परिवहन आरक्षक भर्ती घोटाला: पूर्व मंत्री लक्ष्मीकांत शर्मा को सीबीआई की क्लीन चिट

परिवहन आरक्षक भर्ती घोटाला: पूर्व मंत्री लक्ष्मीकांत शर्मा को सीबीआई की क्लीन चिट

मीडियावाला.इनमध्य प्रदेश के पूर्व मंत्री लक्ष्मीकांत शर्मा को व्यापम से जुड़े एक मामले में CBI ने क्लीन चिट दे दी है. शर्मा को परिवहन आरक्षक भर्ती घोटाले में क्लीन चिट दी गयी. सीबीआई को शर्मा सहित कुल 8 लोगों को जांच में सबूत नहीं मिले.


मध्य प्रदेश के परिवहन आरक्षक भर्ती घोटाले में लक्ष्मी कांत शर्मा आरोपी थे. ये परीक्षा भी व्यापम ने कंडक्ट की थी. इस मामले की STF ने जांच की थी जिसमें शर्मा को दोषी पाया गया था. बाद में ये केस जांच के लिए सीबीआई को सौंपा गया. जांच के बाद CBI ने शर्मा को क्लीन चिट दे दी. सीबीआई ने कहा-लक्ष्मीकांत शर्मा सहित 8 के खिलाफ पर्याप्त सबूत नहीं हैं. शर्मा के साथ उनके ओएसडी ओपी शुक्ला भी बरी हो गए.लक्ष्मीकांत शर्मा शिवराज सरकार में कैबिनेट मंत्री थे. वो व्यापम के कई घोटालों में आरोपी हैं. 2013 में इन घोटालों की पोल खुली और एक के बाद एक कई मामले आते गए. कई नामी गिरामी लोग इसमें आरोपी बनाए गए. शर्मा इन मामलों में एक साल की जेल भी काट चुके हैं. इस मामले में सीबीआई की क्लीन चिट के बाद अब STF की जांच पर भी सवाल उठ रहे हैं.

2 comments      

Add Comment


  • amit kumar vyas 1 year ago
    यह कैसे संभव है जिस प्रकार से सीबीआई के अधिकारियों में भ्रष्टाचार के आरोप लगे हुए हैं और उन्हीं के द्वारा भ्रष्टाचारियों की व्यापम घोटालों की जांच की गई उसमें सत्यता कैसे प्रमाणित हो सकती हैं भ्रष्टाचारी सीबीआई अधिकारियों के द्वारा भ्रष्टाचारियों की जांच उन्हें दोषी कैसे करार आ सकती है जबकि मध्य प्रदेश की स्थिति अच्छी ईमानदार ढंग से कार्य किया है उसको गलत साबित ठहरा दिया है इससे तो अच्छी है मध्य प्रदेश में एसटीएफ जिसने इमानदारी से अपना कर्तव्य निभाया जय हिंद जय मध्य प्रदेश पुलिस 🙏🇮🇳🇮🇳
  • amit kumar vyas 1 year ago
    सीबीआई से पुनः जांच लेकर एसटीएफ को पुनः सौपना चाहिए व्यापम घोटाले STFने की थी और उस में महत्वपूर्ण दस्तावेज दिए गए थे क्या वह दस्तावेज झूठे हो गए औरक्याजोन्यायालय में जो सबूत दिए गए थे वैसे भी झूठ हो गए परिवहन आरक्षक की भर्ती के लिए 20 से 30 लाखों रूप्या पृति आरक्षक के लिए गए थे और दो या तीन जिलों से ही समस्त आरक्षकों की भर्ती कर ली गई थी यह कैसे संभव है कि दो या तीन जिलों में ही इंटेलिजेंट आरक्षक पैदा हुए और STF से पुनः जांच करवाई जानी चाहिए कमलनाथ जी को जय हिंद जय भारत,🇮🇳🇮🇳🇮🇳🙏