताया कि सपा (SP) नेता फिरोज पप्पू के हत्या मामले में पूर्व सांसद रिजवान जहीर समेत 6 लोगों को गिरफ्तार किया गया।

SP ने बताया कि मृतक फिरोज पप्पू के भाई अफरोज अहमद की शिकायत पर मुकदमा दर्ज कर 10 जांच टीमें बनाकर मामले की छानबीन की गई। इसमें सीसीटीवी (CCTV) फुटेज जांच टीम, सर्विलांस टीम, क्रिमिनल इंटेलिजेंस कलेक्शन टीम लगी हुई थी। CTCV टीम ने 250 से अधिक फुटेज एकत्र किए। इस आधार पर 100 से अधिक लोगों से पूछताछ हुई। घटना में अपराधी मेराज व महफूज को गिरफ्तार किया गया।

गिरफ्तार आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि मृतक फिरोज पप्पू व पूर्व सांसद रिजवान जहीर पूर्व में सब एक साथ ही थे। फिरोज पप्पू ने रिजवान जहीर से अलग होकर अपनी अलग राजनीतिक छवि बनाई, जिससे वे नगर पंचायत अध्यक्ष बने। दूसरी बार उनकी पत्नी चुनाव जीती। इस दौरान फिरोज पप्पू व रिजवान जहीर दोनों अलग-अलग अपने समर्थकों के साथ समाजवादी पार्टी जॉइन कर ली।   पप्पू विधानसभा चुनाव 2022 के लिए कोशिश में लगे थे। रिजवान जहीर अपनी बेटी जेबा रिजवान को टिकट दिलाने के लिए लगे थे, इसमें बेटी के टिकट की राह में फिरोज पप्पू रोड़ा बन रहे थे। राजनीतिक द्वेष के चलते फिरोज पप्पू को एक माह पूर्व ही मारने की योजना बनाई गई थी। इसके लिए रिजवान जहीर, जेब रिजवान, नेमत और शकील ने मेराज व महफूज को लगाया गया था।

तीन बार प्रयास किए गए जिसमें वे असफल रहे। 4 जनवरी को लखनऊ से वापस लौटने पर दामाद रमीज ने अपने करीबी शकील के माध्यम से कार्य पूरा करने के लिए महफूज को कोठी पर बुलाया और उसी रात काम पूरा करने को कहा गया। इसके बाद फिरोज पप्पू की उनके घर के निकट हत्या कर दी गई। घटना के बाद महफूज रिजवान जहीर के कोठी पर ही रात में रहा।

फ़िरोज़ पप्पू की 4 जनवरी की रात उनके घर के पास ही गला रेतकर हत्या कर दी गई थी। वे कार से उतरकर पैदल घर जाते समय अंधेरे में बदमाशों ने पीछे से वार कर गला रेत दिया। SP ने बताया कि रिजवान जहीर पर हत्या बलवा सहित 14 से अधिक मुकदमा दर्ज हैं। 2021 ग्राम पंचायत चुनाव में NSA के तहत भी कार्रवाई हो चुकी है।