Presidential Oath : द्रौपदी मुर्मू ने 15वीं राष्ट्रपति की शपथ ली, सबसे कम उम्र में इस पद तक पहुंची

आज की तारीख को शपथ लेने वाली वे देश की 10वीं राष्ट्रपति

560

New Delhi : देश की 15वीं राष्ट्रपति के तौर पर द्रौपदी मुर्मू ने शपथ ले ली। उन्हें चीफ जस्टिस एनवी रमना ने शपथ दिलाई। सुबह सवा 10 बजे द्रौपदी मुर्मू ने संसद भवन के सेंट्रल हॉल में देश के सर्वोच्च संवैधानिक पद की शपथ ली। उन्हें 21 तोपों की सलामी दी गई। 25 जुलाई को शपथ लेने वाली वे 10वीं राष्ट्रपति हैं। भारत के 6ठे राष्ट्रपति नीलम संजीव रेड्डी ने 25 जुलाई 1977 को शपथ ली थी। जबकि, 25 जुलाई को ही ज्ञानी जैल सिंह, आर वेंकटरमण, शंकर दयाल शर्मा, केआर नारायणन, एपीजे अब्दुल कलाम, प्रतिभा पाटिल, प्रणब मुखर्जी और रामनाथ कोविंद ने इसी तारीख को राष्ट्रपति पद की शपथ ली।
आजादी के बाद पैदा होने वाली पहली और शीर्ष पद पर काबिज होने वाली वे अब तक कि सबसे कम उम्र की राष्ट्रपति हैं। राष्ट्रपति बनने वाली वे दूसरी महिला भी हैं। उन्होंने ने साझा विपक्ष के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार यशवंत सिन्हा को इस चुनाव में हराया। द्रौपदी मुर्मू को निर्वाचक मंडल सहित सांसदों और विधायकों के 64% से अधिक वोट मिले।

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू का भाषण
‘मैं जिस जगह से आती हूं, वहां प्रारंभिक शिक्षा भी सपना होता है। गरीब, पिछड़े मुझे अपना प्रतिबिंब दिखाते हैं। मैं भारत के युवाओं और महिलाओं को विश्वास दिलाती हूं कि इस पद पर काम करते हुए उनका हित मेरे लिए सर्वोपरि रहेगा। संसद में मेरी मौजूदगी भारतीयों की आशाओं और अधिकारों का प्रतीक है। मैं सभी के प्रति आभार व्यक्त करती हूं। आपका भरोसा और समर्थन मुझे नई जिम्मेदारी संभालने का बल दे रहा है।
मैं पहली ऐसी राष्ट्रपति हूं जो आजाद भारत में जन्मी। हमारे स्वतंत्रता सेनानियों ने भारतीयों से जो उम्मीदें लगाई थीं, उन्हें पूरा करने का मैं पूरा प्रयास करूंगी। राष्ट्रपति के पद तक पहुंचना मेरी निजी उपलब्धि नहीं है, यह देश के सभी गरीबों की उपलब्धि है। मेरा नॉमिनेशन इस बात का सबूत है कि भारत में गरीब न केवल सपने देख सकता है, बल्कि उन सपनों को पूरा भी कर सकता है।’

64 विशेष मेहमान भी पहुंचे
शपथ लेने से पहले वे राष्ट्रपति भवन पहुंचीं। उन्होंने रामनाथ कोविंद और उनकी पत्नी से मुलाकात की। राष्ट्रपति भवन के लिए निकलने से पहले उन्होंने राजघाट पहुंचकर महात्मा गांधी को श्रद्धासुमन अर्पित किए। ओडिशा के मयूरभंज जिले से 64 लोग इस समारोह में शामिल हुए। शपथ के बाद इन मेहमानों के लिए लंच का आयोजन राष्ट्रपति भवन में किया गया है। द्रौपदी के मौजूदा निवास स्थान रायरंगपुर के बीजेपी कार्यकर्ताओं में बिकास महतो और उनके साथ चार और लोग समारोह में शामिल होने के लिए दिल्ली पहुंचे हैं। इसके अलावा जिले के विधायक और कुछ उनके गांव पहाड़पुर और उपरवाड़ा राजनीतिक लोग भी शामिल हुए। सभी को शपथ के बाद राष्ट्रपति भवन घुमाया गया। द्रौपदी मुर्मू ने मई 2015 में जब राज्यपाल पद की शपथ ली थी, तब करीब 3 हजार लोग झारखंड के रांची और उड़ीसा के मयूरभंज जिले से द्रौपदी के खास मेहमान बनकर पहुंचे थे।

WhatsApp Image 2022 07 25 at 2.11.26 PM