Silver Screen : सिनेमा के परदे पर छाए उम्रदराज हीरो!

736
सिनेमा के परदे का अपना अलग ही रिवाज है। यहाँ हीरो कभी बूढ़ा नहीं होता और हीरोइन शादी होते ही परदे से आउट कर दी जाती है। आज जो भी हीरो परदे पर धूम मचा रहे हैं, सभी 50 के पार हैं, लेकिन उनके जलवे आज भी बरक़रार हैं।
सलमान खान, शाहरुख़ खान, आमिर खान, अक्षय कुमार से लगाकर सनी देओल और रितिक रोशन भी 50 की उम्र लांघ गए! पर, इन्हीं के कंधे पर चढ़कर फ़िल्में सौ और दो सौ करोड़ की कमाती हैं।
अमिताभ बच्चन तो 70 के भी पार हैं, पर जब वे परदे पर आते हैं, तो अच्छे-अच्छे सितारों की चमक उनके सामने फीकी पड़ जाती हैं। दक्षिण की फिल्मों की तरफ देखा जाए, तो रजनीकांत और कमल हासन का आज भी कोई जोड़ नहीं! अपने दम पर फ़िल्म चलाने का दम भरने वाले आयुष्मान खुराना भी ‘गुलाबो सिताबो’ में अमिताभ के सामने दबे हुए दिखे।
Hero
सलमान के बहनोई आशीष शर्मा को भी जब पहली फिल्म में दर्शकों ने भाव नहीं दिया, तो ‘अंतिम’ में उन्हें भी सलमान खान का सहारा लेना पड़ा। ये एक या दो फिल्मों की बात नहीं, गिनती के इन पांच-छह हीरो के आसपास ही फिल्मों का सारा संसार घूम रहा है।
कहा जाता है कि स्टार कभी बूढ़ा नहीं होता! ये बात फिल्मों के संदर्भ में काफी हद तक सही भी है। बस मसला ये है कि उसे पसंद किया जाना चाहिए!
फिल्म इंडस्ट्री में एक तरफ अमिताभ बच्चन हैं, जिनकी जगह अडिग है। अब स्थिति यह है कि उन्हें कभी कोई कभी मात नहीं दे सकता! दूसरी तरफ तीन खानों के साथ अक्षय कुमार और रितिक रोशन है, जिनके सामने कोई नया हीरो नहीं ठहरता!
Hero1
आज हर दर्शक की नजर इन तीन खान, एक बच्चन, अक्षय और रितिक से होकर गुजरने के बाद ही किसी और हीरो पर पड़ती है। इसे स्वीकार किया जाए या नहीं, पर मनोरंजन की इस दुनिया का सच यही है।
जिस तरह रॉकस्टार के अंदाज में उंगलियों पर गिने जाने वाले इन नायकों ने परदे पर कब्ज़ा कर रखा है, उसे नकारा नहीं जा सकता। आने वाले कई सालों में भी बहुत ज्यादा बदलेगा, ऐसा नहीं लगता।
आज आयुष्मान खुराना, राजकुमार राव और टाइगर श्रॉफ जैसे हीरो अच्छे कलाकार हों, पर वे इन बूढ़े हीरो जैसा जादू नहीं कर सकते!
जैकी श्रॉफ के बेटे टाइगर श्रॉफ ने जरूर एक दर्शक वर्ग खड़ा किया है, पर उनका करियर भी डांवाडोल ही है। उनकी फिल्म ‘वार’ भी तब आसमान फाड़ हिट होती है, जब रितिक रोशन उनके साथ एक्शन सीन में दिखाई देते हैं।
50 पार के इन तीनों खान, अक्षय कुमार और रितिक रोशन करीब 25 साल से अपनी लोकप्रियता बनाए हुए हैं, जो आसान बात नहीं है। उनकी आधी जिंदगी तो परदे की दुनिया पर राज करते हुए ही बीती!
अगर फिल्मों का इतिहास खंगाला जाए, तो इन गिनती के नायकों ने जितने साल तक परदे पर राज किया, वो कोई और नहीं कर सका। ‘दंगल’ के लिए आमिर खान का वजन बढ़ाना, फिर ‘सुल्तान’ के लिए सलमान खान का 17 किलो वजन बढाकर घटाना आसान बात नहीं थी।
शाहरुख़ ने भी ‘फैन’ और ‘रईस’ में भी प्रयोग किए। ‘वार’ में रितिक के एक्शन के सामने आधी उम्र के टाइगर श्रॉफ भी फीके पड़ गए थे। जहाँ अक्षय कुमार की बात है, तो वे अपने समकालीनों से बहुत आगे हैं। सनी देओल ने राजनीति में आने के बाद फिल्मों से थोड़ा मुंह जरूर मोड़ा, पर आज भी उनको पसंद करने वालों की संख्या बहुत बड़ी है।
एक दिलचस्प बात यह भी है कि तीनों खान एक ही साल 1965 में जन्मे हैं, अक्षय इसके दो साल बाद 1967 में!
जबकि, रितिक रोशन सबसे छोटे 1974 में जन्में हैं और अमिताभ सबसे बड़े हैं, जो 1942 में जन्मे हैं और 80 के करीब हैं। लेकिन, इस उम्र में भी इनके जलवों का कोई जोड़ नहीं! एक ख़ास बात यह भी है कि तीनों खान, अक्षय और अमिताभ सभी के अभिनय की दिशा एक-दूसरे से अलग है।
इनकी अदाकारी कहीं एक-दूसरे की धारा को नहीं काटती। सभी का नायकत्व अलग-अलग रंग दर्शाता है। सलमान खान को अलग तरह के एक्शन हीरो के रूप में मान्यता दी जाती है, तो शाहरुख़ खान का जलवा रोमांटिक हीरो का है!
