Randeep Guleria said- H3N2 वायरस से निपटने के लिए कोविड के अनुकूल व्यवहार जरूरी

446

Randeep Guleria said- H3N2 वायरस से निपटने के लिए कोविड के अनुकूल व्यवहार जरूरी

एच3एन2 वायरस के कारण होने वाले इन्फ्लुएंजा के बढ़ते मामलों से निपटने के लिए कोविड के अनुकूल व्यवहार के साथ उच्च जोखिम वाले लोगों की सुरक्षा आवश्यक है। यह बात इंस्टीट्यूट ऑफ इंटरनल मेडिसिन, रेस्पिरेटरी एंड स्लीप मेडिसिन के चेयरमैन और मेदांता के निदेशक-चिकित्सा शिक्षा डॉ. रणदीप गुलेरिया ने मंगलवार को कही।

राष्ट्रीय कोविड टास्क फोर्स का नेतृत्व करने वाले गुलेरिया ने आईएएनएस से बात करते हुए कहा कि एच3एन2 वायरस बुजुर्गो, छोटे बच्चों और कॉमरेडिटी वाले लोगों में गंभीर बीमारी का कारण बन सकता है। इसलिए, अच्छे आहार और अच्छी शारीरिक गतिविधियों के संदर्भ में मास्क का उपयोग करना, हाथ धोना, भीड़-भाड़ वाली जगहों से बचना, टीका लगवाना और स्वस्थ रहना जैसे उचित व्यवहार का पालन करना आवश्यक है।

एच3एन2 कुल मिलाकर हल्के फ्लू जैसी स्थिति का कारण बनता है। लेकिन उम्र के चरम पर – बच्चे और बुजुर्ग और सह-रुग्णता वाले लोग – यह गंभीर बीमारी का कारण बन सकता है और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया जा सकता है। कुछ मामलों में, गंभीर निमोनिया के कारण उन्हें आईसीयू में भर्ती करने की भी जरूात हो सकती है। इस कारण से, हम विशेष रूप से उच्च जोखिम वाले समूह में कोविड उचित व्यवहार को बढ़ावा दे रहे हैं और उच्च जोखिम समूह और अत्यधिक उम्र के कई लोगों में रोकथाम के लिए टीकाकरण भी बढ़ा रहे हैं।

इन्फ्लुएंजा कोई नई घटना नहीं है, हर साल इस बीमारी के मरीज आते हैं जो गंभीर संक्रमण के कारण अस्पताल और आईसीयू में भर्ती हो जाते हैं। लेकिन इस साल यह कुछ ज्यादा हो सकता है।

वायरस नियमित रूप से उस स्थिति से गुजरता है जिसे हम एंटीजेनिक ड्रिफ्ट कहते हैं और कोरोनावायरस की तरह यह उत्परिवर्तित होता रहता है। इसलिए वायरस के लिए थोड़ा सा उत्परिवर्तित होना स्वाभाविक है, जिससे संक्रमण की कुछ अधिक संभावना होती है। इसीलिए एक वैक्सीन है जो सालाना ली जाती है, क्योंकि हर साल वायरस में थोड़ा बहुत बदलाव होता है या कुछ हद तक म्यूटेट होता है।

मुझे नहीं लगता कि एच3एन2 और कोविड में उछाल के बीच कोई संबंध है। सैद्धांतिक रूप से यह संभव है कि पिछले दो वर्षो से कम इन्फ्लुएंजा होने के कारण, जनसंख्या में निहित प्राकृतिक प्रतिरक्षा में जो हम देखेंगे उसमें कमी आई थी।

दूसरा कारण यह है कि पिछले दो वर्षो से जहां तक श्वसन पथ का संबंध था, कोविड प्रमुख वायरस था।

यह तथ्य कि हम कोविड के अनुकूल व्यवहार का पालन कर रहे थे, ने भी हमें इन्फ्लुएंजा से बचाया।