दुकान संचालक से मारपीट करने वाला फरार गुण्डा सौरभ पकड़ाया!

शहर के विभिन्न थाना क्षेत्रों में 15 से अधिक आपराधिक मामलों का है आरोपी, गुंडा सौरभ!

1113

दुकान संचालक से मारपीट करने वाला फरार गुण्डा सौरभ पकड़ाया!

Ratlam : शहर के डोंगरे नगर में 5 नवम्बर की रात आनन्दश्री रेस्टोरेन्ट के संचालक प्रफुल्ल पंवार, दशरथ पंवार व अनमोल पंवार के साथ आरोपी विकास उर्फ जग्गु तथा उसके 4 साथियों द्वारा सिगरेट के पैसे के लेनदेन की बात को लेकर गाली गलोच कर लोहे की चेन, बेल्ट व पत्थरों से जानलेवा हमला करते हुए घायल कर दिया था।

 

पुलिस मौके पर पहुंची थी और घायलों को अस्पताल पहुंचाकर फरियादी की रिपोर्ट पर आरोपी विकास उर्फ जग्गु व उसके अन्य 4 साथियों के विरूद्ध अपराध क्रमांक 799/23 धारा 294, 307, 147, 148, 149, 506 भादवि का पंजीबद्ध कर विवेचना मे लिया गया था।

 

मामले में एसपी राहुल कुमार लोढा के निर्देश पर थाना प्रभारी औद्योगिक क्षेत्र राजेन्द्र वर्मा के नेतृत्व में आरोपीयों की गिरफ्तारी हेतु टीम का गठन करते हुए प्रकरण के मुख्य नामजद आरोपी विकास उर्फ जग्गु पिता हेमराज मेघवाल जाती भांभी उम्र 22 साल निवासी साई मंदिर के पास हिम्मतनगर को गिरफ्तार किया गया था।

 

गिरफ्तार आरोपी से पुलिस ने अन्य आरोपीयों के बारे में पूछताछ करने पर व घटनास्थल के सीसीटीवी फूटेज में आरोपी सौरभ पिता विनोद वर्मा जाति बरगुण्डा 21 निवासी बरगुण्डो का वास का भी वारदात में मौजूद होना पाया गया। वहीं आरोपी सौरभ वर्मा घटना के बाद से फरार हो गया था।

 

जिसे मुखबिर से मिली सूचना पर शहर के सएजआवतआ स्थित आशापुरा होटल बायपास रोड़ से हिरासत मे लिया गया, हिरासत मे लेते समय आरोपी पुलिस को देखकर उबड़ खाबड़ रास्ते पर भागने लगा और भागते-भागते वह 2-3 बार गिर गया जिससे आरोपी के हाथ पैर में चोट लगी। पुलिस टीम ने आरोपी को गिरफ्तार कर मेडीकल करवाया।

 

बता दें कि आरोपी सौरभ वर्मा के विरूद्ध पूर्व से शहर के समस्त थानों पर मारपीट व हत्या के प्रयास के प्रकरण पंजीबद्ध होना पाए गए हैं। पकड़ाया गुंडा सौरभ शहर के थाना माणकचौक का निगरानीशुदा गुंडा हैं, जिसके विरुद्ध हत्या के प्रयास के 04 प्रकरण सहित बलवा, मारपीट आदि के कुल 15 अपराधिक प्रकरण पंजीबद्ध हैं।

 

गुंडे सौरभ को गिरफ्तार करने में राजेन्द्र वर्मा थाना प्रभारी थाना औद्योगिक क्षेत्र, उप निरीक्षक जेआर. जामोद, उप.निरीक्षक केशर सिंह यादव, सहायक उपनिरीक्षक रायसिंह रावत, आरक्षक लाखन सिंह, पंकज बारिया की सराहनीय भूमिका रहीं।