कामयाब रही मंत्री Prahlad Singh Patel की रणनीति, दार्जिलिंग और अलीपुरद्वार में खाता तक नहीं खोल पाई TMC

कामयाब रही मंत्री Prahlad Singh Patel की रणनीति, दार्जिलिंग और अलीपुरद्वार में खाता तक नहीं खोल पाई TMC

मीडियावाला.इन।

नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल (West Bengal) की सत्ता में भले ही ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) की फिर से वापसी हो गई हो लेकिन उत्तर बंगाल में बीजेपी के प्रदर्शन ने उनकी नींद उड़ा दी है. बीजेपी के उत्तर बंगाल (North Bengal) के चुनाव प्रभारी केंद्रीय संस्कृति एवं पर्यटन राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) प्रहलाद सिंह पटेल (Prahlad Singh Patel) की जमीनी स्तर पर की गई मेहनत रंग लाई. केंद्रीय मंत्री के पास उत्तर बंगाल की 42 विधानसभा सीटों का प्रभार था जिनमें से 25 सीटों पर बीजेपी (BJP) के उम्मीदवारों ने बड़े अंतर से जीत हासिल की.

यहां नहीं खुला TMC का खाता

दार्जिलिंग (Darjeeling) और अलीपुरद्वार (Alipurduar) में तो तृणमूल (TMC) का खाता तक नहीं खुला. बीजेपी ने ना सिर्फ दार्जिलिंग की सभी पांच सीटों पर बड़ी जीत हासिल की बल्कि अलीपुरद्वार की भी पांचों सीटों पर कब्जा किया. कई सीटों पर कांटे की टक्कर रही और कई दिग्गजों को हार का सामना करना पड़ा.

हर बूथ पर जीत के लिए बनाई थी रणनीति

अपनी चुनावी रणनीति के तहत प्रहलाद सिंह पटेल ने हर बूथ पर जीत के लिए बीजेपी के स्थानीय नेताओं और कार्यकर्ताओं के साथ रणनीति तैयार की. उन्होंने बार-बार चुनावी दौरे करने के साथ बीजेपी उम्मीदवारों और पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ जगह-जगह रोड शो किए और हर विधानसभा क्षेत्र को कवर किया.

अपने रणीनितक कार्यक्रमों के तहत उन्होंने जगह-जगह 'चाय पर चर्चा' कार्यक्रम किए और इस दौरान स्थानीय मुद्दों पर आम लोगों से बातचीत की और घर- घर जाकर भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवारों को जीत दिलाने की अपील की.

पैदल यात्रा के दौरान वे लोगों से मिले और बीजेपी उम्मीदवार को वोट देने और भारी मतों से विजयी बनाने की अपील की. प्रहलाद सिंह पटेल ने अपर बागडोगरा में सामाजिक कार्यकर्ता मिलन कार्यक्रम में शिरकत की और कार्यकर्ताओं से अपने अनुभव बांटे और कहा कि विजय मिलने तक थकना नहीं है.

पीएम की सभा के लिए विशेष तैयारी

उनकी मुहिम में दार्जिलिंग सांसद राजू बिस्टा और अन्य नेता भी शामिल हुए. पटेल ने सांसद राजू बिस्टा के साथ प्रधानमंत्री जी की बागडोगरा में होने वाली रैली स्थल का निरीक्षण करते हुए तैयारियों का जायजा लिया था. प्रधानमंत्री की इस रैली में लाखों की संख्या में लोग जुटे. इसी तरह पटेल ने जनता को नक्सलबाड़ी क्षेत्र का महत्व समझते हुए वहां कई तरह के कार्यक्रम और बैठकें की.

प्रहलाद सिंह पटेल ने नक्सलबाड़ी विधानसभा क्षेत्र में संचालन समिति की बैठक की और नक्सलबाड़ी कस्बे में सभाओं को संबोधित करते हुए अपने कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ाया. मुहिम रंग लाई तो नक्सलबाड़ी से बीजेपी उम्मीदवार आनन्दमय बर्मन ने टीएमसी के राजेन सुंदास को भारी मतों से हराकर जीत दर्ज की.

उन्होंने नागराकाटा शहर में चुनाव प्रचार के दौरान प्रबुद्धजनों से मुलाकात की. तो बूथ प्रमुखों के साथ बैठक में सभी कार्यकर्ताओं का हौसला बढ़ाया.

गृह मंत्री के प्रचार अभियान में हुए शामिल

के सीतलकूची में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और कूचबिहार सांसद निसिथ प्रामाणिक के साथ कई चुनावी जनसभाओं में शामिल हुए. पटेल चुनावी हिंसा में घायल हुए बीजेपी कार्यकर्ता का हालचाल जानने कूचबिहार के MJN अस्पताल भी गए और घायल कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ाया.

पटेल ने धूपगुड़ी विधानसभा के बानरहाट में भी कई रोड शो किये. वहीं कूच बिहार के सीतलकूची में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और कूचबिहार सांसद निसिथ प्रामाणिक के साथ कई चुनावी जनसभाओं में शामिल हुए. पटेल चुनावी हिंसा में घायल हुए बीजेपी कार्यकर्ता का हालचाल जानने कूचबिहार के MJN अस्पताल भी गए और घायल कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ाया.

'पार्टी के भरोसे पर खरे उतरे'

उत्तर बंगाल में जीत के साथ ही प्रहलाद सिंह पटेल ने एक बार फिर खुद को पार्टी और प्रधानमंत्री के भरोसे पर खरा साबित किया है. इससे पहले मणिपुर में भी प्रहलाद सिंह पटेल को चुनाव प्रभारी नियुक्त किया गया था जहां बीजेपी को भारी सफलता मिली.

बेशक बंगाल में ममता का किला ना ढहाया जा सका हो लेकिन बीजेपी की सफलता को नज़रअंदाज नहीं किया जा सकता, जिसने 3 से लेकर 77 का सफर तय करके अपना दमखम दिखाया है.

Zeenews

0 comments      

Add Comment