Ranjna Baghel : माफी मांगने तक रंजना बघेल के खिलाफ ‘जयस’ का आंदोलन जारी

डॉ हीरालाल अलावा ने कहा, पीली क्रांति करने वालों ने रंजना को 40 हज़ार से हराया

494
Ranjna Baghel : माफी मांगने तक रंजना बघेल के खिलाफ 'जयस' का आंदोलन जारी

(मनावर से स्वप्निल शर्मा की रिपोर्ट)

Manawar (Dhar) : भाजपा की पूर्व मंत्री रंजना बघेल ने चार दिन पहले आदिवासी संगठन ‘जयस’ के कार्यकताओं पर चोरी में शामिल होने का आरोप लगाया था। उन्होंने चोरी की बढ़ती घटनाओं पर अपना बयान देते हुए कहा था कि ‘पीले गमछे वाले ही चोरियां कराते है।’

रंजना बघेल के इन आरोपों का सिलसिलेवार जवाब देते हुए ‘जयस’ के राष्ट्रीय संयोजक और कांग्रेस विधायक डॉ हीरालाल अलावा ने कहा कि पीले गमछे को लेकर लगाए गए चोरी कराने के आरोप पूरे आदिवासी समाज पर लगाए हैं। इस क्षेत्र में जब से पीली युवा क्रांति आई है, तब से ‘जयस’ पर कई तरह के आरोप लगाए जा रहे है कि हम नक्सलवाद फैला रहे है, हम ईश्वर को नहीं मानते हैं वगैरह। लेकिन, जनता ने सारे आरोपों को नकारते हुए चुनाव में रंजना को 40 हजार वोटों से हरा दिया। इस हार को वे भूलने को ही तैयार नहीं है।

डॉ अलावा ने बताया कि मंत्री रहते हुए रंजना के कार्यकाल में सबसे ज्यादा भ्रष्टाचार हुआ था। आज हम जो लड़ाई लड़ रहे है, वह संवैधानिक अधिकार के लिए है। एक तरफ सरकार द्वारा जनजातीय गौरव दिवस के नाम पर करोड़ों रुपए खर्च किए जा रहे हैं, दूसरी तरफ उनकी ही पार्टी की रंजना बघेल आदिवासियों को चोर बता रही है।

Also Read: CM Shivraj Big Decision: नए वेरिएंट को देखते हुए अभी स्कूल 50% क्षमता पर ही खुलेंगे, ऑनलाइन शिक्षा का विकल्प देंगे- CM शिवराज

विधायक डॉ अलावा ने अपने कार्यकाल की उपलब्धियों की चर्चा करते हुए युवाओं से आह्वान किया कि चाहे जैसी स्थिति आए, लेकिन वे अपनी जमीन नहीं छोड़े। और न सरकारी नौकरी के पीछे भागे। आत्मनिर्भर बनने का और अपने ही गांव में रोजगार उपलब्ध कराने का प्रयास करें। उन्होंने यह भी कहा कि जब तक रंजना बघेल अपने बिगड़े बोल पर माफी नहीं मांगती है, तब तक पूरे प्रदेश में उनका पुतला दहन जारी रहेगा।

Also Read: Kissa-a-IAS : Ankita Choudhary : मां की मौत से टूट गई पर पिता के संबल ने बनाया IAS