आमिर खान पर कोई एक ठप्पा नहीं लगा, वे ‘थ्री इडियट्स’ भी करते हैं और ‘पीके’ में भी दिखाई देते हैं! अक्षय कुमार की अपनी अलग दिशा है। वे कभी ‘बेल बॉटम’ में एक्शन करते दिखाई देते हैं, तो ‘पैडमैन’ में उनका किरदार अलग ही तरह का होता है। 90 के दशक से आजतक इस कलाकार का जलवा बड़े परदे पर जस का तस बरक़रार है।
लेकिन, अमिताभ बच्चन सबसे अलग हैं। अभिनय के अपने शुरुआती दौर में एंग्री मैन बने इस कालजयी अभिनेता ने हर किरदार निभाया। इनमें सबसे छोटे रितिक की असल पहचान तो एक्शन हीरो की है, पर वे ‘काबिज’ और ‘सुपर 30’ जैसी फ़िल्में करके चौंका भी देते हैं।
फिल्म इंडस्ट्री पर नजर रखने वाली मीडिया शोध कंपनी ‘ऑरमैक्स मीडिया’ के एक अध्ययन के मुताबिक अगर 2000 से 2014 तक के घरेलू बॉक्स ऑफिस नतीजों पर नजर डाली जाए, तो इन 14 सालों में फिल्म इंडस्ट्री में इन तीनों खानों की फिल्मों ने 4,388 करोड़ रुपए का कारोबार किया।
आमिर की फिल्मों ने इन सालों में घरेलू बॉक्स-ऑफिस पर 1,282 करोड़, शाहरुख की फिल्मों ने 1,472 करोड़ और सलमान की फिल्मों ने सबसे ज्यादा 1,634 करोड़ रुपए कमाए।
आमिर खान की चार फिल्मों ने बॉक्स-ऑफिस पर सौ करोड़ से ज्यादा की कमाई की। 300 करोड़ से ज्यादा कमाकर उनकी ‘पीके’ बॉक्स-ऑफिस पर ज्यादा कमाई का रिकॉर्ड बना चुकी है।
सलमान खान की पिछली नौ फिल्मों ने बॉक्स-ऑफिस पर सौ करोड़ से ज्यादा की कमाई की। ‘बजरंगी भाईजान’ 300 करोड़ से ज्यादा कमाकर उनके लिए सबसे ज्यादा कमाई करने वाली फिल्म बन गई। शाहरुख खान भी पीछे नहीं हैं, उनकी छह फिल्मों ने सौ करोड़ से ज्यादा का धन बरसाया। ‘चेन्नई एक्सप्रेस’ कमाई के मामले में उनकी सफलतम फिल्म का दर्जा हासिल किया।
Hero3
दुनियाभर में तीन खानों की फिल्मों की कमाई के आंकड़ों को अगर उंगलियों पर गिनना शुरू करें, तो ओवरसीज मार्केट में आमिर खान पहले, सलमान खान दूसरे और शाहरुख खान तीसरे नंबर पर हैं।
आमिर की ‘धूम 3’ दुनियाभर में 542 करोड़ रुपए का कारोबार किया। इसके बाद ‘पीके’ ने दुनियाभर से 792 करोड़ कमाकर न सिर्फ खुद को सफलतम हिंदी फिल्म के खिताब पाया, बल्कि आमिर को भी ओवरसीज मार्केट में नंबर वन बनाया।
Hero2
दुनिया में 626 करोड़ कमाकर ‘बजरंगी भाईजान’ ने सलमान को इस ओवरसीज मार्केट का दूसरे नम्बर का प्रभावशाली अभिनेता बना दिया। कुछ साल पहले तक इस मार्केट के बेताज बादशाह रहे शाहरुख को 422 करोड़ रुपए कमा चुकी ‘चेन्नई एक्सप्रेस’ ने तीसरे स्थान पर मजबूत जगह दी।
आज के दौर के ये 5-6 नायक गुजरे ज़माने के तीन नायकों राज कपूर, देव आनंद और दिलीप कुमार की याद दिलाते हैं। सिनेमा के स्वर्णिम इतिहास की ये सफल तिकड़ी ऐसी थी, जिनकी अधिकांश फिल्में हिट होती थी।
उन तीनों नायकों के बाद अब समय बहुत ज्यादा बदल गया, पर इन उंगलियों पर गिने जाने वाले 5-6 नायकों का दबदबा बरसों से बरक़रार है।
अमिताभ बच्चन का दौर बेहद उतार-चढाव भरा रहा! उन्होंने अपनी अभिनय यात्रा में बहुत संघर्ष किया है। कम से कम तीन बार ऐसा वक़्त आया, जब अमिताभ की फ़िल्में बुरी तरह फ्लॉप हुई!
लेकिन, हर बार वे संभले, खड़े हुए और फिर दौड़ पड़े! यही स्थिति अक्षय कुमार और रितिक रोशन के साथ भी आई।
अक्षय और रितिक दोनों का शुरूआती दौर रोमांटिक रहा, पर बाद में दोनों ने एक्शन को अपनी पहचान बनाया और उनकी इसी खासियत ने उन्हें लंबी रेस का मौका दिया। जबकि, खान तिकड़ी का माहौल कुछ अलग ही रहा।
शाहरुख़ और सलमान का समय जरूर ऊपर-नीचे होता रहा, पर आमिर एक अपनी गति से चलते रहे। आज सारे नायक इनके सामने फीके हैं, इसलिए कि दर्शकों की पसंद में इनके सामने कोई नहीं ठहरता!