Shooting in Police Control Room : भोपाल में पदस्थ TI ने इंदौर में महिला ASI को गोली मारकर आत्महत्या की 

पुलिस कमिश्नर ने कहा कि शायद ये प्रेम प्रसंग का मामला है

4866

Indore : रीगल चौराहे के निकट पुलिस कंट्रोल रूम परिसर में आज दोपहर दर्दनाक घटना घटी! भोपाल के श्यामला हिल्स थाने में पदस्थ TI हाकम सिंह पंवार ने खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर लिया। पहले उन्होंने एक महिला सब इंस्पेक्टर (ASI) को गोली मारी, इसके बाद खुद की कनपटी पर गोली मार ली।

पुलिस कमिश्नर हरिनारायण चारी मिश्र के मुताबिक, यह प्रेम-प्रसंग का मामला लगता है। TI हाकम सिंह महिला एसआई के साथ कॉफी पी रहे थे। उसी समय दोनों के बीच किसी बात को लेकर विवाद हुआ और टीआई ने गोली चला दी।

कंट्रोल रूम के बाहर दो गोली की आवाज सुनकर जब पुलिसकर्मी मौके पर पहुंचे, तो हाकम सिंह पवार और एसआई रंजना खांडे लहूलुहान हालत में पड़े थे। पुलिसकर्मियों ने समझा कि दोनों को किसी ने गोली मारी। जब वे पास पहुंचे तो माजरा समझ आया। टीआई के पैरों के पास उनकी सर्विस रिवॉल्वर पड़ी हुई थी। उन्होंने जब महिला तो हिलाया तो वह उठकर बैठ गईं और सड़क पर आ गईं। इसके बाद उसे अस्पताल ले जाया गया।

इस घटना में टीआई की मौत हो गई। जबकि महिला SI रंजना घायल हुई, उन्हें निजी अस्पताल ले जाया गया है। सिटी स्कैन में रंजना के कान के पास गोली लगने की बात सामने आई। पुलिस मामले की जांच में जुटे हैं। जानकारी मिलते ही मौके पर FSL व अन्य टीमें पहुंच गईं। पुलिस कमिश्नर हरिनारायण चारी मिश्र भी पुलिस कंट्रोल रूम आए।

मूलतः: तराना उज्जैन के रहने वाले हाकम सिंह कॉन्स्टेबल के पद से पुलिस में भर्ती हुए थे। वे इंदौर, महेश्वर, राजगढ़, खरगोन और भोपाल में पदस्थ रहे। महेश्वर में भी थाना प्रभारी थे। बताया जा रहा है कि हाकम सिंह ने 3 शादियां की। फिलहाल वे भोपाल के श्यामला हिल्स थाने में वे पदस्थ थे। हाकम सिंह 6 फरवरी को भोपाल के श्यामला हिल्स थाने में पदस्थ हुए थे। वे खटलापुरा में किराए के मकान में रहते थे। भोपाल में वे अकेले रहते थे। 21 जून को तीन दिन की छुट्टी लेकर गए थे और गुरुवार को उन्हें ज्वाइन करना था।

टीआई की गोली से घायल रंजना खांडे खरगोन जिले की रहने वाली हैं। उनकी पहली पोस्टिंग धार में हुई थी। वे 2018 में इंदौर आई थीं और पुलिस कंट्रोल रूम में ASI के पद पर पदस्थ थीं। वे 2014 में पुलिस सेवा ज्वाइन हुई थी। वे सीधी भर्ती के जरिए विभाग में आई थी। घायल महिला एसआई का उपचार चल रहा है और उनकी हालत ठीक बताई जा रही है। परिवार के लोग अभी कुछ भी कहने की स्थिति में नहीं हैं, जबकि रंजना को डॉक्टरों ने अभी बोलने से मना किया है।