जब सांसद नुसरत का गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंचा, पति को नहीं दी बैठक में जाने की अनुमति

जब सांसद नुसरत का गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंचा, पति को नहीं दी बैठक में जाने की अनुमति

मीडियावाला.इन।

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल में अम्फान तूफान ने भारी तबाही मचाई है। तूफान से हुए नुकसान का जायजा लेकने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी शुक्रवार को पश्चिम बंगाल पहुंचे थे। हवाई सर्वेक्षण से नुकसान देखने के बाद पीएम मोदी ने सीएम ममता बनर्जी, राज्यपाल और दूसरे अफसरों के साथ बसीरहाट में बैठक की। इस बैठक के लिए पहुंची स्थानीय टीएमसी सांसद नुसरत जहां के पति को एंट्री नहीं दी गई, जिसके बाद नुसरत भी लौट आईं।                                               पति को ले जाना चाहती थीं नुसरत

पीएम मोदी और ममता बनर्जी की बसीरहाट कॉलेज में हुई इस उच्चस्तरीय बैठक में पहुंची नुसरत जहां के साथ उनके पति निखिल जैन और दो सहायक भी थे।    

नुसरत को तो स्थानीय सांसद होने के चलते प्रवेश की अनुमति मिल गई, लेकिन उनके साथ उनके पति को एसपीजी और सुरक्षाकर्मियों ने रोक दिया। इस पर नुसरत जहां सुरक्षाकर्मिंयों पर खफा हो गईं। उनकी इसकी लेकर बहस भी हुई लेकिन उनके पति निखिल जैन को अंदर नहीं जाने दिया गया। इसके बाद वो भी गुस्से में वापस लौट गईं।


लोगों से मिलने पहुंची नुसरत

पश्चिम बंगाल के जो इलाके तूफान से बुरी तरह से प्रभावित हैं, उनमें बसीरहाट भी है। बसीरहाट में तूफान से 21 लोगों की जान जा चुकी हैं। शुक्रवार को वो नुसरत अपने संसदीय क्षेत्र में घूमीं और लोगों से स्थिति के बारे में जाना। नुसरत ने सोशल मीडिया पर लिखा, अपने संसदीय क्षेत्र बशीरहाट के तूफानसे बुरी तरह से प्रभावित इलाके में आज गई। लोगों से मिली। कई लोगों को शेल्टर होम पहुंचाया। इसमें हम सब साथ हैं।


तूफान से हुई है भारी तबाही

चक्रवाती तूफान अम्फान ने पश्चिम बंगाल में भारी तबाही मचाई है। बुधवार को राज्य में अम्फान तूफान 160 से 180 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दस्तक दी थी। तूफान ने पश्चिम बंगाल के कोलकाता, नार्थ और साउथ परगना जिलों को बुरी तरह से प्रभावित किया है। शुक्रवार सुबह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पश्चिम बंगाल पहुंचे और तूफान से हुए नुकसान का जायजा लेने के लिए हवाई सर्वेक्षण किया। पीएम ने कहा कि मुश्किल वक्त है लेकिन मैं पश्चिम बंगाल के भाई-बहनों को कहना चाहता हूं कि सब आपके साथ खड़े हैं। राज्य और केंद्र मिलकर उनलोगों के लिए काम कर रहे हैं तो तूफान से प्रभावित हैं। पीएम मोदी ने इस दौरान राहत पैकेज की घोषणा करते हुए कहा- अभी तत्काल राज्य सरकार को कठिनाई ना हो इसके लिए 1000 करोड़ रुपये भारत सरकार की तरफ से व्यवस्था की जाएगी। साथ-साथ जिन परिवारों ने अपने स्वजन खोए हैं उन परिवारों को प्रधानमंत्री राहत कोष से 2 लाख और जो लोग घायल हुए हैं उनको 50 हजार रुपए की सहायता दी जाएगी।


source: oneindia.com

0 comments      

Add Comment